और पढ़ने के लिए
ऐप डाउनलोड करें

क्या आपका पिछला गर्भपात, भविष्य में आपकी गर्भावस्था को प्रभावित कर सकता है? जानिए क्या कहते हैं एक्सपर्ट

Published on:19 March 2021, 12:00pm IST
यह समझना महत्वपूर्ण है कि आपका गर्भपात किस तरह भविष्य में आपके गर्भधारण को प्रभावित कर सकता है।
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 81 Likes
जानिए गर्भपात भविष्य मे आपके गर्भधारण को कैसे प्रभावित कर सकता है। चित्र-शटरस्टॉक।

यदि आपने गर्भपात के चलते अपना एक बच्चा को खो दिया है और इस बात से डर रही हैं कि यह भविष्य में फिर से ये न हो जाए,  तो हम आपको आश्वस्त करना चाहते हैं कि किसी भी गर्भपात का भविष्य में गर्भधारण पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता। हम यहां गर्भपात के निहितार्थ के बारे में विस्तार से बात करने जा रहे हैं।

लगातार गर्भपात चिंता का कारण हो सकता है

नोवा आईवीएफ फर्टिलिटी मुंबई की फर्टिलिटी कंसल्टेंट, डॉ. स्नेहा साठे का कहना है कि गर्भपात का अनुभव होने के बाद, ज्यादातर महिलाओं को यह डर रहता है कि वे फिर कभी गर्भवती नहीं होंगी, या फिर से उनका गर्भपात होगा। यह समझना महत्वपूर्ण है कि गर्भपात आम है।

गैर-आवर्तक (non-recurrent) के कारण लगभग 20 से 25% प्रेगनेंसी गर्भपात में समाप्त हो जाती हैं। आपको यह ध्यान रखने की आवश्यकता है कि पिछली गर्भावस्था की हानि का मतलब यह नहीं है कि आपकी प्रजनन क्षमता कम है। गर्भपात के बाद, फिर से गर्भवती होना संभव है, बल्कि एक पूर्ण गर्भावस्था हो सकती है और आप एक स्वस्थ बच्चे को जन्म दे सकती हैं। ज्यादातर महिलाएं जब अगली बार गर्भधारण के लिए ट्राय करेंगी, तो एक सफल गर्भावस्था होगी।

कोई विशेष कारण भी हो सकता है

डॉ. साठे बताती हैं, कि आपको यह समझने की आवश्यकता है कि 1 से 3% महिलाओं को प्रभावित करने वाले आवर्तक गर्भावस्था के नुकसान (recurrent pregnancy loss) या आरपीएल (RPL) को 20 सप्ताह से पहले दो या अधिक गर्भधारण के नुकसान के रूप में परिभाषित किया गया है।

गर्भपात से बचने के लिए अपने प्रजनन स्वास्थ्य का ध्यान रखें। चित्र-शटरस्टॉक।

यहां ध्यान देने वाली बात यह है कि यदि आपको 2 से अधिक बार गर्भपात हुआ है, तो इसकी संभावना कम है कि यह कोई रेंडम घटना है। ज्‍यादा संभावना इस बात की है कि इसके पीछे कोई विशिष्ट असामान्यता या अंतर्निहित स्थिति है। यदि यह अनिर्धारित या अनुपचारित रहता है, तो दूसरी बार गर्भपात को खोने की संभावना बढ़ सकती है।

आप दोबारा गर्भधारण करने का प्रयास करने से पहले आप आदर्श रूप से पीरियड्स की प्रतीक्षा करने के बारे में सोच सकते हैं। दुर्भाग्य से, इस पर कोई आधिकारिक सहमति नहीं है।

यह भी पढें: गैस्ट्रिक और अपच जैसी समस्याओं के लिए दवा करके थक गईं हैं, तो ट्राय करें योग के ये 5 आसन

माहवारी पर नजर रखें

डॉ. साठे ने बताया “ज्‍यादातर महिलाओं को पीरियड्स गर्भपात के बाद चार से छह सप्ताह के भीतर वापस आने चाहिए। यदि आपका गर्भपात हो चुका है और जब तक कि आपका डॉक्टर सलाह न दे, आपको दोबारा कोशिश नहीं करनी चाहिए।

महत्वपूर्ण बात यह है कि आपको शारीरिक रूप से ही नहीं, बल्कि भावनात्मक रूप से भी तैयार रहने की जरूरत है। कुछ महिलाओं को चिकित्सकीय कारणों से प्रतीक्षा करने की सलाह दी जा सकती है। जैसे कि द्वितीय-ट्राइमेस्टर हानि (second-trimester loss), मोलर  प्रेगनेंसी (molar pregnancy), उपचार प्रक्रिया के साथ जटिलताएं आदि।”

आपको गर्भपात के कारणों को भी समझना होगा 

यह आपकी अगली गर्भावस्था में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है। 70 प्रतिशत से अधिक प्रारंभिक गर्भपात, भ्रूण यूप्लॉयडी (embryo aneuploidy) के कारण होते हैं (जहां 46 गुणसूत्र सामान्य कोटा से अधिक या कम होते हैं)। भ्रूण और गर्भपात में गुणसूत्रीय असामान्यता का जोखिम उम्र के साथ बढ़ता है।

“40 वर्ष की आयु के बाद, सभी गर्भधारणों का एक तिहाई से अधिक गर्भपात समाप्त हो जाता है। फाइब्रॉएड, आसंजन या पॉलीप जैसी गर्भाशय संबंधी विसंगतियां भी गर्भपात का कारण हो सकती हैं। जब इसका निदान नहीं किया जाता है या अनुपचारित छोड़ दिया जाता है।

जन्मजात गर्भाशय विकृति जैसे गर्भाशय सेप्टम (uterine septum) या डबल गर्भाशय (double uterus) आवर्तक गर्भावस्था के नुकसान (recurrent pregnancy loss) के साथ जुड़ा हो सकता है। अनियंत्रित मधुमेह, मोटापा, पॉलीसिस्टिक ओवेरियन सिंड्रोम (पीसीओएस) और ल्यूटल फेज डेफिशिएंसी के कारण महिलाओं में गर्भपात का खतरा अधिक होता है।

उन्होंने कहा, “छोटी अपरा रक्त वाहिकाओं (small placental blood vessels) में असामान्य रक्त के थक्कों का आरपीएल (RPL) में परिणाम देखने को मिल सकता है। फैक्टर वी लेडेन, प्रोथ्रोम्बिन जीन म्यूटेशन (Prothrombin Gene Mutation), एंटीथ्रोमबिन III (Antithrombin III) और प्लास्मिनोजेन एक्टिविटर इनहिबिटर -1 आनुवंशिक रूप से निर्धारित कारक हैं जो गर्भपात के जोखिम को बढ़ा सकते हैं।

गर्भपात का आपके भविष्य के गर्भधारण पर कोई  प्रभाव नहीं पड़ता है। चित्र-शटरस्टॉक।

एंटीफॉस्फोलिपिड सिंड्रोम (APLA) और थ्रोम्बोफिलिया के साथ महिलाओं में गर्भपात और यहां तक ​​कि गर्भावस्था से संबंधित जटिलताओं जैसे उच्च रक्तचाप, विकास में प्रतिबंध और अचानक भ्रूण की मृत्यु का खतरा अधिक होता है।”

यहां कुछ स्वास्थ्य जटिलताएं हैं जो गर्भपात के कारण हो सकती हैं

डॉ. साठे कहती हैं कि “गर्भपात के बाद शारीरिक और भावनात्मक रूप से ठीक होने में थोड़ा समय लग सकता है। शारीरिक रूप से ठीक होने में कितना समय लगता है यह इस बात पर निर्भर करता है कि आप अपनी गर्भावस्था में कितने समय तक थे, आपको कि उपचार की आवश्यकता है और आपको कोई जटिलता थी या नहीं। 

आपके गर्भपात के बाद, आपको 2 सप्ताह तक असुविधा, ऐंठन और रक्तस्राव का अनुभव होता है, भारी रक्तस्राव का खतरा है। कभी-कभी, कुछ गर्भावस्था के ऊतक गर्भ में पीछे रह जाते हैं और जब तक कि उनकी जांच करके उन्हें साफ नहीं किया जाता है, तब तक यह संक्रमण हो सकता है। गर्भपात के दौरान या बाद में आने वाली जटिलताओं को रोकने के लिए अपने स्त्री रोग विशेषज्ञ के साथ परामर्श करना महत्वपूर्ण है।”

गर्भावस्‍था में लाल शिमला मिर्च का सेवन काफी फायदेमंद होता है। चित्र: शटरस्‍टॉक

क्या सावधानियां गर्भपात के खतरे को कम करने में मदद कर सकती हैं?

लाइफस्टाइल में कुछ बदलाव करने से वास्तव में गर्भपात से बचने में मदद मिल सकती है। यहां 6 महत्वपूर्ण सुझाव दिए गए हैं:

  1. गर्भपात के अंतर्निहित कारण को पहचानने की कोशिश करने के लिए अपने चिकित्सक द्वारा सुझाए गए परीक्षण कराएं। ऐसा करने से आपको भविष्य में गर्भपात से बचने के लिए आवश्यक कदम उठाने में मदद मिलेगी।
  2. अपने शारीरिक, मानसिक और भावनात्मक कल्याण पर ध्यान दें। आपके गर्भपात के कारण होने वाले तनाव और अवसाद को दूर करने का प्रयास करें। आवश्यकता पड़ने पर काउंसलर की मदद लें।
  3. एक स्वस्थ आहार को फॉलो करें और नियमित रूप से व्यायाम करें।
  4. एक और गर्भावस्था का प्रयास करने से पहले फोलिक एसिड का सप्लीमेंटेशन शुरू करें।
  5. धूम्रपान बंद करें, कैफीन और शराब पर कटौती करें, और एक आदर्श वजन बनाए रखें
  6. पर्याप्त पानी पिएं।

डॉ. साठे ने निष्कर्ष निकाला, कि “इसके अलावा, एक आशावादी दृष्टिकोण रखें और अपने समग्र कल्याण का ख्याल रखें।”

एक गर्भपात शरीर और मन दोनों के लिए कठिन हो सकता है लेकिन थोड़ी सतर्कता आपको फिर से प्रयास करने के लिए प्रोत्साहित करने में एक लंबा रास्ता तय कर सकती है।

यह भी पढें: क्या निपल्‍स पर बाल होना सामान्य है? हम बता रहे हैं इस बारे में सब कुछ

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।