वैलनेस
स्टोर

अनचाही प्रेगनेंसी से निपटने के लिए स्परमिसाइडल क्रीम का उपयोग करने से पहले ये जरूर पढ़ लें

Updated on: 10 December 2020, 12:02pm IST
अनचाही प्रेगनेंसी से बचने के लिए बाजार में ढेरों कॉन्ट्रासेप्टिव मौजूद हैं। अगर आप स्परमिसाइडल क्रीम या जेल का इस्तेमाल करने जा रही है तो ये लेख आपके लिए ही है।
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 83 Likes
अनचाही प्रेगनेंसी से निपटने के लिए स्परमिसाइडल क्रीम का उपयोग। चित्र: शटरस्‍टॉक

क्या आपको पता है अनचाही प्रेगनेंसी से बदतर क्या है? उससे होने वाला जनसंख्या विस्फोटक यानी तेजी से बढ़ती आबादी।
सेक्सुअल रूप से एक्टिव महिलाएं अनचाही प्रेगनेंसी से बचने के लिये अधिकांश कंडोम या खाने वाली पिल्स का इस्तेमाल करती हैं। लेकिन कई महिलाएं दूसरे विकल्पों को भी अपनाती हैं।
असल मे हॉर्मोनल बर्थ कंट्रोल पिल्स हर किसी को सूट नहीं करतीं हैं और मूड स्विंग, वेट बढ़ना और डिप्रेशन जैसी गम्भीर समस्याओं को पैदा करतीं हैं। और कंडोम कई लोगों के लिए सेक्सुअल आनन्द को बाधित करता है। यहीं काम आती है स्पर्म मारने वाली क्रीम यानी स्पर्मीसाइड।

स्पर्म की दुश्मन हैं स्परमिसाइडल क्रीम

जर्नल ऑफ फर्टिलाइजेशन में प्रकाशित विस्तृत स्टडी के अनुसार स्पर्मीसाइड एक ऐसा ड्रग है जो स्पर्म को खत्म करने की क्षमता रखता है।
स्पर्मिसाइड को संभोग से पहले योनि में गहराई तक लगाया जाता है और इससे गर्भधारण को दो तरीकों से रोका जाता है-

सर्विक्स के प्रवेश द्वार को अवरुद्ध करके जिससे स्पर्म एग तक नहीं पहुंच पाते।
और दूसरा फर्टिलाइजेशन के लिए अंडे तक स्पर्म को अच्छी तरह से बढ़ने से रोकना।

वे इन 6 अलग-अलग रूपों में बाजार में उपलब्ध हैं-

· एक शुक्राणुनाशक फोम, जिसे एक एप्लीकेटर की मदद से योनि में लगाया जा सकता है।
·एक गर्भनिरोधक फिल्म, जिसे योनि में डालने की आवश्यकता होती है। एक शुक्राणुनाशक जेली, जिसे एक वेजाइनल ऐप्लिकेटर का उपयोग करके योनि में लगाने की आवश्यकता होती है।
· स्परमिसाइडल गोलियां जो फोम में पिघल जाती हैं और सेक्स करने से पहले 10-15 मिनट के लिए योनि (सर्विक्स के पास) में रखने की आवश्यकता होती है।
·शुक्राणुनाशक क्रीम जो योनि में लगाने की आवश्यकता होती है।
· शुक्राणुनाशक स्पंज जो एक नरम, डिस्क-आकार का स्क्विशी प्लास्टिक का टुकड़ा है, जिसे अनचाहे गर्भ को रोकने के लिए शुक्राणु के प्रवेश द्वार को अवरुद्ध करने के लिए संभोग से पहले सर्विक्स के पास रखा जाता है।

हॉर्मोनल पिल्स से बेहतर है स्परमिसाइडल क्रीम।चित्र- शटरस्टॉक।

लेकिन सबसे अच्छा रूप कौन सा है?

डॉ विद्यानाथन बताते हैं, “जेल, फिल्म या सपोसिटरी जैसे विभिन्न शुक्राणुनाशकों के बीच प्रभावशीलता में कोई अंतर नहीं है। यह केवल शुक्राणुनाशक में मौजूद नोनोऑक्सीनोल -9 / N-9 नामक कार्बनिक यौगिक की मात्रा पर निर्भर करता है, जो मूल रूप से शुक्राणु को मारने या कमजोर करने के लिए जिम्मेदार है।”
“सबसे प्रभावी शुक्राणुनाशक में कम से कम 100 मिलीग्राम नोनोऑक्सीनोल -9 प्रति खुराक होता है। एक महिला के गर्भवती होने की संभावना अधिक होती है यदि वह कमजोर शुक्राणु नाशक का उपयोग करती है”, डॉ विद्यानाथन बताते हैं।

क्या शुक्राणुनाशक वास्तव में बर्थ कंट्रोल के लिए प्रभावी हैं?

