डियर गर्ल्स, वीकेंड की लंबी नींद आपकी सेहत को नुकसान पहुंचा सकती है

Published on: 28 January 2022, 17:40 pm IST

अगर आपको हर मर्ज़ की दवा नींद लगती है, तो यह आपकी सेहत को नकारात्मक रूप से प्रभावित कर सकता है। इसलिए ओवरस्लीपिंग से बचें।

Oversleeping sehat ke liye unhealthy hai
ज्यादा सोना आपकी सेहत के लिए हानिकारक है। चित्र:शटरस्टॉक

रात की निर्धारित नींद आपकी सेहत के लिए अमृत समान है। लेकिन अगर आपका स्लीपिंग पैटर्न गलत है और आप जरूरत से ज्यादा सोना पसंद करते हैं, तो यह खतरे की घंटी है। सर्दियों में ज्यादा नींद आना स्वाभाविक है, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि आप ओवरस्लीपिंग (Oversleeping) करें। जब सोने की बात आती है, तो यह आपके लिए सबसे अच्छी बात हो सकती है। लेकिन ओवरस्लीपिंग को मधुमेह, हृदय रोग और मृत्यु के बढ़ते जोखिम सहित कई चिकित्सीय समस्याओं से जोड़ा गया है।

हालांकि, शोधकर्ता इस बात पर ध्यान देने में सावधानी बरतते हैं कि दो अन्य कारक- अवसाद और निम्न सामाजिक आर्थिक स्थिति, अत्यधिक नींद से जुड़े हैं। अगर आप भी जरूरत से ज्यादा सोते हैं, तो जानिए यह आपकी सेहत को कैसे प्रभावित करता है।

ओवरस्लीपिंग: कितनी नींद है बहुत नींद?

आपके लिए आवश्यक नींद की मात्रा आपके जीवनकाल में महत्वपूर्ण रूप से भिन्न होती है। यह आपकी उम्र और गतिविधि के स्तर के साथ-साथ आपके सामान्य स्वास्थ्य और जीवन शैली की आदतों पर निर्भर करता है। उदाहरण के लिए, तनाव या बीमारी की अवधि के दौरान, आपको नींद की अधिक आवश्यकता महसूस हो सकती है।

jyada sone se diabetes
ज़्यादा सोने से हो सकता है डायबिटीज। चित्र : शटरस्टॉक

हालांकि नींद की जरूरत समय के साथ और हर व्यक्ति में अलग-अलग होती है, विशेषज्ञ आमतौर पर सलाह देते हैं कि वयस्कों को हर रात सात से नौ घंटे के बीच सोना चाहिए।

क्यों होती है ओवरस्लीपिंग की परेशानी?

हाइपरसोमनिया (hypersomnia) से पीड़ित लोगों के लिए, अधिक सोना वास्तव में एक चिकित्सा विकार है। इस स्थिति के कारण लोग दिन भर अत्यधिक निद्रा से ग्रस्त रहते हैं, जो आमतौर पर झपकी लेने से दूर नहीं होता। यह उन्हें रात में असामान्य रूप से लंबे समय तक सोने का कारण बनता है। नींद की लगभग निरंतर आवश्यकता के परिणामस्वरूप हाइपरसोमनिया वाले बहुत से लोग चिंता, कम ऊर्जा और स्मृति समस्याओं के लक्षणों का अनुभव करते हैं।

ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया (obstructive sleep apnea), एक ऐसा विकार है जिसके कारण लोग नींद के दौरान पल भर के लिए सांस लेना बंद कर देते हैं। इससे भी नींद की आवश्यकता बढ़ सकती है। ऐसा इसलिए है क्योंकि यह सामान्य नींद चक्र को बाधित करता है।

बेशक, हर कोई जो अधिक सोता है उसे नींद की बीमारी नहीं होती है। ओवरस्लीपिंग के अन्य संभावित कारणों में कुछ पदार्थों का उपयोग शामिल है। इसमें शराब और कुछ नशे वाली दवाओं का सेवन है। अवसाद सहित अन्य चिकित्सीय स्थितियां, लोगों के अधिक सोने का कारण बन सकती हैं। फिर कुछ ऐसे लोग भी हैं जो बस बहुत सोना चाहते हैं।

Oversleeping se badh sakta hai wajan
ओवरस्लीपिंग से बढ़ सकता है वजन। चित्र:शटरस्टॉक

आपकी सेहत के लिए ओवरस्लीपिंग के जोखिम

1. मधुमेह (Diabetes)

अध्ययनों से पता चला है कि हर रात बहुत देर तक सोना या पर्याप्त नहीं सोना मधुमेह के खतरे को बढ़ा सकता है।

2. मोटापा (Obesity)

