और पढ़ने के लिए
ऐप डाउनलोड करें

क्‍या आपके पेरेंट्स के हाथ कभी-कभी कांपने लगते हैं? एक्‍सपर्ट बता रहे हैं इस बारे में विस्‍तार से

Updated on: 10 December 2020, 12:41pm IST
कभी लिखते-पढ़ते हुए, तो कभी हाथ में पानी का गिलास पकड़े हुए एजिंग पेरेंट्स के कांपते हाथों को देखना, चिंताजनक अनुभव होता है। पर क्‍या यह वाकई चिंता करने वाली बात है? एक्‍सपर्ट बता रहे हैं इस बारे में विस्‍तार से।
Dr. S.S. Moudgil
  • 57 Likes
हाथों का कांपना कभी-कभी गंभीर न्‍यूरोलॉजिक विकार भी हो सकता है। चित्र: शटरस्‍टॉक
हाथों का कांपना कभी-कभी गंभीर मधुमेह का विकार भी हो सकता है। चित्र: शटरस्‍टॉक

हमारे पेरेंट्स जो हमारे लिए हमेशा से रोल मॉडल रहे हैं, उन्‍हें कमजोर पड़ते देखना अच्‍छा नहीं लगता। खासतौर से तब जब पानी का गिलास पकड़ते हुए भी उनके हाथ कांपने लगते हैं। यह कंपन (Tremor) की एक स्थिति होती है, जो किसी को भी हो सकती है। कभी-कभी कंपन शरीर के साथ-साथ आवाज में भी हो सकता है। पर क्‍यों होते हैं ऐसे कंपन और क्‍या इन्‍हें नियंत्रित किया जा सकता है? इस बारे में जानते हैं विस्‍तार से।

क्‍यों कांपते हैं हाथ

कंपन एक तंत्रिका तंत्र (न्यूरोलॉजिकल) विकार है, जो अनैच्छिक और लयबद्ध झटकों का कारण
बनता है। यह शरीर के लगभग किसी भी हिस्से को प्रभावित कर सकता है, लेकिन अधिकतर यह हाथों में होता है। खासकर तब जब व्यक्ति कोई आसान सा काम कर रहा होता है। जैसे गिलास से पानी पीना या जूते के फीते बांधना।

आमतौर पर कंपन दो तरह के होते हैं

अस्थायी- साइकोजनिक ट्रेमेर्स
कई कारण हो सकते हैं यथा इम्तिहान, इंटरव्यू से पहले, व्यापार में आर्थिक हानि या कार्यस्थल या घर परिवार में लड़ाई या लड़ाई की संभावना, किसी छुप कर किया गया कोई काम। ज्‍यादा शराब पीने, स्‍मोकिंग और कुछ दवाएं जैसे जुकाम या उल्टी की दवाएं, चिंता दूर करने की दवाओं आदि का सेवन।

40 के बाद कंपन की समस्‍या देखी जा सकती है। चित्र: शटरस्‍टॉक
40 के बाद कंपन की समस्‍या देखी जा सकती है। चित्र: शटरस्‍टॉक

स्थायी
स्थायी ट्रेमर भी दो तरह के होते हैं – 1. साधारण, सौम्य या एस्सेन्सियल ट्रेमेर्स और 2. रोग संबन्धित ट्रेमेर्स।

किसी बीमारी के कारण भी हो सकता है कंपन

अनेक बीमारियों में भी कंपन हो सकते हैं, जो उस रोग के उपचार से ठीक हो जाते हैं। उच्च रक्तचाप, हाइपर थायराइडिज्‍म, सेरिबेलर कंपन- दिमाग की बीमारियां यथा ब्रेन स्ट्रोक, ब्रेन कैंसर, अल्कोहल से होने वाला नुकसान, अटैक्सिया एक्स सिंड्रोम, मल्‍टीपल स्क्लेरोसिस या कैंसर में होने वाली केमोथेरेपी या रेडियोथेरेपी के दौरान, जो बाद में भी रह सकते हैं। जिगर या किडनी के रोगों में भी ये देखे जा सकते हैं।

