क्‍या आप जानती हैं कि ज्‍यादा कैफीन आपकी आंखों को भी नुकसान पहुंचा सकता है, जानिए इसका कारण

Updated on: 25 April 2022, 15:41 pm IST

अगर आप भी दिन भर में बहुत ज्‍यादा कॉफी का सेवन करती हैं, तो ये खबर आपके लिए एक चेतावनी है।

ज्‍यादा कैफीन आपकी आंखों को भी नुकसान पहुंचा सकता है। चित्र-शटरस्टॉक.
ज्‍यादा कैफीन आपकी आंखों को भी नुकसान पहुंचा सकता है। चित्र-शटरस्टॉक.

यदि आप कॉफी पीती हैं और दिन में चार कप से अधिक पीती हैं, तो आपको अपनी आंखों की सुरक्षा के लिए अपने परिवार की मेडिकल हिस्ट्री की जांच करानी चाहिए। हाल ही में सामने आए एक अध्‍ययन में पता चला है कि यह आपके लिए ग्‍लूकोमा का खतरा बढ़ा सकती है। जानिए कैसे कैफीन और ग्‍लूकोमा की फैमिली हिस्‍ट्री आपके लिए खतरनाक हो सकती है।

क्‍या कहता है अध्‍ययन

माउंट सिनाई में आईकन स्कूल ऑफ मेडिसिन द्वारा किए गए एक अंतरराष्ट्रीय बहु-केंद्र अध्ययन से पता चलता है कि बड़ी मात्रा में नियमित कैफीन का सेवन करने से उन लोगों के लिए ग्लूकोमा का खतरा तीन गुना से अधिक बढ़ सकता है, जो पहले से आनुवंशिक गुणों का सामना कर रहे है। ग्लूकोमा में आहार-आनुवांशिक संपर्क को प्रदर्शित करने वाला यह पहला अध्ययन है।

ओप्थाल्मोलॉजी के जून प्रिंट अंक में प्रकाशित अध्ययन के नतीजे यह सुझाव दे सकते हैं कि ग्लूकोमा के मजबूत पारिवारिक इतिहास वाले मरीजों को कैफीन का सेवन कम करना चाहिए।

आईओपी (IOP) या इंट्रा-ऑकुलर प्रेशर आंख के अंदर का दबाव है। अध्ययनों ने पहले साबित किया है कि ऊंचा आईओपी ग्लूकोमा की प्रगति के लिए एक मजबूत कारक है।

ग्लूकोमा के मजबूत पारिवारिक इतिहास वाले रोगियों को कैफीन का सेवन कम करना चाहिए। चित्र: शटरस्‍टॉक ।
ग्लूकोमा के मजबूत पारिवारिक इतिहास वाले रोगियों को कैफीन का सेवन कम करना चाहिए। चित्र: शटरस्‍टॉक ।

पारीवारिक इतिहास करता है प्रभावित

अध्ययन से पता चलता है कि ग्लूकोमा के मजबूत पारिवारिक इतिहास वाले रोगियों को कैफीन का सेवन कम करना चाहिए।

माउंट सिनाई अस्पताल की रिपोर्ट के अनुसार, “अध्ययन महत्वपूर्ण है क्योंकि ग्लूकोमा संयुक्त राज्य अमेरिका में अंधेपन का प्रमुख कारण है। यह ग्लूकोमा पर कैफीन के सेवन के प्रभाव को दिखाता है, और अंतःस्रावी दबाव (IOP) जो आंख के अंदर का दबाव है। ऊंचा आईओपी ग्लूकोमा के लिए एक मजबूत जोखिम कारक है, हालांकि और कारक भी इस स्थिति में योगदान करते हैं। ग्लूकोमा के साथ, रोगियों को आमतौर पर बीमारी बढ़ने तक कम या कोई लक्षण अनुभव नहीं होता। अंत में उनकी दृष्टि हानि होती है।”

क्‍यों जरूरी है इस पर ध्‍यान देना

“हमने पहले यह सुझाव दिया था कि उच्च कैफीन के सेवन से बीमारी के पारिवारिक इतिहास वाले लोगों में हाई-टेंशन ओपन-एंगल ग्लूकोमा का खतरा बढ़ जाता है। इस अध्ययन में हम देखते हैं कि उच्च कैफीन सेवन और ग्लूकोमा के बीच एक प्रतिकूल संबंध केवल उन लोगों में स्पष्ट था, जिनके आंखों के दबाव के लिए उच्चतम अनुवांशिक जोखिम था।”

क्‍या आप भी खाना खाने के बाद कॉफी पीती है? चित्र: शटरस्‍टॉक
क्‍या आप भी खाना खाने के बाद कॉफी पीती है? चित्र: शटरस्‍टॉक

कैसे किया गया शोध

जिन लोगों ने दैनिक जीवन में कैफीन की उच्चतम मात्रा का सेवन किया, जो है- 480 मिलीग्राम से अधिक (जो लगभग चार कप कॉफी है) – उनका IOP 0.35 mmHg अधिक था। इसके अतिरिक्त, उच्चतम आनुवंशिक जोखिम स्कोर श्रेणी में, जिन्होंने 321 मिलीग्राम जितना दैनिक जीवन में कैफीन का सेवन किया – (लगभग तीन कप कॉफी) – उन लोगों की तुलना में 3.9 गुना अधिक ग्लूकोमा का प्रसार हुआ, जो बिना या कम से कम कैफीन पीते हैं और सबसे कम कैफीन का सेवन करते हैं।

आनुवंशिक जोखिम स्कोर समूह, इसका मतलब है कि यदि आप आनुवंशिक रूप से उच्च IOP के शिकार हैं, तो दिन में 3 कप कॉफी भी आपके लिए बहुत अधिक है।

अमेरिका में माउंट सिनाई अस्पताल के एक अध्ययन से पता चलता है कि उच्च कैफीन सेवन और ग्लूकोमा के बीच एक प्रतिकूल संबंध केवल उन लोगों में स्पष्ट था, जिनकी आंखों के दबाव के लिए उच्चतम आनुवंशिक जोखिम था।

इसे भी पढ़ें-ब्‍लड शुगर घटाने से लेकर इम्‍युनिटी बढ़ाने तक यहां हैं बरगद के फल के 6 स्‍वास्‍थ्‍य लाभ

अंबिका किमोठी अंबिका किमोठी

योगा, डांस और लेखनी, यही सफर के साथी हैं। अपनी रचनात्‍मकता में देखूं कि ये दुनिया और कितनी प्‍यारी हो सकती है।

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें