लॉग इन
EXPERT SPEAK

Crooked Teeth Treatment : टेढ़े-मेढ़े दांतों का उपचार है संभव, एक्सपर्ट बता रहे हैं विभिन्न तरीके

सुंदर दांतों के लिए सिर्फ कैल्शियम की ही जरूरत नहीं होती, बल्कि आपके माता-पिता से मिले जींस, अच्छी आदतें और दांतों की सही देखभाल भी जरूरी होती है। जबकि कुछ चीजें आपके दांतों को टेढ़ा-मेढ़ा कर सकती हैं।
सभी चित्र देखे
दांतों के टेढ़ा होने के लिए कई कारण जिम्मेदार हो सकते हैं, मगर अच्छी बात यह कि इन्हें सीधा करने के लिए उपचार संभव हैं। चित्र : अडोबीस्टॉक
ऐप खोलें

क्या आपने कभी सोचा है कि क्यों कुछ लोगों के दांत पूरी तरह से व्यवस्थित होते हैं, जबकि कुछ लोगों के दांत टेढ़े-मेढ़े होते हैं? टेढ़े-मेढ़े दांत होना, दांतों से जुड़ी एक आश्चर्यजनक रूप से आम समस्या है। जो सभी उम्र और पृष्ठभूमि के व्यक्तियों को प्रभावित करती है। सच्चाई यह है कि इसका कोई एक निश्चित कारण नहीं होता है। यह समस्या विभिन्न कारकों से उत्पन्न हो सकती है, जिनमें आनुवंशिकी कारण, दांतों की दशाएं, आदतें और पर्यावरणीय प्रभाव जैसे कारक शामिल होते हैं।

इन कारणों और इनका निवारण करने के लिए उपलब्ध उपायों के बारे में जानना जरूरी है। ताकि व्यक्ति अपने दांतों की गड़बड़ी को ठीक करने के बारे में उचित जानकारी के साथ सही फैसला ले सके।

क्यों टेढ़े-मेढ़े हो जाते हैं दांत (Causes of crooked teeth)

1. आनुवंशिक कारक :

किसी व्यक्ति की आनुवंशिक संरचना, उसके जबड़े के आकार और आकृति को महत्वपूर्ण रूप से प्रभावित करती है। फलस्वरूप दांतों की व्यवस्था भी प्रभावित होती है। यदि माता-पिता में से किसी एक या दोनों के दांत टेढ़े हैं, तो उनकी संतानों में भी ऐसे ही लक्षण विरासत में मिलने की संभावना बढ़ जाती है।

2. बचपन की आदतें :

शैशवकाल और बचपन के दौरान कुछ आदतें, जैसे अंगूठा चूसना, लंबे समय तक पैसिफायर का उपयोग करना, या जीभ से दांतो पर जोर देना, दांतों और जबड़ों पर दबाव डालना, जो धीरे-धीरे दांतों के टेड़े-मेड़े होने का कारण बन जाती हैं।

अंगूठा चूसने वाले बच्चों के दांत भी टेढ़े-मेढ़े हो सकते हैं। चित्र : अडोबीस्टॉक

3. मैलोक्लुज़न :

यह शब्द जबड़े बंद होने पर दांतों के गलत संरेखण को दर्शाता है। जबड़े के आकार की विसंगतियों या दांतों के अनियमित विकास के कारण मैलोक्लुज़न उत्पन्न हो सकता है।

4. प्रभावित दांत :

यदि उचित रूप से निकलने के लिए पर्याप्त जगह न हो, तो दांत प्रभावित हो सकते हैं। फलस्वरूप पास के दांतों पर दबाव बढ़ सकता है और संरेखण गलत हो सकता है।

5. दूध के दांतों का जल्दी गिरना :

प्राथमिक दांतों (दूध के दांतो) का समय से पहले गिर जाना स्थायी दांतों के संरेखण को खराब कर सकता है, क्योंकि आस-पास के दांत खाली जगह में स्थानांतरित हो सकते हैं।

6. चोट या आघात :

चेहरे या दांतों पर चोट लगने के कारण दांतों का संरेखण खराब हो सकता है या दांतों को क्षति हो सकती है, जिससे वे टेढ़े-मेड़े हो सकते हैं।

 क्या टेढ़े दांतों को सीधा किया जा सकता है (Treatment for crooked teeth)

1. ऑर्थोडॉन्टिक उपचार :

दांतों का टेढ़ामेढ़ापन ठीक करने के लिए ऑर्थोडॉन्टिक हस्तक्षेप प्राथमिक तरीका बना हुआ है। ऑर्थोडॉन्टिस्ट, जो इस तरह की अनियमितताओं के निदान और उपचार में विशेषज्ञता रखते हैं, दांतों को धीरे-धीरे उनके सही स्थान पर लाने के लिए विभिन्न उपकरणों का उपयोग करते हैं।

2. पारंपरिक ब्रेसेस :

प्रत्येक दांत पर लगे ब्रैकेट और एडजस्टेबल तार, धातु के पारंपरिक ब्रेसिज़ दांतों को प्रभावी ढंग से पुन: संरेखित करने के लिए उन पर दबाव डालते हैं। यद्यपि वे स्पष्ट रुप से दिखाई देते हैं, फिर भी यदि दांत यदि बहुत ज्यादा भी टेढ़े मेढ़े हो तो भी वे उनका टेढ़ामेढ़ापन दूर करने में बहुत ज्यादा प्रभावी होते हैं।

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

3. क्लियर एलाइनर्स :

इनविज़लाइन जैसे क्लियर एलाइनर्स ने अपने स्पष्ट रूप से नहीं दिखाई देने वाले गुण और और ज़्यादा सुविधाजनक होने के कारण लोकप्रियता हासिल की है। कस्टम-निर्मित ये ट्रे, जो आभासी रूप से अदृश्य होती हैं, धीरे-धीरे दांतों के टेढ़ेमेढ़ेपन को ठीक कर देती हैं और खाते समय और मुख को साफ करते समय इन्हें हटाया जा सकता है।

4. रिटेनर्स :

ऑर्थोडॉन्टिक उपचार के बाद, प्राप्त हुए दंत संरेखण को बनाए रखने के लिए डॉक्टरों के द्वारा अक्सर रिटेनर्स का उपयोग करने का निर्धारण किया जाता है। आमतौर पर रात में पहने जाने वाले ये रिटेनर दांतों को उनकी मूल स्थिति में वापस लौटने से रोकते हैं।

टेढ़े-मेढ़े दांतों को सीधा किया जा सकता है। चित्र : अडोबीस्टॉक

5. ऑर्थोडॉन्टिक उपकरण :

कुछ मामलों में, ऑर्थोडॉन्टिस्ट तालु को फैलाने या जबड़े का संरेखण करने के जैसी विशिष्ट ज़रूरतों को पूरी करने के लिए ब्रेसिज़ या एलाइनर्स के साथ अतिरिक्त उपकरण लगा सकते हैं।

6. सर्जिकल हस्तक्षेप :

बहुत ज्यादा टेढ़ेमेढ़ेपन या जबड़े की अनियमितताओं के गंभीर मामलों में ऑर्थोडॉन्टिक उपचार के साथ सर्जिकल सुधार की आवश्यकता हो सकती है।

7. जीवनशैली में बदलाव :

ऑर्थोडॉन्टिक उपायों के अलावा, टेढ़ेमेढ़ेपन को और अधिक बढ़ने से रोकने के लिए जीवनशैली में कुछ बदलाव करने की सलाह दी जा सकती है, जैसे कि अंगूठा चूसने जैसी आदतों को बंद करना और मुख को अच्छी तरह स्वच्छ रखने की आदतों को अपने जीवन शैली में शामिल करना।

निष्कर्ष :

टेढ़े-मेढ़े दांत कई कारकों से उत्पन्न हो सकते हैं, जिनमें आनुवंशिक प्रवृत्ति, आदतें और दा़ंतो की विभिन्न दशाएं शामिल हैं। हालांकि, ऑर्थोडॉन्टिक उपचारों में हुई प्रगति से दांतों का टेढ़ामेढ़ापन ठीक करने और मुख के स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए प्रभावी समाधान मिलते हैं।

पारंपरिक ब्रेसिज़, क्लियर एलाइनर्स, या पूरक ऑर्थोडॉन्टिक हस्तक्षेपों के माध्यम से, व्यक्तियों को दांतों से जुड़ी अपनी समस्याएं दूर करने के लिए कई तरह के विकल्प उपलब्ध हैं। ऑर्थोडॉन्टिस्ट के साथ परामर्श करने से व्यक्तिगत जरूरतों और प्राथमिकताओं को प्रभावी ढंग से पूरा करने के लिए हर व्यक्ति के लिए उसकी पसंद के अनुसार उपचार योजनाएं तैयार की जा सकती हैं।

यह भी पढ़ें – Sensitive Teeth : ठंडा, गर्म या खट्टा खाने पर दांत सेंसिटिव हो जाते हैं, तो जानिए क्या हो सकता है इसका उपचार

Dr. Parag M. Khatri

Consultant Periodontist and Implantologist, Practo Dental ...और पढ़ें

अगला लेख