क्‍या डायबिटीज के रोगी भी कर सकते हैं चावल का सेवन, जानिए कौन से चावल हैं आपके लिए बेहतर

अमूमन डायबिटीज के रोगियों को चावल से परहेज की सलाह दी जाती है। पर चिंता न करें, हम यहां कुछ ऑप्‍शन दे रहे हैं जिन्‍हें आप अपने आहार में शामिल कर सकती हैं। 
इंसुलिन डोज को एडजस्ट करना भी जरूरी है। चित्र: शटरस्टॉक
इंसुलिन डोज को एडजस्ट करना भी जरूरी है। चित्र: शटरस्टॉक
विनीत Updated: 12 Oct 2023, 17:41 pm IST
  • 86

चावल का सेवन हमारे लिए बहुत ही फायदेमंद होता है। विशेष रूप से इसके स्वास्थ्य लाभ, क्योंकि यह शरीर को ऊर्जा प्रदान करने में मदद करता है। यह मोटापा रोकने में मदद करता है, साथ ही ब्लड प्रेशर को नियंत्रित रखता है। इसके अलावा यह कैंसर के जोखिम को कम करने में भी मददगार है। चावल का सेवन हमारी त्वचा के लिए भी फायदेमंद होता है, यह अल्जाइमर जैसे रोगों से भी बचाता है।

इसमें मूत्रवर्धक और पाचन गुण हैं, जो पाचनतंत्र में सुधार करता है। चावल खाने से हृदय स्वास्थ्य को बढ़ावा मिल सकता है, यह इरिटेबल बाउल सिंड्रोम के लक्षणों से राहत देता है, पुरानी कब्ज को रोकता है और शरीर के तापमान को नियंत्रित करता है।

पर डायबिटीज के रोगियों को अकसर चावल से परहेज की सलाह दी जाती है। तब ऐसे में क्‍या डायबिटीज रोगियों के लिए चावल का कोई ऑप्‍शन है? चलिए बिना समय बर्बाद किए चर्चा करते हैं कि चावल के उन प्रकारों के बारे में जिनका सेवन डायबिटीज के रोगी भी कर सकते हैं।

चावल का सेवन कई तरह से डायबिटीज के रोगियों के लिए फायदेमंद साबित हो सकता है। चित्र-शटरस्टॉक
  1. ब्राउन राइस

यह फाइबर, एंटीऑक्सिडेंट और कई विटामिन और खनिजों का एक अच्छा स्रोत है। विशेष रूप से, यह पूरा अनाज शक्तिशाली एंटीऑक्सिडेंट प्रभाव वाले प्लावोन यौगिकों में उच्च है। फ्लेवोनोइड युक्त खाद्य पदार्थ खाने से पुरानी बीमारियों का खतरा कम होता है, जिसमें हृदय रोग, कैंसर और अल्जाइमर रोग शामिल हैं।

ब्राउन राइस को अतिरिक्त वजन वाले लोगों में भोजन के बाद ब्लड शुगर लेवल को कम करने के लिए दिखाया गया है। साथ ही टाइप 2 डायबिटीज वाले लोगों के लिए भी यह फायदेमंद है। यह ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल करने में भी लाभकारी है जो डायबिटीज की प्रगति को रोकने या देरी करने के लिए महत्वपूर्ण है।

यह भी पढ़ें: अगर आपके एजिंग पेरेंट्स हैं गठिया से परेशान, तो इस तरह कंट्रोल करें उनका यूरिक एसिड

  1. बासमती चावल

बासमती चावल, विशेष रूप से साबुत अनाज बासमती चावल, टाइप 2 डायबिटीज से पीड़ित लोगों के लिए एक नियमित आहार हो सकता है। बासमती चावल मध्यम ऊर्जा भोजन के लिए कार्बोहाइड्रेट युक्‍त बेहतरीन आहार है।

बासमती चावल में सभी प्रकार के निम्नतम जीआई (ग्लाइसेमिक इंडेक्स) होते हैं, जिसका अर्थ है कि एक बार पच जाने पर यह ब्लड शुगर लेवल को और अधिक स्थिर रखते हुए धीरे-धीरे अपनी ऊर्जा जारी करता है, जो डायबिटीज के प्रबंधन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है।

