कोलेस्ट्रॉल और ब्लड प्रेशर है तो बदलें अपना कुकिंग स्टाइल, स्टीम मेथड है एक हेल्दी विकल्प

यदि आप अपने भोजन के मूल्य पोषक तत्वों को बनाए रखना चाहती है, तो आज ही अपनी कुकिंग स्टाइल में बदलाव लाएं। वहीं अपनाएं स्टीमिंग मेथड जो कि आपके समग्र सेहत को बनाए रखेगा।

steam method of cooking
कुकिंग जैसी स्किल्स को अपनी लाइफ में शामिल करें । चित्र शटरस्टॉक।
टीम हेल्‍थ शॉट्स Published on: 20 August 2022, 17:00 pm IST
  • 146

हम अक्सर हेल्दी डाइट प्लान करते हैं। परंतु हेल्दी डाइट प्लान करने के साथ-साथ हेल्दी कुकिंग स्टाइल को भी आजमाना जरूरी है। स्टीम कुकिंग खाना बनाने का एक हेल्दी तरीका है। खाना पकाने का यह तरीका भोजन के मूल्य पोषक तत्व को बनाए रखता है। साथ ही यह कुकिंग का एक आसान तरीका है।

पहले जाने स्टीमिंग है क्या?

यह खाना पकाने का एक तरीका है, जिसमे खाद्य पदार्थों को भाप की गर्मी से पकाया जाता है। इसका सीधा सा तात्पर्य यह है कि खाने को पानी की मदद से नहीं बनाया जाता। इस प्रोसेस में कुकिंग ऑयल और फैट्स का प्रयोग नहीं किया जाता जैसे कि फ्राइंग मेथड में होता है। स्टीमर खाना बनाने के लिए प्रयोग किए जाने वाला एक प्रकार का बर्तन है, जिसमें खाने को डालकर भाप की मदद से पकाया जाता है। स्टीमर के निचले हिस्से में पानी होता है और ऊपरी हिस्से में खाद्य पदार्थों को रख कर पकाते हैं।

यहां जाने स्टीम कुकिंग क्यों होती है फायदेमंद

जाने-मानी न्यूट्रिशन एक्सपर्ट पूजा मखीजा अपने इंस्टाग्राम रील्स के जरिए स्टीम फूड के फायदों के बारे में पूरी जानकारी दी है। इसके साथ ही उन्होंने लिखा है कि “स्टीम मेथड से खाना पकाना हेल्दी होने के साथ-साथ वर्सेटाइल भी होता है।”

healthy eating
सब्जियों के मूल्य पोषक तत्वों को बरक़रार रखे। चित्र : शटरस्टॉक

1. विटामिन और मिनरल्स को बरकरार रखे

खाना पकाने के पारंपरिक तरीके जैसे तलना या उबालना भोजन की पोषण गुणवत्ता को कम कर देता है। स्टीम मेथड सब्जियों में पाए जाने वाले आवश्यक विटामिन और मिनरल्स को बरकरार रखती है। वहीं भाप लेने से विटामिन बी, थायमिन, नियासिन और विटामिन सी जैसे कुछ विटामिनों की शक्ति और बढ़ जाती है। इसके साथ ही, पोटेशियम, कैल्शियम, फॉस्फोरस और जिंक जैसे कुछ मिनरल्स बने रहते हैं।

2. तेल की आवश्यकता नहीं पड़ती

स्टीम मेथड में खाना पकाने के लिए किसी भी प्रकार के तेल की आवश्यकता नहीं पड़ती। यह सिर्फ भाप से ही खाद्य पदार्थ को पका देता है। खाना पकाने के लिए कुकिंग ऑयल का इस्तेमाल करने की तुलना में स्टीम करके पकाए गए फूड्स में फैट की मात्रा बहुत कम होती है। इसलिए यह वेट लॉस में एक अच्छा विकल्प माना जाता है।

3. पाचन क्रिया के लिए फायदेमंद

स्टीम करके पकाए गए सब्जी और फल काफी ज्यादा मुलायम होते हैं, इन्हें आसानी से डाइजेस्ट किया जा सकता है। वहीं स्टीम मेथड से हमारे शरीर को सभी पोषक तत्व मूल्य रूप से प्राप्त होते हैं।

paachan tantr ke liye faydemmand hai kulahhad ki chai.
यह पाचन तंत्र के लिए फायदेमंद है। चित्र ; शटरस्टॉक

4. स्ट्रीमर को साफ करना है आसान

स्टीम मेथड से एक समय मे बिना स्वाद की हेराफेरी किये कई सब्जियों को पकाया जा सकता है। वहीं तेल इत्यादि का प्रयोग करके बनाए गए खाने के बर्तनों को साफ करना काफी ज्यादा मुश्किल होता है। परंतु स्टीमर को आसानी से साफ कर सकती हैं। इस पर किसी प्रकार का चिपचिपा पदार्थ नहीं लगा होता।

5. कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित रखने में मदद करें

स्टीम मेथड से बने खाने का सेवन बॉडी में कोलेस्ट्रॉल लेवल को नियंत्रित रखता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि स्टीम मेथड में किसी प्रकार के तेल का प्रयोग नहीं होता। वहीं खाने को पूरी तरह से भाप देकर पकाया जाता है। हाई ब्लड प्रेशर और कोलेस्ट्रॉल के मरीजों के लिए स्ट्रीमिंग मेथड एक सबसे अच्छा विकल्प हो सकता है।

खाना बनाने का यह तरीका आपकी सेहत के लिए काफी ज्यादा महत्व रखता है। यह आपके सब्जियों एवं फल के मूल्य पोषक तत्वों को बरकरार रखता है और शरीर को आवश्यकता अनुसार न्यूट्रिशन देता है। तो आज से हीं स्टीमर का इस्तेमाल करना शुरू करें।

यह भी पढ़ें : आपके गालों पर भी नज़र आता है ऑर्गेज़्म का असर, जानिए आपकी त्वचा पर इसके फायदे

  • 146
लेखक के बारे में
टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स, पीरियड ट्रैकर
के साथ।

ट्रैक करें
nextstory

हेल्थशॉट्स पीरियड ट्रैकर का उपयोग करके अपने
मासिक धर्म के स्वास्थ्य को ट्रैक करें

ट्रैक करें