क्या चेहरे के मस्से कैंसर का कारण बन सकते हैं? विशेषज्ञ से जानें इनके बारे में सब कुछ

Published on: 4 April 2022, 10:00 am IST

धूल - मिट्टी, प्रदूषण के कारण त्वचा पर दाग धब्बे निकलना एक आम बात है। मगर कभी - कभी कुछ दाने संक्रमण की वजह से होते हैं ओर घातक साबित हो सकते हैं, इसलिए इनपर ध्यान देना ज़रूरी है।

kya hain facial moles
क्या हैं फेशियल मोल. चित्र : शटरस्टॉक

त्वचा पर पिंपल्स और दाग – धब्बे हो जाना बेहद आम बात है। मगर इन्हें नज़रअंदाज़ करना आपकी बहुत बड़ी भूल हो सकती है। क्योंकि कब एक छूटा सा मस्सा या दाना एक बड़ी बीमारी का रूप लेले, कोई नहीं बता सकता है।

त्वचा पर होने वाले ऐसे ही कुछ दाग – धब्बों में आते हैं, मस्से (Warts) । मस्से धूल और गंदगी के कारण भी होते हैं। साथ ही, किसी संक्रमण के कारण भी। मगर आपके लिए यह जानना ज़रूरी है कि क्या है कैंसर का रूप ले सकते हैं? चलिये पता करते हैं।

मस्सों के बारे में अधिक जानने के लिए हमने मासीना अस्पताल, मुंबई की सलाहकार त्वचा विशेषज्ञ, डॉ. राशी मेहता, से बात की। ”उनका कहना है कि चेहरे के बढ़ने वाले मस्से आम तौर पर मानवी पेपिलोमा वायरस के कारण होते हैं। उन्हें चेहरे पर कहीं भी देखा जा सकता है लेकिन दाढ़ी एक सामान्य क्षेत्र है क्योंकि रेजर कट के कारण वायरस का सहज होता है।”

क्या होते हैं मस्से (Warts)?

मस्से एक प्रकार का त्वचा संक्रमण है जो ह्यूमन पेपिलोमावायरस (HPV) के कारण होता है। संक्रमण के कारण त्वचा पर खुरदुरे, त्वचा के रंग के धब्बे बन जाते हैं। यह एक वायरस संक्रामक है। इस प्रकार के मस्से संक्रामक हो सकते हैं और किसी ऐसे व्यक्ति को छूने से आपको भी यह हो सकते हैं। मस्से आमतौर पर हाथों पर दिखाई देते हैं, लेकिन वे पैरों, चेहरे, जननांगों और घुटनों को भी प्रभावित कर सकते हैं।

डॉ. राशी बताती हैं कि – ”यह त्वचा पर किसी कट में ह्यूमन पेपिलोमावायरस (HPV) के प्रवेश करने पर यह हो सकते हैं। आयब्रो या ठुड्डी के आसपास दिखाना महिलाओं में यह आम बात है क्योंकि पार्लर में थ्रेडिंग और वैक्सिंग से संक्रमण हो सकता है। चेहरे के नैपकिन और तौलिये या मेकअप ब्रश साझा करने से भी यह संक्रमण हो सकता है। यह आमतौर पर कम प्रतिरक्षा वाले लोगों, मधुमेह रोगियों या इम्यूनोसप्रेसिव दवाओं वाले लोगों में देखा जाता है। मौखिक या अंतःस्रावी मस्से आमतौर पर यौन संचरण या प्रतिरक्षादमन के कारण होते हैं।”

 masse ka ilaaj
मस्से का इलाज ज़रूरी है। चित्र : शटरस्टॉक

जानिए कितने प्रकार के होते हैं मस्से?

