लॉग इन

गर्मियों में क्यों मुश्किल हो जाती है रातों की नींद, जानिए इसका कारण और नींद में सुधार करने के उपाय

मौसम में ये बदलाव आपके नियंत्रण से बाहर है लेकिन फिर भी ऐसे कई चीजें है जो आपके नियंत्रण के अंदर है। जिनमें आप बदलाव करके अपने नींद के पैटर्न में सुधार कर सकते है।
गर्मियों के महीनों में आपकी नींद न आने के पीछे सबसे संभावित कारण शाम को आपको मिलने वाली अतिरिक्त धूप है। चित्र- अडोबी स्टॉक
संध्या सिंह Published: 18 Jun 2024, 08:00 pm IST
ऐप खोलें

अगर आपको लगता है कि मौसम के साथ आपकी नींद का पैटर्न बदलता रहता है, तो आप अकेले नहीं हैं। शोध से पता चलता है कि मौसम में बदलाव आपके मूड और नींद के समय से लेकर नींद की असामान्यताओं की आवृत्ति तक सब कुछ प्रभावित कर सकता है। गर्मियों में, विशेष रूप से, अच्छी गुणवत्ता वाली नींद लेना मुश्किल हो सकता है। गर्मियों में रातें छोटी होती है और दिन लंबे होने के कारण सोना और अधिक मुश्किल हो जाता है।

मौसम में ये बदलाव आपके नियंत्रण से बाहर है लेकिन फिर भी ऐसे कई चीजें है जो आपके नियंत्रण के अंदर है। जिनमें आप बदलाव करके अपने नींद के पैटर्न में सुधार कर सकते है। चलिए जानते है आपको गर्म मौसम के दौरान पर्याप्त नींद लेने में क्यों कठिनाई हो सकती है और इससे निपटने के लिए आप क्या कर सकते हैं।

गर्मियों में अच्छी नींद लेना क्यों मुश्किल है

1 अधिक दिन की रोशनी

गर्मियों के महीनों में आपकी नींद न आने के पीछे सबसे संभावित कारण शाम को आपको मिलने वाली अतिरिक्त धूप है। वास्तव में, यह अतिरिक्त रोशनी आपके शरीर के मेलाटोनिन उत्पादन को दबा देती है, जो एक हार्मोन है जो आपके शरीर को यह बताने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है कि सोने का समय हो गया है।

गर्मियों के मौसम में अक्सर होने वाला गर्म मौसम भी नींद आने और सोते रहने को मुश्किल बना सकता है। चित्र- अडोबी स्टॉक

2 गर्म तापमान

गर्मियों के मौसम में अक्सर होने वाला गर्म मौसम भी नींद आने और सोते रहने को मुश्किल बना सकता है। आपका शरीर स्वाभाविक रूप से ठंडा हो जाता है क्योंकि वह नींद के लिए तैयार होता है, लेकिन अगर आपका घर या आपका कमरा बहुत गर्म है, तो संभावना है कि आपको कम नींद आएगी।

3 सामाजिक कारण

गर्मियों के समय के दौरान, लोगों में अक्सर सामाजिक गतिविधियां, काम से संबंधी कार्यक्रम और अन्य सामाजिक कारक बढ़ जाते हैं, जिसके कारण उन्हें देर से सोना पड़ता है और नींद का समय बाधित होता है। कभी-कभी इसे सोशल जेट लैग के रूप में भी जाना जाता है।

गर्मियों में बेहतर नींद के लिए कुछ टिप्स

1 अपने कमरे को ठंडा करें

अगर आपके पास एयर कंडीशनिंग है, तो उसे आरामदायक तापमान पर सेट करें। पंखे ज़्यादा किफ़ायती विकल्प हैं और ठंडी हवा दे सकते हैं। इसके लिए आप कुछ अच्चे सीलिंंग फैन खरीद सकते है जो आपको ठंडी हाव देने में मदद करेंगे। पंखो को साफ करना भी ध्यान रखें ताकि वो ठंडी हवा दें।

2 खुद को हाइड्रेटेड रखें

गर्मियों के दिनों में बेहतर नींद के लिए सबसे ज़रूरी है अपने शरीर को हाइड्रेटेड रखना। दिन में खूब पानी पिएं ताकि आप हाइड्रेटेड रहें। यह आपके शरीर के तापमान को बनाए रखने और रात में आपको ठंडा रखने में भी मदद करेगा। आपको रात में प्यास भी लग सकती है, इसलिए अपने बिस्तर के पास एक गिलास पानी रखें।

सोने से पहले ठंडे पानी से नहाएं, यह आपके शरीर को आराम देने और आपके दिमाग को शांत करने में मदद कर सकता है, जिससे आपको नींद आने में आसानी होगी।

स्वेटिंग यानी की पसीना त्वचा की गहरी परत, डर्मिस में ग्लैंड द्वारा निर्मित होता है। चित्र-: अडोबी स्टॉक

3 बिस्तर को न भूलें

यह बताने की कोई ज़रूरत नहीं है, लेकिन अपने भारी कंबल और रजाई पैक करें और हल्का बिस्तर लगाएं। अपने बिस्तर के लिए कुछ सूती चादरें लें। यह हल्की, सांस लेने योग्य होती है, और नमी को दूर रखने में मदद करती है, जिससे आपका शरीर नम रहता है, और पसीना नहीं आता। लिनन हल्का होता है और इसमें प्राकृतिक कूलिंग गुण होते हैं, जो इसे गर्मियों की रातों के लिए एकदम सही बनाता है।

4 आराम करने वाला एक रूटीन बनाएं

गर्मियों के दौरान, उच्च तापमान के कारण, सोने से पहले आराम करना थोड़ा मुश्किल हो सकता है। लेकिन अगर आपकी दिनचर्या और आदतें सही हैं, तो आराम करना काफी आसान हो सकता है। आराम करने और अपने शरीर को संकेत देने के लिए एक शांत सोने का रूटीन बनाएं कि यह सोने का समय है। शांत करने वाली एक्टिविटी के कुछ उदाहरण हैं, किताब पढ़ना, आरामदेह संगीत सुनना, योग करना या गहरी सांस लेना।

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

ये भी पढ़े- इन 3 स्थितियों में अच्छा नहीं है ज्यादा चावल खाना, एक्सपर्ट बता रहे हैं कारण

संध्या सिंह

दिल्ली यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट संध्या सिंह महिलाओं की सेहत, फिटनेस, ब्यूटी और जीवनशैली मुद्दों की अध्येता हैं। विभिन्न विशेषज्ञों और शोध संस्थानों से संपर्क कर वे  शोधपूर्ण-तथ्यात्मक सामग्री पाठकों के लिए मुहैया करवा रहीं हैं। संध्या बॉडी पॉजिटिविटी और महिला अधिकारों की समर्थक हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख