ऐप में पढ़ें

क्या सिजेरियन डिलीवरी के बाद नहीं खाना चाहिए घी? जानिए क्या है इस पर विशेषज्ञों की राय

Published on:10 January 2022, 09:30am IST
प्रेगनेंसी के दौरान और डिलीवरी के बाद भी पूरा परिवार आपके पौष्टिक आहार का ध्यान रखता है। फल, नारियल पानी, लड्डू, के अलावा जो आपकी प्रेगनेंसी डाइट (pregnancy diet) में महत्व रखता है, वो है देसी घी।
Ciserean delivery ke baad ghee khana jaroori hai
सिजेरियन डिलीवरी के बाद घी खाना जरूरी है। चित्र:शटरस्टॉक

देसी घी एक स्वस्थ प्रोसेस्ड डेयरी उत्पाद है जो विभिन्न पौष्टिक तत्वों से भरपूर है। यह कैल्शियम, विटामिन डी, ई, ए और के का बहुत मतवपूर्ण स्रोत है। इसमें उपचारात्मक गुण होते हैं और घी लवर का मानना है कि इसे लगभग सभी प्रकार के आहार में शामिल करना चाहिए। वेट लॉस, मसल बिल्डिंग, हेवी ट्रेनिंग के अलावा यह न्यू मॉम्स के लिए भी एक जरूरी घटक है। इसके विभिन्न स्वास्थ्य फायदों के लिए सभी न्यू मॉम्स को अपने बच्चे के जन्म के बाद इसे अपनी डाइट में शामिल करना चाहिए।

लेकिन घी में सैचुरेटेड फैट और कैलोरी काउंट अधिक होती है जिसकी वजह से ज्यादा मात्रा में घी का सेवन आपको फायदे से ज्यादा नुकसान पहुंचा सकता है। तो क्या नई माताओं को अपने आहार में घी शामिल करना चाहिए, खासकर सिजेरियन डिलीवरी के बाद? आइए पता करते हैं!

क्या न्यू मॉम्स को सी-सेक्शन डिलीवरी के बाद घी का सेवन करना चाहिए?

घी में गुड फैट की मात्रा अधिक होती है और यह आपके भोजन के ग्लाइसेमिक इंडेक्स को कम रखता है। इसलिए सी सेक्शन के बाद एक महिला के आहार का महत्वपूर्ण हिस्सा है देसी घी। ऑपरेशन के बाद शरीर बहुत नाजुक और कमजोर हो जाता है। इसके अलावा एक नन्ही सी जान की जिम्मेदारी थकाने वाली होती है। देसी घी आपके शरीर को जल्द ठीक करने में मदद कर सकता है।

Ghee khana new moms ke liye behad faydemand
घी खाना न्यू मॉम्स के लिए बेहद फायदेमंद है। चित्र: शटरस्‍टॉक

अधिकांश माताएं और घर की औरतें सी-सेक्शन डिलीवरी के बाद कई प्रकार के आहार प्रतिबंधों की सलाह देती हैं। सिजेरियन के बाद वे दूध, घी, चावल, आदि से परहेज करने को कहती हैं। उनके अनुसार यह सर्जरी से उबरने में बाधा डाल सकता है। चिंता न करें लेडीज, यह सिर्फ एक मिथ है! आप सिजेरियन के एक या दो दिन बाद अपने सामान्य आहार को फिर से शुरू कर सकती हैं।

सिजेरियन डिलीवरी के बाद घी खाने के फायदे

1. सी सेक्शन या सिजेरियन के बाद घी का सेवन सीमित मात्रा में करना चाहिए। सी सेक्शन के बाद घी खाने के कुछ फायदे इस प्रकार है:

2. घी विभिन्न वसा और पोषक तत्वों से भरपूर होता है जो सेल्स और हड्डियों के विकास का समर्थन करता है। वे दांतों के देखभाल, घाव को भरने, इम्युनिटी बढ़ाने, आदि में मदद करता है।

3. इसमें मौजूद ओमेगा 6 फैटी एसिड को लिनोलिक एसिड के रूप में जाना जाता है। यह दिल की समस्याओं को नियंत्रित करने में मदद करता है। इसके साथ ही शरीर में रक्त शर्करा के स्तर को भी कम करता है देसी घी।

4. विटामिन ए आंखों की रोशनी बनाए रखता है और नजर को मजबूत करता है।

5. गर्भावस्था के बाद घी का सेवन कब्ज और अपच जैसी समस्याओं को कम करने में मदद कर सकता है।

6. घी सिरदर्द, माइग्रेन, आदि के लिए एक प्रसिद्ध आयुर्वेदिक उपाय है। सी सेक्शन के बाद घी का सेवन मेटाबॉलिज्म को तेज करने और आपको लंबे समय तक ऊर्जावान रखता है।

7. शॉर्ट चेन फैटी एसिड से भरपूर होता है घी। इसे ब्यूटिरिक एसिड भी कहा जाता है जिसमें एंटी कैंसर और इम्युनिटी बूस्टर गुण होते हैं।

8. यह एक आंतरिक मॉइश्चराइजर के रूप में व्यवहार करता है, यानी इसमें मौजूद फोस्फोलिपिड्स शरीर में सेल्स और टिश्यू को चिकनाई देते हैं।

Immunity boost karne ke liye try kare roti mein ghee
इम्युनिटी बूस्ट करने के लिए ट्राई करें रोटी में घी। चित्र : शटरस्टॉक

डियर न्यू मॉम्स, इन तरीकों से देसी घी को अपनी डाइट का हिस्सा बनाएं

आप कई तरीकों से घी को अपनी डाइट में शामिल कर सकती हैं। इनमें से कुछ प्रमुख हैं:

  • सबसे बेहतर तरीका है घी में बने मेथी, गोंद या मेवा के लड्डू खाना।
  • अपने सुबह के ब्रेकफास्ट बाउल में, फ्रूट सलाद या मिल्कशेक में एक चम्मच घी मिलाएं।
  • आप इसे सीधे भी खा सकते हैं लेकिन इसे एक या दो चम्मच तक सीमित रखें।
  • अपनी कॉफी या चाय में क्रीम की जगह एक चम्मच घी मिला सकती हैं।
  • सब्जी में स्वाद के लिए मक्खन की जगह घी का इस्तेमाल कर सकते हैं।
  • फ्रूट सलाद में शहद के साथ घी का भी इस्तेमाल किया जा सकता है।
  • अपनी रोटियों को रूखी सूखी रखने के बजाय उनमें घी लगाएं। इसके अलावा रिफाइंड ऑयल की जगह आप घी में पराठे बना सकती हैं।

तो लेडीज, सिजेरियन डिलीवरी के बाद पूरी तरह से ठीक होने में लगभग चार से पांच सप्ताह लगते हैं। अपने रिकवरी में तेजी लाने के लिए आपको अपनी डाइट का सख्त ख्याल रखना होगा। यह महत्वपूर्ण है कि आप संतुलित भोजन करें जिसमें प्रोटीन, स्वस्थ वसा, कार्बोहाइड्रेट, सब्जियां और फल शामिल हो। इसके अलावा आपको दिनभर हाइड्रेटेड रहना भी जरूरी है।

यह भी पढ़ें: शलगम कहें शलजम, आपकी सर्दियों की हर समस्या का समाधान है ये कश्मीरी रेसिपी

अदिति तिवारी अदिति तिवारी

फिटनेस, फूड्स, किताबें, घुमक्कड़ी, पॉज़िटिविटी...  और जीने को क्या चाहिए !