इनमें एक विशेष रोग पार्किंसनिज़्म ऐसा रोग है, जिसका इलाज संभव नहीं होता। और इसके लिए हमेशा दवा लेनी पड़ती है।

एसेंसियल ट्रेमर

एसेंसियल ट्रेमर (पहले भी सौम्य एसेंसियल ट्रेमर या पारिवारिक कंपन कहा जाता है) सबसे आम कंपन विकारों में से एक है। एसेंसियल ट्रेमर का सही कारण अज्ञात है। कुछ लोगों के लिए यह कंपन हल्का है और कई वर्षों तक स्थिर रहता है। कंपन आमतौर पर शरीर के दोनों पक्षों को प्रभावित करता है।

एसेंसियल ट्रेमर की प्रमुख विशेषता दोनों हाथों और बाहों में एक कंपन है, जो काम करने पर दिखाई देता है। अतिरिक्त लक्षणों में सिर के कंपन (जैसे, एक “हां” या “नहीं” गति) सिर के असामान्य रुख के बिना और आवाज को हिलाते या स्पंदन ध्वनि शामिल हो सकते हैं। यदि कंपन आवाज बॉक्स को प्रभावित करता है।

अब जानते हैं कुछ विशेष ट्रेमेर्स के बारे में

डिस्टोनिक ट्रेमर

डिस्टोनिक कंपन उन लोगों में होता है जो डिस्टोनिया से प्रभावित होते हैं। यह एक आंदोलन विकार जहां मस्तिष्क से गलत संदेश मांसपेशियों को अति सक्रिय कर देते हैं, जिसके परिणामस्वरूप असामान्य मुद्राएं या निरंतर, अवांछित मूवमेंट होते हैं। डिस्टोनिक कंपन

आमतौर पर युवा या मध्यम आयु वर्ग के वयस्कों में दिखाई देता है और शरीर में किसी भी मांसपेशी को प्रभावित कर सकता है। लक्षणों को कभी-कभी पूरी छूट से राहत मिल सकती है।
हालांकि लक्षणों में से कुछ समान हैं, डिस्टोनिक कंपन कुछ मायनों में एसेंसियल ट्रेमर से अलग है।

क्‍या हैं डिस्टोनिक ट्रेमर्स के संकेत:

सशक्त मांसपेशियों की ऐंठन या ऐंठन के कारण असामान्य शरीर मुद्राएं। इसके अलावा, प्रभावित शरीर के अंग या मांसपेशियों को छूने से डिस्टोनिक कंपन रुक जाते हैं या कम किया जा सकता है। यह कंपन लयबद्ध की बजाय “झटकेदार” या अनियमित होते हैं।

इससे मांसपेशियों में झटका या ऐंठन हो सकती है। चित्र: शटरस्‍टॉक
इससे मांसपेशियों में झटका या ऐंठन हो सकती है। चित्र: शटरस्‍टॉक

वास्तव में केवल दो तरीके के ट्रेमर ही इलाज मांगते हैं – एसेंसियल ट्रेमर एवं पारिकिंसोनियन ट्रेमर्स।

एसेंसियल ट्रेमर के संकेत और लक्षण:

ये धीरे-धीरे शुरू होते है। शरीर के किसी एक तरफ अधिक प्रमुखता से हिलाने-डुलाने या काम करने पर बढ़ जाते हैं
पहले एक हाथ या दोनों हाथों को प्रभावित करते हैं। फिर किसी भी अंग को प्रभावित कर सकते हैं यथा सिर “हाँ-हां” या “नहीं-” हिलाते वक्त। भावनात्मक तनाव, थकान, कैफीन या तापमान के बढ़ जाने पर।

एसेंसियल ट्रेमर बनाम पार्किंसंस रोग

कई लोगों को पार्किंसंस रोग के साथ झटके भी होते हैं, लेकिन दो स्थितियों में अलग हैं :
झटके का समय- हाथों का एसेंसियल ट्रेमर आमतौर पर तब होता है जब व्यक्ति अपने हाथों का उपयोग करते हैं। पार्किंसंस रोग से झटके सबसे प्रमुख हैं तब होते हैं जब हाथ शरीर के बगल में होते हैं या व्यक्ति की गोद में आराम से रखे होते हैं।

संबद्ध स्थितियां – एसेंसियल ट्रेमर अन्य स्वास्थ्य समस्याओं का कारण नहीं है, लेकिन पार्किंसंस रोग मुद्रा, धीमी गति से आंदोलन और फेरबदल के साथ जुड़ा हुआ है। हालांकि, एसेंसियल ट्रेमर वाले लोग कभी-कभी अन्य न्यूरोलॉजिकल संकेत और लक्षण विकसित करते हैं, जैसे कि एक अस्थिर चाल (एटैक्सिया)।

शरीर के कुछ हिस्से प्रभावित एसेंसियल ट्रेमर में मुख्य रूप से हाथ, सिर और आवाज शामिल हैं। पार्किंसंस रोग के झटके आमतौर पर हाथों में शुरू होते हैं, फिर पैरों, ठोड़ी और शरीर के अन्य हिस्सों को प्रभावित कर सकते हैं।

कारण

एसेंसियल ट्रेमर के आधे मामलों में एक आनुवंशिक उत्परिवर्तन दिखाई देते हैं। इस रूप को पारिवारिक कंपन के रूप में जाना जाता है, यह स्पष्ट नहीं है।

एसेंसियल ट्रेमर के लिए ज्ञात जोखिम कारकों में शामिल हैं:

आनुवांशिक उत्परिवर्तन एसेंसियल ट्रेमर (पारिवारिक कंपन) की विरासत में मिली विविधता एक ऑटोसोमल प्रमुख विकार है। जो माता-पिता से मिले एक दोषपूर्ण जीन की वजह से होता है।
माता-पिता में से कोई भी अगर एसेंसियल ट्रेमर से पीड़ित है, तो संतान को होने की 50 प्रतिशत संभावना रहती है।

फैमिली हिस्‍ट्री में ट्रेमर को ट्रिगर कर सकती है। चित्र: शटरस्‍टॉक
फैमिली हिस्‍ट्री में ट्रेमर को ट्रिगर कर सकती है। चित्र: शटरस्‍टॉक

उम्र – एसेंसियल ट्रेमर 40 और उससे अधिक उम्र के लोगों में अधिक आम है।
निदान

क्‍या इसका उपचार संभव है? 

कंपन निदान – असल में एसन्शियल कंपन अन्य रोगों की पहचान को निरस्त कर ही डाइग्नोस होता है यानि डिफ़्फेरेसियल डायग्नोसिस के आधार पर। इसका निदान शारीरिक परीक्षण व हिस्ट्री और तंत्रिका विज्ञान की जांच व फैमिली हिस्ट्री से आरंभ होता है। हिस्ट्री में ये सवाल पूछे जाते हैं – कंपन किस जगह से शुरू है यथा हाथ कब होता है काम करने या जब मांसपेशियां आराम
में हों तब। एक ओर या दोनों ओर, कंपन आवृत्ति और आयाम।

इसके लिए न्यूरोलॉजिकल टेस्‍ट किया जाता है। जिसमें टेंडन सजगता,मांसपेशियों की ताकत और टोन, कुछ संवेदनाओं यथा गरम ठंडा या छूअन महसूस करने की क्षमता, चाल।

कुछ मामलों में लेबोरेटरी टेस्‍ट की भी जरूरत पड़ती है। इसमें रक्त और मूत्र सहित कई कारकों के लिए परीक्षण किया जा सकता है। जैसे – थायराइड रोग, मेटाबॉलिक समस्याएं, दवा के दुष्प्रभाव, रसायनों का स्तर जो कंपन का कारण बन सकता है।

एसेंसियल ट्रेमर के लक्षण हल्के हों, तो उपचार की आवश्यकता नहीं होती। अगर एसेंसियल ट्रेमर मुश्किल काम करने या दैनिक गतिविधियों को प्रभावित करते हों, तो इलाज किया जाता है।

Dr. S.S. Moudgil Dr. S.S. Moudgil

Dr. S.S. Moudgil is senior physician M.B;B.S. FCGP. DTD. Former president Indian Medical Association Haryana State.