इन 6 फलों के साथ आप भी कर सकती हैं बिना किसी दवा के डायबिटीज कंट्रोल, करें डेली डाइट में शामिल

एक भ्रामक धारणा है कि फल मीठे होते हैं, इसलिए उनके सेवन से ब्लड शुगर लेवल भी बढ़ जाता है। जबकि ऐसा नहीं है। फलों में मौजूद प्राकृतिक मिठास डायबिटीज कंट्रोल करने में आपकी मदद कर सकती है।
diabetes patient ke liye faydemand fal
कुछ फल ब्लड शुगर लेवल कंट्रोल करने में मदद करते हैं। चित्र : एडोबी स्टॉक
स्मिता सिंह Updated: 23 Oct 2023, 09:08 am IST
  • 128

जीवनशैली और खानपान प्रभावित होने पर डायबिटीज होने का खतरा बढ़ जाता है। इंसुलिन के प्रोडक्शन के प्रभावित होने पर ब्लड शुगर लेवल बढ़ जाता है। लंबे समय तक डायबिटीज रहने पर यह हमारे अंगों को प्रभावित करने लग जाता है। विशेषज्ञ बताते हैं कि ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल रखने के लिए हमें अपने खान-पान पर ध्यान देना चाहिए। हमें अपनी डाइट में ऐसे फलों को शामिल करना चाहिए, जो ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल रखने में मदद कर (6 fruits for diabetes patient) सके।

क्या कहते हैं आंकड़े

विकसित और विकासशील दोनों देशों में डायबिटीज महामारी की तरह फ़ैल चुकी है। इससे अब तक दुनिया भर के 36 करोड़ से अधिक लोग प्रभावित हो चुके हैं। गतिहीन जीवनशैली मोटापा, शहरीकरण के कारण आने वाले सालों में यह संख्या और अधिक बढ़ सकती है। लंबे समय तक डायबिटीज रहने पर यह न सिर्फ हार्ट, किडनी, इंटेस्टाइन, बल्कि मेंटल हेल्थ को भी प्रभावित करता है। जर्नल ऑफ़ एन्डोक्रिनोलोजी के अनुसार, मुख्य रूप से मेटाबोलिक रेट पर नियन्त्रण और जीवनशैली का सही प्रबंधन होने पर ही डायबिटीज के कारण होने वाले नुकसान से बचा जा सकता है। यदि अपनी डेली डाइट में कुछ खास फलों को शामिल किया जाए, तो ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल किया जा सकता है। लो ग्लाइसेमिक इंडेक्स वाले फ्रूट्स का ही चयन करना चाहिए।

यहां हैं 6 फल, जो ब्लड शुगर लेवल कंट्रोल करने में मदद कर सकते हैं 

1 एंटीऑक्सीडेंट वाला ड्रैगन फ्रूट (Dragon Fruit)

फार्मेकोगनोसी रिसर्च के अनुसार, लाल सब्जी और फल में अधिक एंटीऑक्सीडेंट मौजूद होते हैं। लाल ड्रैगन फ्रूट में कई तरह के एंटीऑक्सीडेंट जैसे कि हाइड्रॉक्सीसिनामेट्स और फ्लेवोनोइड्स होते हैं। ये कोशिकाओं को नुकसान से बचाते हैं। ड्रैगन फ्रूट की एक सर्विंग में लगभग 8-9 ग्राम शुगर मिलती है। यह कई अन्य सामान्य फलों से कम है। इसका जीआई स्कोर 48-52 के बीच है, जो डायबिटीज मैनेजमेंट डाइट के लिए सही है।

ड्रैगन फ्रूट एंटी इन्फ्लामेटरी गुणों वाला होता है। इसलिए यह ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल रखता है। चित्र : एडोबी स्टॉक

कम कैलोरी और पोषक तत्वों से भरपूर होने कारण भी यह डायबिटीज के मरीज के लिए बढ़िया फल है। जर्नल ऑफ़ फार्मेकोगनोसी एंड फाइटोकेमिस्ट्री के शोध आलेख के अनुसार, ड्रेगन फ्रूट में आयरन, मैग्नीशियम, कैल्शियम, जैसे मिनरल्स और फाइबर भी खूब पाए जाते हैं। यह एंटी इन्फ्लामेटरी गुणों वाला होता है। इसलिए यह ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल रखता है।

2 लो कैलोरी वाला पपीता (Papaya)

द न्यू इंग्लैंड जर्नल ऑफ़ मेडिसिन में प्रकाशित शोध आलेख के अनुसार, गर्मियों में पपीता खूब खाया जाता है। यह फल मधुमेह आहार के लिए बढ़िया है। दरअसल, पपीता एंटीऑक्सिडेंट और फाइबर से भरपूर होता है, जो शरीर में सेल डैमेज को रोकता है। यह विटामिन बी, फोलेट, पोटैशियम, मैग्नीशियम जैसे मिनरल्स से भरपूर होता है। यह लो कैलोरी वाला फल है। डायबिटीज के मरीज इस फल के गूदे से लेकर बीज तक कोई भी हिस्सा खा सकते हैं।

