और पढ़ने के लिए
ऐप डाउनलोड करें

क्या आप जानती हैं कि फाइब्रॉएड से बांझपन का खतरा भी हो सकता है? एक्‍सपर्ट बता रहीं हैं इस बारे में विस्‍तार से

Published on:25 May 2021, 20:00pm IST
क्या आप फाइब्रॉएड (रसौली) के बारे में जानती हैं? अगर हां, तो आपको ये जानकर हैरानी होगी कि फाइब्रॉएड से बांझपन भी हो सकता है। यहां, हम आपको फाइब्रॉएड और बांझपन के बीच का संबंध बताएंगे।
Dr Karishma Dafle
  • 87 Likes
फायब्रॉएड आपकी प्रजनन क्षमता को भी प्रभावित करता है। चित्र: शटरस्‍टॉक
फायब्रॉएड आपकी प्रजनन क्षमता को भी प्रभावित करता है। चित्र: शटरस्‍टॉक

फाइब्रॉएड एक सामान्य घटना है। अक्सर, इसके लिए एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन हार्मोन के लिए जिम्मेदार ठहराया जाता है। बहुत से लोग नहीं जानते, लेकिन प्रजनन आयु से पहले भी फाइब्रॉएड को देखा जाता है। इसके अलावा ये घटना मुख्य रूप से प्रजनन वर्षों के दौरान देखी जाती है और ये रजोनिवृत्ति के बाद वापस आ जाती हैं।

रसौली को सबम्यूकस फाइब्रॉएड के रूप में वर्गीकृत किया जाता है, जिसका मतलब है कि फाइब्रॉएड गर्भाशय गुहा के अंदर मौजूद होता है। इंट्राम्यूरल फाइब्रॉएड तब होता है जब ये गर्भाशय के अंदर होता है, और सबसेरोसल फाइब्रॉएड वो होता है जो आपके गर्भाशय के बाहर बनता है।

फाइब्रॉएड जिससे बनाता है उसके कुछ कारण यहां दिए गए हैं जैसे – मोटापा और एस्ट्रोजेन का बढ़ता एक्‍सपोजर। फाइब्रॉएड उम्र के साथ बढ़ता है और अगर किसी महिला को मोनो-ट्विन है, तो उसमें फाइब्रॉएड विकसित होने का खतरा 2.5% बढ़ जाता है। अगर कोई व्यक्ति इसी समस्या से पीड़ित है, तो शरीर के वजन या यहां तक ​​कि बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) में हर 10 किलोग्राम की वृद्धि के साथ फाइब्रॉएड का खतरा बढ़ जाता है।

पहचानिए फाइब्रॉएड के लक्षणों को

फाइब्रॉएड से पीड़ित लोगों में बहुत से लक्षण देखने को मिलते हैं पर 50 प्रतिशत से ज्यादा रोगियों में कोई लक्षण नजर नहीं आता। फाइब्रॉएड के लक्षण स्थान और आकार की उपस्थिति पर निर्भर करते हैं। फाइब्रॉएड असामान्य गर्भाशय रक्तस्राव का कारण बन सकता है, डिसमेनोरिया (मासिक धर्म के दौरान होने वाला दर्द), लगातार पेल्विक दर्द या पीठ में दर्द होना है। कभी-कभी फाइब्रॉएड के आकार में वृद्धि होने पर दबाव के लक्षण देखे जा सकते हैं।

इसके लिए यह जांचना होगा कि रसौली की स्थिति क्‍या है।चित्र : शटरस्टॉक
इसके लिए यह जांचना होगा कि रसौली की स्थिति क्‍या है।चित्र : शटरस्टॉक

