अभी कहीं नहीं जाने वाला कोरोना वायरस, इस जरूरी विटामिन के साथ करें इससे मुकाबला

लॉकडाउन 5 को असल में अनलॉकडाउन 1 कहा जा रहा है। अब आप कुछ चीजों के लिए बाहर निकलना शुरू कर चुके होंगे। ऐसे में संक्रमण का खतरा अब और भी ज्यादा है। ऐसी स्थिति में विटामिन डी आपका रक्षा कवच बन सकता है।
कोरोना वायरस से मुकाबला करना है तो खुद को मजबूत करें। चित्र: शटरस्‍टॉक
योगिता यादव Updated: 10 Dec 2020, 01:19 pm IST
  • 78

WHO ने भी कह दिया है कि अब हमें इस खतरनाक वायरस के साथ ही रहने की आदत डालनी पड़ेगी। अभी तक कोविड– 19 (Covid-19) कोरोना वायरस (Corona virus) की कोई भी वैक्सीकन नहीं बन पाई है। अभी तक आपकी इम्यूिनिटी ही इस खतरनाक वायरस के खिलाफ आपका रक्षा कवच है। तो अब जो नए शोध सामने आ रहे हैं, उसमें विटामिन सी (Vitamin C) के साथ-साथ विटामिन डी (Vitamin D) को भी कोरोना वायरस के खिलाफ जंग में जरूरी माना गया है।

विटामिन डी सबसे ज्यादा धूप में पाया जाता है। इसलिए इसे सन शाइन (Sunshine Vitamin) विटामिन भी कहा जाता है। पर लॉकडाउन के कारण ज्यादातर लोग अपने घरों में बंद रहे। ऐसे में यह जरूरी है कि आप अपने शरीर में विटामिन डी के स्तर को चैक करें। विटामिन डी पाने के लिए सबसे बेहतर है खुद को धूप में रखना। पर इसके अलावा कुछ ऐसे फूड भी हैं, जिनसे आप विटामिन डी प्राप्‍त कर सकते हैं।

कोविड-19 और विटामिन डी में क्या है संबंध

यूनिटी पॉइंट हेल्थ-सेंट ल्यूक से जुड़ी नर्स सिंडी लेविन का कहना है कि हाल के अध्ययन बताते हैं कि विटामिन डी COVID-19 से जुड़े श्वसन संबंधी लक्षणों को कम करने में मदद कर सकता है।
वे कहती हैं, हममें से ज्यादातर लोगों में विटामिन डी की कमी है, क्योंकि यह 90% धूप से आता है और केवल 10% भोजन से। सर्दियों के दौरान हाल और भी बुरा हो सकता है।

हालांकि लेविन सुझाव देती हैं कि ऐसी स्थिति में विटामिन डी सप्लीमेंट फायदेमंद हो सकता है, पर साथ ही वे चेतावनी भी देती हैं कि ज्यादा विटामिन डी के नकारात्मक प्रभाव भी पड़ सकते हैं।

नए शोध बताते हैं कि कोविड-19 और विटामिन डी के बीच गहरा संबंध है। चित्र: शटरस्‍टाॅॅॅक

विटामिन डी सप्लीमेंट ज्यादा होने पर

लेविन कहती हैं, “विटामिन डी सप्लीेमेंट ज्यादा लेने पर मतली, उल्टी और अन्य समस्याएं हो सकती हैं। इसलिए आमतौर पर हम लगभग 500 यूनिट विटामिन डी लेने की सलाह देते हैंं। COVID संबंधी अध्यियनों के बाद भी 400 से 800 यूनिट विटामिन डी लेने की सलाह दी गई थी। इसलिए आमतौर पर 500 के आसपास ही लिया जाता है।”

ये आहार भी दे सकते हैं आपको विटामिन डी

यह सच है कि हमारे शरीर की विटामिन डी की 90% आवश्यलकताओं को धूप ही पूरा करती है। अगर हो सके तो सुबह के समय बालकनी या छत पर बैठने की आदत डालें। इस समय सूर्य नमस्का र करना आपको दोहरा लाभ देगा। इसके अलावा अपने शरीर की 10 % विटामिन डी की आवश्याकता को आप इन आहारों के द्वारा भी पूरी कर सकते हैं।

दूध और दूध से बने आहार

दूध विटामिन डी का एक परफेक्ट स्रोत है। दूध को पूर्ण आहार भी कहा जाता है, क्योंकि इसमें बहुत सारे विटामिन और पोषक तत्व होते हैं। इस समय अपनी इम्यूनिटी को बनाए रखने के लिए आपको हर रोज दूध का सेवन करना चाहिए। इसके साथ ही दूध से बने आहार जैसे दही, पनीर आदि भी आपके स्वास्‍थ्‍य को बेहतर बनाए रखते हैं।

मशरूम

यह बच्चों को काफी पसंद होती है। मशरूम की चाहें सब्जी बनाएं या इसे सलाद में खाएं मशरूम आपको हमेशा टेस्टी लगेगी। इसे शाकाहारियों के लिए एक जरूरी पोषक आहार माना गया है। ये सूरज की रोशनी में उगते हैं, इसलिए इनमें भरपूर मात्रा में विटामिन डी होता है। इसके साथ ही इसमें विटामिन बी 1, बी 2, बी 5 के साथ-साथ कॉपर जैसे खनिज तत्व भी होते हैं। पर यह ध्यान रहे कि मशरूम को पकाने से पहले अच्छी तरह धो लेना चाहिए।

संतरा

जी हां, आप शायद जान कर हैरान होंगी पर संतरा विटामिन सी के साथ-साथ विटामिन डी का भी एक बेहतरीन स्रोत है। संतरे को आप चाहें स्नैक्स में खाएं या नाश्ते में संतरे के रस का एक गिलास पिएं, ये दोनों ही आपके लिए बहुत फायदेमंद होंगे। पर यह जरूरी है कि आप पैकेट बंद संतरे का रस खरीदने की गलती न करें। इसे सुरक्षित रखने के लिए इसमें कुछ प्रीजर्वेटिव्स मिलाए जाते हैं। जो आपकी सेहत के लिए ठीक नहीं। हमेशा ताजा संतरे का रस ही पिएं।

दलिया

भारतीय नाश्तों में सबसे ज्यादा हेल्दी और जल्दी पचने वाला आहार है दलिया। यही वजह है कि इसे बच्चों से लेकर बड़ों तक को दिया जा सकता है। दलिया में भी विटामिन डी की अच्छी मात्रा होती है। जल्दीे और आसानी से पकने वाला दलिया आपको कार्ब्स और खनिजों की आपूर्ति भी करता है।

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

तो फि‍र देर किस बात की, इन जरूरी खाद्य पदा‍र्थों को अपने आहार में शामिल करें और कोविड-19 के खिलाफ जंग में तैयार हो जाएं।

  • 78
लेखक के बारे में

कंटेंट हेड, हेल्थ शॉट्स हिंदी। वर्ष 2003 से पत्रकारिता में सक्रिय। ...और पढ़ें

अगला लेख