3 अचानक शुगर लेवल बढ़ने नहीं देता जामुन (Indian Blackberry) 

न्यूट्रीएंट जर्नल के अनुसार, जामुन को इंडियन ब्लैकबेरी या ब्लैक प्लम (Black Plum) के रूप में भी जाना जाता है। इसे मधुमेह रोगियों के लिए सबसे अच्छे फलों में से एक माना जाता है। जामुन में 82% पानी और 14.5% कार्बोहाइड्रेट होता है। यह सुक्रोज शुगर में भी कम है। फल में मौजूद जंबोसीन और जंबोलिन जैसे कंपाउंड स्टार्च को चीनी में बदलने की प्रक्रिया को धीमा कर देते हैं। यह शरीर में ब्लड शुगर लेवल में अचानक स्पाइक्स से बचने में मदद करता है। जामुन के सेवन से इंसुलिन के स्राव में सुधार भी हो सकता है।

4 लो ग्लायसेमिक इंडेक्स वाली कीवी (Kiwi)

द न्यू इंग्लैंड जर्नल ऑफ़ मेडिसिन में प्रकाशित शोध आलेख के अनुसार, कीवी हाई फाइबर वाले फल हैं। यह ब्लड शुगर लेवल को नियंत्रित करने में मदद करते हैं। कीवी का ग्लाइसेमिक इंडेक्स(Glycemic Index) कम होता है। इसका जीआई 49 होता है। इसका अर्थ यह है कि कीवी तेजी से ग्लूकोज में परिवर्तित नहीं होता है। यह ब्लड फ्लो में शामिल होने में समय लेता है।

कीवी तेजी से ग्लूकोज में परिवर्तित नहीं होता है। यह ब्लड फ्लो में शामिल होने में समय लेता है। चित्र : शटर स्टॉक

नाश्ते में फल खाने से ब्लड शुगर लेवल कम हो जाती है। इसका कारण यह है कि कीवी हाई फाइबर सामग्री होती है, जिसमें जल धारण क्षमता (Water retention ) होती है। जब इसका सेवन किया जाता है, तो फल पानी को सोख लेता है। जेल बाद में गाढ़ा हो जाता है, जो बाद में शुगर ट्रांसफॉर्मेशन की प्रक्रिया को धीमा कर देता है।

5 फाइबर से भरपूर है सेब (Apple)

जर्नल ऑफ़ एन्डोक्रिनोलोजी में प्रकाशित शोध आलेख के अनुसार, सेब सबसे अधिक खाया जानेवाला फल है। कहा भी गया है कि रोजाना एक सेब के सेवन से हर दिन डॉक्टर दूर रहते है। सेब में विटामिन सी, घुलनशील फाइबर और विभिन्न पोषक तत्व मौजूद होते हैं। इसके अलावा, फल में एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं, जो डायबिटीज के मरीज के लिए फायदेमंद है। हालांकि सेब में कार्ब्स होते हैं जो रक्त शर्करा के स्तर में वृद्धि कर सकते हैं। फल में मौजूद फाइबर ग्लूकोज के स्तर को स्थिर करती है।

6 विटामिन सी का सबसे बढ़िया स्रोत है संतरा (Orange)

न्यूट्रीएंट जर्नल के अनुसार, संतरे को साइट्रस फल परिवार का एक हिस्सा माना जाता है। मधुमेह रोगियों के लिए यह सुपरफूड्स में से एक माना जाता है। यह फल विटामिन सी, फाइबर, फोलेट और पोटैशियम से भरपूर होता है। इनके अलावा, संतरा फाइबर सामग्री से भरपूर होते हैं।

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें
orange in diabetes
विटामिन सी, फाइबर, फोलेट और पोटैशियम से भरपूर होता है संतरा। चित्र : शटरस्टॉक

इसलिए खपत के बाद शुगर टूटने में समय लगता है। डायबिटीज के मरीज को संतरे को रॉ या कच्चा रूप में खाना चाहिए

अंत में

मधुमेह के रोगी आहार में शामिल करने के लिए फलों का चयन करते समय हमेशा फलों के ग्लाइसेमिक इंडेक्स और पोषण प्रोफ़ाइल की जांच करने का प्रयास करें। इसके अलावा, पोर्शन को भी ध्यान में रखें।

यह भी पढ़ें :- पोषक तत्वों का खजाना है अनार, इन 6 फायदों के लिए आप भी करें पोस्ट ब्रेकफास्ट मील में शामिल

  • 128
लेखक के बारे में

स्वास्थ्य, सौंदर्य, रिलेशनशिप, साहित्य और अध्यात्म संबंधी मुद्दों पर शोध परक पत्रकारिता का अनुभव। महिलाओं और बच्चों से जुड़े मुद्दों पर बातचीत करना और नए नजरिए से उन पर काम करना, यही लक्ष्य है।...और पढ़ें

अगला लेख