“गर्भनिरोध के लिए अकेले इस्तेमाल किए जाने वाले स्पर्मीसाइड में विशिष्ट उपयोगकर्ताओं के लिए 28% की उच्च विफलता दर होती है। इसका मतलब यह है कि 1 वर्ष में 100 में से 28 महिलाएं जो शुक्राणुनाशकों का उपयोग करती हैं”, डॉ विद्यानाथन कहते हैं।

यौन रोग का संक्रमण ओरल सेक्‍स से भी हो सकता है। चित्र: शटरस्‍टॉक
यौन रोग से नहीं बचाती है स्पेर्मिसाइडल क्रीम। चित्र: शटरस्‍टॉक

वैसे, यह एकमात्र नकारात्मक पहलू नहीं है

यदि आपको लगता है कि बर्थ कंट्रोल के लिए शुक्राणुनाशकों के उपयोग के बावजूद गर्भवती होने की 28% संभावना उनका एकमात्र नुकसान है, तो डॉ विद्यानाथन बताते हैं-

· कुछ लोगों को नॉनऑक्सिनॉल -9 से एलर्जी होती है, जो अधिकांश शुक्राणुनाशकों में सक्रिय तत्व हैं। वे योनि में खुजली या घावों पैदा कर सकते हैं।
·यह आपके साथी के लिए एक समस्या पैदा कर सकता है और पेशाब में जलन हो सकती है।
· कंडोम के समान, शुक्राणुनाशक आपको यौन संचारित रोगों से बचाते नहीं हैं।
·वास्तव में, शुक्राणुनाशकों में नॉनॉक्सिनॉल -9 से एचआईवी / एड्स होने का खतरा बढ़ सकता है
· इससे आपको यूरिनरी ट्रैक्ट के संक्रमण होने का खतरा भी हो सकता है।
· शुक्राणुनाशक को सही तरीके से इस्तेमाल ना करने से दर्द हो सकता है।

तो, इसका प्रचार क्यों होता है?

· क्योंकि, गर्भ निरोधक के लिए शुक्राणुनाशकों का उपयोग करना एहतियात रखने से बेहतर है।

इसके अलावा डॉ विद्यानाथन के अनुसार, उनके निम्नलिखित फायदे भी हैं:

· वे महिला या पुरुष की भविष्य की प्रजनन क्षमता को प्रभावित नहीं करते हैं क्योंकि वे केवल संभोग के समय उपयोग किए जाते हैं।
·वे स्तनपान करते समय उपयोग करने के लिए सुरक्षित हैं (जन्म नियंत्रण की गोलियां जिसमें एस्ट्रोजेन शामिल हैं)।
· वे जन्म नियंत्रण के हार्मोनल तरीकों की तुलना में अपेक्षाकृत कम महंगे हैं।
· उन्हें महिलाओं के लिए सुरक्षित माना जाता है, जिन्हे अन्य स्वास्थ्य समस्याएं हैं (जन्म नियंत्रण की गोलियो के मुकाबले)

फैसला?

चूंकि शुक्राणुनाशक अवांछित गर्भावस्था को रोकने या यौन संचारित संक्रमणों से बचाने के लिए बहुत प्रभावी नहीं हैं, इसलिए डॉ विद्यानाथन उन्हें बेहतर परिणामों के लिए कंडोम के साथ उपयोग करने का सुझाव देते हैं।
यदि आप गर्भनिरोधक के लिए पूरी तरह से उस पर निर्भर करती हैं, तो शुक्राणुनाशक का उपयोग करते समय वह निम्नलिखित सावधानियां जरूर बरतें-
ध्यान से निर्देशों का पालन करें यह सुनिश्चित करने के लिए कि शुक्राणुनाशक को योनि में ठीक से रखा गया है।

याद रखें, शुक्राणुनाशक को योनि में जितना संभव हो सके गहरे में डाला जाना चाहिए। संभोग के प्रत्येक कार्य के लिए एक नई खुराक का उपयोग करें।
शुक्राणुनाशक लगाने या डालने के बाद, संभोग करने से पहले उत्पाद पर लगभग 15 मिनट तक या जो भी समय निर्धारित किया गया है, प्रतीक्षा करें। यदि आप एक शुक्राणुनाशक लगाने के आधे घंटे के भीतर संभोग नहीं करते हैं, तो यह देखने के लिए उत्पाद निर्देश पढ़ें इसे फिर से लगाने की आवश्यकता है या नहीं।

हालांकि डॉचिंग की सलाह बिल्कुल नहीं दी जा रही है, पर जो महिलाएं शुक्राणुनाशकों का उपयोग करती हैं, उन्हें विशेष रूप से संभोग के बाद कम से कम 8 घंटे तक इससे बचना चाहिए, ताकि गर्भावस्था को रोकने के लिए शुक्राणुनाशक काम करना जारी रख सकें।

यदि आप इन सभी एहतियाती कदमों का पालन करते हैं, तो आप अनचाहे गर्भ से बच सकती हैं और आपको कोई समस्या नहीं होगी।

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।