  1. वाइल्ड राइस

वाइल्ड राइस जैसे साबुत अनाज टाइप 2 डायबिटीज के जोखिम को कम कर सकते हैं। यह मुख्य रूप से साबुत अनाज में विटामिन, खनिज और फाइबर से भरपूर होते हैं।  कई अध्ययनों में यह सामने आया है कि साबुत अनाज टाइप 2 डायबिटीज के जोखिम को कम करता है। जबकि सफेद चावल जैसे परिष्कृत अनाज एक बढ़े हुए जोखिम से जुड़ा था।

शोधकर्ताओं का सुझाव है कि प्रति दिन साबुत अनाज की कम से कम दो सर्विंग खाने से इस स्थिति का खतरा कम हो सकता है। हालांकि लोगों में इसका परीक्षण नहीं किया गया है, लेकिन जंगली चावल खाने से ब्लड शुगर नियंत्रण में सुधार और चूहों में इंसुलिन प्रतिरोध को कम करने के लिए दिखाया गया है।

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें
  1. जैस्मिन राइस

जैस्मिन राइस में आयरन और नियासिन होते हैं, जो शरीर में लाल रक्त कोशिकाओं के उत्पादन में सहायता करते हैं और कार्बोहाइड्रेट को ग्लूकोज में ऊर्जा में परिवर्तित करते हैं। हालांकि, सफेद जैस्मिन राइस में एक उच्च (जीआई) ग्लाइसेमिक इंडेक्स होता है और इससे ब्लड शुगर में एक उछाल आ सकता है। इसलिए डायबिटीज के रोगियों को या तो इससे बचना चाहिए या जैस्मिन राइस की विविधता के लिए विकल्प चुनना चाहिए।

ब्राउन राइस सेहत के लिए बहुत फायदेमंद है। चित्र- शटरस्टॉक।
  1. ब्लैक राइस या फोरबिडन राइस

ब्लैक राइस फ्री रेडिकल्स के खिलाफ काम करते हैं और इसलिए यह डायबिटीज रोगियों को कोशिका क्षति से सुरक्षा और सूजन से लड़ने में मदद कर सकते हैं। यह फाइबर से भरपूर होता है, जो ब्लड शुगर को धीमी गति से रिलीज होने में मदद करता है। जिससे यह ब्लड शुगर लेवल में अचानक वृद्धि को रोकता है। यह मोटापे से लड़ने में मदद कर सकता है, जो डायबिटीज के लोगों के लिए एक जोखिम कारक है।

यह एक डायबिटीज डाइट के लिए एक हेल्‍दी विकल्‍प हो सकता है, लेकिन यह सलाह दी जाती है कि आप काले चावल की सही मात्रा जानने के लिए अपने पोषण विशेषज्ञ या आहार विशेषज्ञ से परामर्श करें। जिससे कि आप अपने दैनिक भोजन में इसे सुरक्षित रूप से शामिल कर सकें।

पर यह भी ध्‍यान रहें

ब्रिटिश मेडिकल जर्नल ने पाया कि जो लोग सफेद चावल का सेवन उच्च मात्रा में करते हैं, उनमें टाइप 2 डायबिटीज के विकास का खतरा बढ़ सकता है। इसका मतलब यह है कि अगर आपको प्रीडायबिटीज है, तो आपको अपने चावल के सेवन के बारे में सचेत रहना चाहिए।

यह भी पढ़ें: हम बता रहे हैं हार्ट अटैक के ऐसे 5 लक्षण, जिन्‍हें आप एक महीना पहले पहचान सकती हैं 

अगर आपको पहले से ही डायबिटीज है, तो कम सेवन में चावल का आनंद लेना आपके लिए आम तौर पर सुरक्षित है। सुनिश्चित करें कि आप कार्बोहाइड्रेट की संख्या और जीआई स्कोर के बारे में जानते हैं कि आप किस प्रकार का चावल खाना चाहते हैं। आपको हमेशा प्रति भोजन 45 से 60 ग्राम कार्बोहाइड्रेट के बीच खाने की कोशिश करनी चाहिए। चावल की कुछ किस्मों में दूसरों की तुलना में कम जीआई स्कोर होता है।

  • 86
लेखक के बारे में

अपने प्यार में हूं। खाने-पीने,घूमने-फिरने का शौकीन। अगर टाइम है तो बस वर्कआउट के लिए। ...और पढ़ें

अगला लेख