यदि फाइब्रॉएड मूत्राशय पर दबाव डालता है, तो ये पेशाब की आवृत्ति या हाइड्रोनफ्रोसिस (मूत्र के निर्माण के कारण गुर्दे की सूजन) की आवृत्ति में वृद्धि करता है। यदि ये आंत्र प्रणाली पर दबाव डालता है, तो ये कब्ज भी पैदा कर सकता है। इससे रोगी को पेट में एक गांठ महसूस हो सकती है और कभी-कभी, ये 2% से 10% रोगियों में बांझपन का कारण भी बन सकता है।

फाइब्रॉएड और बांझपन

फाइब्रॉएड स्थान और आकार के आधार पर बांझपन का कारण भी बन सकता है। फाइब्रॉएड से बांझपन होने का कारण हो सकता है – गर्भाशय ग्रीवा का विस्थापन, फैलोपियन ट्यूब का रोड़ा, फैलोपियन ट्यूब का खिंचाव और ट्यूब-डिम्बग्रंथि संबंध में गड़बड़ी।

इसमें एंडोमेट्रियल पतला भी हो सकता है, अगर ये एक सबम्यूकस फाइब्रॉएड है, तो इन सभी कारणों से बांझपन हो सकता है। सबम्यूकस फाइब्रॉएड की उपस्थिति प्रजनन दर को कम करती है और यदि आप इन फाइब्रॉएड को हटा दें, तो प्रजनन दर बढ़ जाती है।

सबसेरोसल फाइब्रॉएड – ये गर्भाशय के बाहर होता है और आमतौर पर प्रजनन दर को प्रभावित नहीं करता है।

इंट्राम्यूरल फाइब्रॉएड – ये गर्भाशय के शरीर के अंदर होता है, प्रजनन क्षमता को थोड़ा कम करता है,

क्‍या फाइब्रॉएड से निजात पायी जा सकती है

ट्रांसवेजाइनल सोनोग्राफी के माध्यम से फाइब्रॉएड से निजात पाया जा सकता है। ये सबसे आसानी से उपलब्ध होने वाली और कम खर्चीली तकनीक है। इसलिए फाइब्रॉएड से निजात पाने के लिए सोनोग्राफी के अलावा, एक एमआरआई और सेलाइन इन्फ्यूजन सोनोग्राफी का विकल्प भी चुना जा सकता है।

घबराएं नहीं, इसका उपचार संभव है। चित्र: शटरस्‍टॉक
घबराएं नहीं, इसका उपचार संभव है। चित्र: शटरस्‍टॉक

इसे करते समय, फाइब्रॉएड के आकार, फाइब्रॉएड की संख्या और फाइब्रॉएड की स्थिति की जांच की जाती है। इन्हीं आधार पर सर्जरी का निर्णय लिया जाता है। बांझपन को कम करने के लिए, उन्हें चिकित्सा उपचार दिया जाता है कि क्या फाइब्रॉएड आकार में कम हो रहा है। यदि फाइब्रॉएड वापस नहीं आ रहा है तो रोगी को मायोमेक्टोमी के माध्यम से फाइब्रॉएड को हटाने का सुझाव दिया जाता है।

फाइब्रॉएड का इलाज

मेडिकल और सर्जरी मैथड दोनों तरीकों से ट्रीटमेंट हो सकता है। फाइब्रॉएड को हटाने के लिए सर्जरी को मायोमेक्टोमी के रूप में जाना जाता है। यदि रोगी ने गर्भावस्था की योजना बनाने से पहले फाइब्रॉएड को हटा दिया है, तो प्रेग्नेंसी की संभावना ज्यादा होगी। पहले फाइब्रॉएड के आकार की जांच करें और उसके बाद ही विशेषज्ञ से सलाह लेने के बाद इसे हटाने का निर्णय लें।

यह भी पढ़ें – महामारी के दौरान गर्भवती होने को लेकर तनाव में हैं, तो प्रजनन विशेषज्ञ से जानिए इससे निपटने के उपाय

Dr Karishma Dafle Dr Karishma Dafle

Dr Karishma Dafle is a fertility consultant at Nova IVF Fertility, Pune.