बहुत अधिक या बहुत कम सोने से भी आपका वजन बढ़ सकता है। एक हालिया अध्ययन से पता चला है कि जो लोग हर रात 9 या 10 घंटे सोते हैं, उनमें 7 से 8 घंटे के बीच सोने वाले लोगों की तुलना में छह साल की अवधि में 21% अधिक मोटे होने की संभावना होती है। नींद और मोटापे के बीच यह संबंध तब भी बना रहा जब भोजन के सेवन और व्यायाम को ध्यान में रखा गया।

3. सिरदर्द (Headache)

ओवरस्लीपिंग से कुछ लोगों को सिरदर्द होने का खतरा होता है। वीकेंड या छुट्टी पर सामान्य से अधिक समय तक सोने से सिर में दर्द हो सकता है। शोधकर्ताओं का मानना ​​​​है कि यह सेरोटोनिन सहित मस्तिष्क में कुछ न्यूरोट्रांसमीटर पर नींद के प्रभाव के कारण होता है। जो लोग दिन में बहुत अधिक सोते हैं और रात की नींद में खलल डालते हैं, वे भी सुबह सिरदर्द से पीड़ित हो सकते हैं।

peeth dard zyaada sne ke kaaran ho sakta hai
पीठ दर्द ज्यादा सोने के कारण हो सकता है। चित्र : शटरस्टॉक

4. पीठ दर्द (Backache) 

एक समय था जब डॉक्टर पीठ दर्द से लेकर सिर तक के दर्द से पीड़ित लोगों को सीधे बिस्तर पर लेटने की बात कहते थे। लेकिन वे दिन अब चले गए। जब आप पीठ दर्द का अनुभव कर रहे हों तो आपको अपने नियमित व्यायाम कार्यक्रम को कम करने की आवश्यकता नहीं हो सकती है। अपने डॉक्टर से जांच कराएं। डॉक्टर अब एक निश्चित स्तर की गतिविधि बनाए रखने की सलाह देते हैं।

5. अवसाद (Depression) 

हालांकि अनिद्रा (insomnia) ओवरस्लीपिंग की तुलना में अवसाद से अधिक जुड़ी होती है। लेकिन अवसाद से पीड़ित लगभग 15% लोग बहुत अधिक सोते हैं। यह बदले में उनके अवसाद को और खराब कर सकता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि ठीक होने की प्रक्रिया के लिए नियमित नींद की आदतें महत्वपूर्ण हैं।

6. दिल की बीमारी (Heart Disease) 

नर्सों के स्वास्थ्य अध्ययन में लगभग 72,000 महिलाएं शामिल थीं। उस अध्ययन के आंकड़ों के सावधानीपूर्वक विश्लेषण से पता चला है कि जो महिलाएं प्रति रात 9 से 11 घंटे सोती हैं, उनमें 8 घंटे सोने वाली महिलाओं की तुलना में कोरोनरी हृदय रोग होने की संभावना 38% अधिक होती है। शोधकर्ताओं ने अभी तक अधिक नींद और हृदय रोग के बीच संबंध के कारण की पहचान नहीं की है।

कैसे दूर कर सकते हैं ओवरस्लीपिंग की आदत?

1. पर्याप्त नींद लें, रात में सात से नौ घंटे।

2. वीकेंड पर अधिक न सोएं। इससे आपकी सर्कैडियन लय बंद हो जाती है और काम का सप्ताह आने पर सोना और भी मुश्किल हो जाता है।

Kamre mein dhoop aane de
कमरे में धूप आने दें। चित्र: शटरस्टॉक

3. जागने पर तेज धूप में जाएं। रात में पर्दे या ब्लाइंड्स को खुला छोड़ने पर विचार करें। वह सुबह की धूप आपको जगाने में मदद करेगी।

4. अलार्म घड़ी की तरह सुबह की धूप प्राप्त करने पर विचार करें। आप अलार्म बजने से 15 से 30 मिनट पहले अपने कमरे को रोशनी से भरने की कोशिश करें।

5. विशेष रूप से शाम 4 बजे के बाद अत्यधिक झपकी लेने से बचें। ये रात की नींद को अधिक कठिन बना सकते हैं और इसके परिणामस्वरूप बाद में अधिक नींद आ सकती है।

6. रात को अत्यधिक कैफीन और सोने के समय के ब्लू लाइट की संपर्क में कम आएं।

यह भी पढ़ें: अपच से लेकर वजन बढ़ने तक, ज्यादा गुड़ खाने से आपको उठाने पड़ सकते हैं ये 5 स्वास्थ्य जोखिम

अदिति तिवारी अदिति तिवारी

फिटनेस, फूड्स, किताबें, घुमक्कड़ी, पॉज़िटिविटी...  और जीने को क्या चाहिए !

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें