ऐप में पढ़ें

क्या डायबिटीज कंट्रोल करने में मदद कर सकती हैं सहजन की पत्तियां? आइए पता करते हैं

Updated on: 12 November 2021, 12:52pm IST
डायबिटीज को कंट्रोल करने के लिए यदि आप तरह-तरह के उपाय कर के थक गए हैं, तो आज हम आपको सहजन की पत्तियों से डायबिटीज पर काबू पाने के बारे में बताएंगे।
hamaare aasapaas aise kaee suparaphood aur pey padaarth maujood hain, jo bilkul praakrtik hai aur aayurved mein inaka jikr bhee kiya gaya
हमारे आसपास ऐसे कई सुपरफूड और पेय पदार्थ मौजूद हैं, जो बिल्कुल प्राकृतिक है और आयुर्वेद में इनका जिक्र भी किया गया है। चित्र : शटरस्टॉक

डायबिटीज के रोगियों के लिए दवा के साथ-साथ सही आहार भी बहुत जरूरी है। इसमें एक्सरसाइज और कुछ घरेलू उपाय का नाम सबसे आगे है। इसके साथ-साथ अच्छा भोजन और बेहतर जीवन शैली, बढ़ते या कम होते शुगर लेवल को नियंत्रित रखने में आपकी सहायता करते हैं।  इसके अलावा कुछ ऐसी आयुर्वेदिक हर्ब्स भी हैं, जो डायबिटीज को कंट्रोल करने में मदद कर सकती हैं। सहजन या मोरिंगा की पत्तियां (Moringa leaves) ऐसी ही एक आयुर्वेदिक औषधि है, जो डायबिटीज को कंट्रोल करने में आपकी मदद कर सकती है। 

पर इससे पहले हम आपको सलाह देंगे कि आपको अपने ब्लड शुगर लेवल की जांच निरंतर करवानी चाहिए। इससे बीमारी से बचने में और घरेलू उपाय करने में भी काफी सहायता मिलेगी। 

apane blad shugar leval kee jaanch nirantar karavaanee chaahie,isase beemaaree se bachane mein aur ghareloo upaay karane mein bhee kaaphee sahaayata milegee.
अपने ब्लड शुगर लेवल की जांच निरंतर करवानी चाहिए,इससे बीमारी से बचने में और घरेलू उपाय करने में भी काफी सहायता मिलेगी। । चित्र: शटरस्टॉक

हमारे आसपास ऐसे कई सुपरफूड और पेय पदार्थ मौजूद हैं, जो बिल्कुल प्राकृतिक है और आयुर्वेद में इनका जिक्र भी किया गया है। इसमें सहजन की पत्तियों का भी बड़ा नाम है। जो आपकी ब्लड शुगर लेवल को काबू में करने के लिए अहम योगदान देता है। सहजन का ज्यादातर इस्तेमाल दक्षिण भारत में करी व अन्य रेसिपीज में किया जाता है। लोग इसे ड्रम स्टिक्स के नाम से भी जानते हैं। ऐसे में डायबिटीज रोगियों के लिए सहजन की पत्तियां किसी अमृत से कम नहीं है। 

चलिए जानते हैं कि क्या है सहजन और उसकी पत्तियों के फायदे 

सहजन की पत्तियों में नहीं बल्कि इसके तने, छाल, फूल और कई अन्य भागों में भी औषधीय गुण होते हैं। आयुर्वेद में इसका इस्तेमाल सदियों से कई रोगों के उपचार के लिए किया जाता रहा है। इसमें एंटीफंगल, एंटी वायरल,एंटी डिप्रेसेंट और एंटी इन्फ्लेमेटरी गुण होते हैं। इसके अलावा यह कैल्शियम का नॉन- डेयरी स्रोत है। जिसमें पोटेशियम, जस्ता, मैग्नीशियम, आयरन, तांबा, फास्फोरस जैसे अन्य पोषक तत्व भी शामिल हैं।

ब्लड शुगर लेवल को कैसे कंट्रोल करती हैं सहजन की पत्तियां ? 

आयुर्वेद के अनुसार सहजन की पत्तियों में क्वेरसेटिन ( quercetin ) नाम का एक एंटी ऑक्सीडेंट ( anti oxidant )  होता है। यह आपकी ब्लड प्रेशर की समस्या को कम करने में मदद करता है। इसमें पाए जाने वाले एक एंटीऑक्सीडेंट जिसे क्लोरोजेनिक एसिड के नाम से जाना जाता है, वह आपके ब्लड शुगर लेवल को नियंत्रित करता है। 

मोरिंगा ( Moringa )  में पाया जाने वाला क्लोरोजेनिक एसिड शरीर को बेहतर बनाता है और इंसुलिन को प्रभावित करने में मदद करता है।

Moringa vitamines ka khajana hai
मोरिंगा विटामिन्स का खजाना है। चित्र: शटरस्टॉक

शुगर के नियंत्रण के लिए इस प्रकार करें सहजन की पत्तियों का सेवन 

अपनी डायबिटीज पर नियंत्रण पाने के लिए सहजन की पत्तियों और उसके बीज का कई प्रकार से इस्तेमाल कर सकते हैं। आप सहजन की पत्तियों को कच्चा, पाउडर बनाकर या उसका जूस बनाकर इस्तेमाल कर सकते हैं। इसके साथ ही सहजन की पत्तियों को पानी में उबालकर, शहद मिलाकर सेवन किया जा सकता है। आप चाहें तो  सहजन की पत्तियों और सहजन की फली को साथ मिलाकर इसका सूप भी तैयार कर सकती हैं।

अपने शुगर लेवल के अनुसार सहजन की पत्तियों का इस्तेमाल करें। पर यह जरूरी है कि इसके सेवन से पहले अपने डॉक्टर से परामर्श कर लें। यकीनन आयुर्वेदिक हर्ब्स हानिरहित होती हैं। पर यह जरूरी नहीं कि सभी पर एक सा प्रभाव दें। 

यह भी पढ़े : मूली ही नहीं, इसके पत्तों का स्वाद भी है लाजवाब, जानिए मूली की सब्जी की अनोखी रेसिपी

अक्षांश कुलश्रेष्ठ अक्षांश कुलश्रेष्ठ

सेहत, तंदुरुस्ती और सौंदर्य के लिए कुछ नई जानकारियों की खोज में