मस्से के प्रकार शरीर के प्रभावित हिस्से के आधार पर अलग-अलग होते हैं। इसमें शामिल हैं:

हाथ: इन मस्सों को कॉमन वॉर्ट्स कहा जाता है क्योंकि ये सबसे आम प्रकार के होते हैं।

चेहरा: मस्से चेहरे और माथे को प्रभावित करते हैं।

पैर: कुछ मस्से पैरों के तलवों पर दिखाई देते हैं। ये मस्से केंद्र में छोटे काले डॉट्स की तरह दिखते हैं। वे अक्सर दर्दनाक होते हैं।

जननांग: लिंग, योनि या मलाशय पर बनने वाले मस्सों को जेनिटल वॉर्ट्स कहा जाता है। ये मस्से एक प्रकार का यौन संचारित संक्रमण है। संक्रमित व्यक्ति के साथ यौन संपर्क के माध्यम से आपको जननांगों पर मस्से हो जाते हैं।

क्या है मस्सों का कारण और क्या ये संक्रामक हैं?

जब एचपीवी त्वचा के एक कट में प्रवेश करता है, तो यह त्वचा संक्रमण का कारण बनता है, जिससे मस्से हो जाते हैं। वायरस एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में या शरीर के विभिन्न भागों से फैल सकता है:

मस्से के साथ सीधा संपर्क
वायरस से दूषित किसी चीज को छूना, जैसे तौलिये, दरवाज़े के घुंडी और शॉवर फर्श
संभोग (Genital Warts)
नाखून चबाना

क्या हैं मस्से के लक्षण?

दाने जैसा
खुरदुरा
त्वचा के रंग का, भूरा या काला

skin cancer se nipatna mushkil h
स्किन कैंसर से मुकाबला करना मुश्किल। चित्र: शटरस्टॉक

कई गंभीर बीमारियों का कारण बन सकते हैं मस्से

अधिकांश मस्से बिना किसी समस्या के चले जाते हैं। मगर कभी-कभी ये बीमारी का कारण बन सकते हैं, जैसे:

कैंसर: एचपीवी और जेनिटल वॉर्ट्स कई अलग-अलग कैंसर से जुड़े होते हैं, जिनमें गुदा कैंसर, गर्भाशय ग्रीवा का कैंसर और गले (ऑरोफरीन्जियल) कैंसर शामिल हैं। आप एचपीवी वैक्सीन प्राप्त करके और कंडोम का उपयोग करके जेनिटल वॉर्ट्स के जोखिम को कम कर सकते हैं।

दर्द: अधिकांश मौसा चोट नहीं पहुंचाते हैं। लेकिन यह मस्से अंदर की ओर बढ़ सकते हैं, जिससे चलने में दर्द हो सकता है। आपको ऐसा महसूस हो सकता है कि त्वचा के नीचे कोई कंकड़ है।

मस्सों से कैसे अपना बचाव करें?

मस्से को रोकने के लिए वास्तव में कोई रास्ता नहीं है। हालांकि, आप इन कदमों को उठाकर वायरस से संक्रमित होने के जोखिम को कम कर सकते हैं :

मस्से पर शेविंग करने से बचें

अपने नाखूनों को काटने या क्यूटिकल्स को काटने की आदत को छोड़ें

तौलिये, वॉशक्लॉथ, कपड़े, नाखून कतरनी, रेज़र या अन्य व्यक्तिगत सामान साझा न करें

दूसरे व्यक्ति के मस्से को न छुएं

एचपीवी वैक्सीन लगवाएं और जेनिटल वॉर्ट्स को रोकने के लिए कंडोम का उपयोग करें।

मस्सों को फैलने से रोकने के लिए अपने पैरों को सूखा रखें।

मस्से को खरोंचने या काटने की कोशिश न करें।

डॉ. राशी के अनुसार यदि आप में मस्से की वृद्धि हो रही है, जो आकार में तेजी से बढ़ रही है। जो संक्रमित या अल्सरयुक्त दिखती है, या इसमें ये रक्स्त्राव या डिस्चार्ज हो रहा है और यह अन्य क्षेत्रों में तेजी से फैल रहा है तो आज ही अपने त्वचा विशेषज्ञ से इसकी जांच करवाएं।

यह भी पढ़ें : घने और मजबूत बालों के लिए आपको है इन 6 पोषक तत्वों की आवश्यकता

ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ

प्रकृति में गंभीर और ख्‍यालों में आज़ाद। किताबें पढ़ने और कविता लिखने की शौकीन हूं और जीवन के प्रति सकारात्‍मक दृष्टिकोण रखती हूं।

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें