केचप के बिना स्वाद नहीं आता? तो जानिए उन 7 बीमारियों के बारे में जो आपका पसंदीदा केचप आपको दे रहा है

अगर केचप आपकी पसंदीदा साइड सॉस है, तो आप मुश्किल में पड़ सकते है। ताज़ा शोध बता रहे हैं कि केचप खाने के कई दुष्प्रभाव हो सकते हैं जिनमें मोटापा और एसिडिटी भी शामिल है।
ketchup ban raha hai aapke wazan badhne ka kaaran
केचप बन रहा है आपके वज़न बढ़ने का कारण। चित्र: शटरस्टॉक
टीम हेल्‍थ शॉट्स Published: 12 Sep 2021, 02:00 pm IST
  • 97

ऐसे कई लोग हैं जो हर चीज पर केचप डालते हैं- जैसे मैगी से लेकर पिज्जा और यहां तक कि पराठे के साथ भी। लेकिन अब समय आ गया है कि आप अपनी आंखें खोलें और केचप के सेवन से होने वाले दुष्प्रभावों के बारे में जानें! क्योंकि याद रखें, इसके लगातार सेवन से आप बड़ी मुसीबत में पड़ सकते हैं। न केवल बच्चे, बल्कि ज्यादा आयु के लोग भी केचप फैन क्लब का हिस्सा हैं। वे यह नहीं जानते हैं कि केचप केवल ताजे टमाटरों से नहीं बनता है; ऐसा बहुत कुछ है जो इसमें होता है।

ज़ेन मल्टीस्पेशलिटी हॉस्पिटल की डायटीशियन प्रिया पालन के मुताबिक केचप में न तो प्रोटीन होता है और न ही फाइबर। वास्तव में वे चीनी, नमक, मसाले और फ्रुक्टोस कॉर्न सिरप (fructose corn syrup) से भरे होते हैं।

सुश्री पालन ने चेतावनी देते हुए कहां, “फ्रुक्टोस कॉर्न सिरप वाले खाद्य पदार्थों को खाने से मोटापा, इंसुलिन रेजिसटेन्स (insulin resistance), हाई ट्राइग्लिसराइड्स और फैटी लीवर जैसे रोगों को बढ़ावा मिलता है। केचप खाने से पहले उसमें मौजूद चीनी और सोडियम की मात्रा पर ध्यान देना चाहिए। आप सामग्री की सूची और पोषण संबंधी तथ्यों को अच्छी तरह से पढ़ें। ऐसा इसलिए है क्योंकि यह हाई ब्लड प्रेशर और मिनरल के असंतुलन का कारण बन सकता है।”

yadi vazan ghatana hai toh diet se hataye ketchup
यदि वज़न घटना है तो डाइट से हटायें केचप। चित्र:शटरस्टॉक

प्रोसेस्ड और प्रीजर्व्ड फूड से सूजन की समस्या पैदा हो सकती है, इसलिए केचप को अपने आहार में शामिल करने से पहले सब कुछ जानना जरूरी है।

यहां हैं केचप से होने वाली 7 स्वास्थ्य समस्याएं 

1. पोषक तत्वों की कमी 

पोषक तत्वों से भरपूर भोजन आपकी इम्यूनिटी को मजबूत करता है। दूसरी ओर, केचप में कम पोषण मूल्य होता है, और इसमें प्रोटीन और फाइबर भी नहीं होता है।

2. हृदय रोग की समस्या 

फ्रुक्टोस कॉर्न सिरप वाले खाद्य पदार्थों का ज्यादा सेवन हाई ट्राइग्लिसराइड्स और हृदय की समस्याओं से संबंधित है।

high triglyceride aur hriday rogo ka kaaran hai ketchup
हाई ट्राइग्लिसराइड्स और हृदय रोगों का कारण है केचप। चित्र- शटरस्टॉक।

3. मोटापा और इंसुलिन रेजिसटेन्स

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

ज्यादा चीनी की मात्रा और फ्रुक्टोस कॉर्न सिरप से मोटापा और इंसुलिन रेजिसटेन्स हो सकता है।

4. एसिडिटी और जलन 

डॉ पालन सुझाव देती है,“टमाटर केचप, एक एसिडिक भोजन होने के कारण, मैलिक एसिड (malic acid) और साइट्रिक एसिड (citric acid) जैसे एसिड की उपस्थिति के कारण एसिडिटी और जलन पैदा कर सकता है। इसलिए, जिन लोगों को पाचन संबंधी समस्याएं जैसे कि गैस्ट्रोओसोफेगल रिफ्लक्स रोग (जीईआरडी) हैं, उन्हे टमाटर केचप नहीं खाना चाहिए।”

5. जोड़ों की समस्या 

प्रोसेस्ड और प्रीजर्व्ड फूड से सूजन हो सकता है, जिसका अर्थ है कि आप जोड़ों की समस्याओं से परेशान हो सकते है। 

ketchup ke sewan e hoga jodo mein dard
केचप के सेवन से होगा जोड़ों में दर्द। चित्र : शटरस्टॉक

6. किडनी की समस्या 

प्रोसेस्ड और हाई सोडियम वाले खाद्य पदार्थ मूत्र में कैल्शियम का स्तर बढ़ा देते हैं। इससे गुर्दे में पथरी होने का खतरा बढ़ जाता है। 

7. एलर्जी

केचप में मौजूद टमाटर हिस्टामाइन (histamines) से भरपूर होते हैं। इससे छींकने और यहां तक ​​कि सांस लेने में तकलीफ जैसी एलर्जी होने की संभावना है। 

तो, क्या आप केचप का सेवन जारी रखेंगे या इसे छोड़ना चाहते हैं?

यह भी पढ़ें:  क्या अचार का रस एसिडिटी और जलन से राहत दे सकता है? आइए पता करते हैं

  • 97
लेखक के बारे में

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख