ग्रेडेड वेट मैनेजमेंट के साथ ‘डायबिटीज़’ को हराएं, एक्सपर्ट दे रहीं हैं सुझाव

मोटापा टाइप 2 मधुमेह के प्रमुख कारणों में से एक है। एक विशेषज्ञ का कहना है कि वजन घटाने से आपके स्वास्थ्य में फायदा होता है।
diabetes aur weight loss
वजन घटाने से आपके स्वास्थ्य में फायदा होता है। चित्र : शटरस्टॉक
Dr Aparna Govil Bhasker Updated: 27 Oct 2023, 17:54 pm IST
  • 121

मधुमेह और मोटापा एक साथ पूरी दुनिया में एक प्रमुख स्वास्थ्य चिंता बन गए हैं। दोनों स्थितियां आपस में जुड़ी हुई हैं और टाइप 2 मधुमेह के अधिकांश रोगी या तो अधिक वजन वाले हैं या मोटापे के साथ जी रहे हैं। ‘मधुमेह’ नई महामारी है।

ऐसा माना जा रहा है कि मोटापे से संबंधित मधुमेह के रोगियों की संख्या दोगुनी हो जाएगी और वर्ष 2025 तक 300 मिलियन तक पहुंच जाएगी। भारतीयों को विशेष रूप से पश्चिमी आबादी की तुलना में जेनेटिक प्रवृत्ति और शरीर में उच्च वसा प्रतिशत के कारण टाइप 2 मधुमेह होने का खतरा होता है।

डायबिटीज और वेट लॉस

टाइप 2 मधुमेह के रोगियों के लिए वज़न घटाना बेहद ज़रूरी है। अध्ययन से पता चला है कि मामूली वजन घटाने से भी डायबिटीज को नियंत्रित किया जा सकता है। इससे मधुमेह की शुरुआत में देरी हो सकती है। इससे जीवन प्रत्याशा में भी वृद्धि होती है। शरीर के कुल वजन घटाने के 5-10% की औसत वजन घटाने से समग्र फिटनेस में सुधार होता है। रक्त शर्करा का बेहतर नियंत्रण होता है, दवाओं की आवश्यकता कम हो जाती है और हृदय रोग का खतरा कम हो जाता है।

डायबिटीज के रोगियों को अपना विशेष ध्यान रखन की जरूरत है।चित्र-शटरस्टॉक।

मधुमेह रोगी के लिए ग्रेडेड वेट मैनेजमेंट

मोटापे का प्रबंधन रोग की श्रेणी या गंभीरता पर निर्भर करता है।

ओवरवेट लोगों के लिए

बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) 23.5 से 27.5 किग्रा/एम2 के बीच वाले मरीज अधिक वजन की श्रेणी में आते हैं। ये रोगी स्वस्थ आहार और जीवन शैली में संशोधन के साथ वजन कम कर सकते हैं। स्वस्थ आहार में बदलाव के लिए कुछ सुझाव हैं:

फाइबर युक्त आहार लें – ताजे फल, साबुत अनाज, सब्जियां और फलियां खाना एक अच्छा विचार है। बाजरा, रागी, मक्का, ज्वार के लिए जाएं। सफेद चावल की जगह लाल या काले चावल चुनें। डाइट में स्प्राउट्स शामिल करें। आहार में पर्याप्त मात्रा में प्रोटीन शामिल करें। हरी सब्जियां और सलाद खूब खाएं।

भोजन का सही अनुपात महत्वपूर्ण है – जंक, मसालेदार, तैलीय, डिब्बाबंद और प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थों का सेवन अधिक न करें। रोजाना अपने नमक का सेवन देखें। नियमित अंतराल पर खाएं।

चीनी कम खाएं – सबसे महत्वपूर्ण बात, उस अतिरिक्त चीनी में कटौती करें। मिठाई, कोला, सोडा, जूस जो कैलोरी में उच्च हैं, उन्हें ना कहें।

हर दिन व्यायाम करें – आप तैराकी, साइकिल चलाना, जिमिंग, दौड़ना, एरोबिक्स, शक्ति प्रशिक्षण, योग या पैदल चलने जैसी गतिविधियां कर सकते हैं। कोई भी व्यायाम या दिनचर्या शुरू करने से पहले किसी फिटनेस विशेषज्ञ से सलाह लें।

पर्याप्त नींद लेने की कोशिश करें और तनाव से दूर रहें। नियमित रूप से अपने रक्त शर्करा के स्तर की निगरानी करके उन पर नज़र रखें।

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें
अपना वज़न नापें। चित्र: शटरस्‍टॉक

ग्रेड 1 मोटापे वाले मधुमेह रोगी

27.5 से 32.5 Kg/m2 के बीच बीएमआई वाले मरीज ग्रेड 1 मोटापे की श्रेणी में आते हैं। जैसा कि ऊपर चर्चा की गई है, ये रोगी आहार और जीवन शैली में संशोधन से भी लाभान्वित हो सकते हैं। इन रोगियों के लिए वजन घटाने वाली दवाओं की भी भूमिका होती है, जिन्हें इलाज करने वाले मधुमेह विशेषज्ञ/एंडोक्रिनोलॉजिस्ट के साथ चर्चा के बाद निर्धारित किया जा सकता है। रक्त शर्करा के स्तर पर नजर रखना महत्वपूर्ण है और कड़ी निगरानी की जानी चाहिए। यदि वजन घटाने के अन्य तरीके प्रभावी नहीं हैं, तो इस श्रेणी के मरीजों को एंडोस्कोपिक वजन घटाने के उपचार से भी फायदा हो सकता है।

ग्रेड 2 और 3 मोटापे वाले मधुमेह रोगी

32.5 से 37.5 Kg/m2 के बीच बीएमआई वाले मरीज ग्रेड 2 मोटापे की श्रेणी में आते हैं। मोटापे और टाइप 2 मधुमेह के उपचार के लिए आहार और जीवन शैली में संशोधन, ड्रग थेरेपी और एंडोस्कोपिक उपचारों के अलावा, सर्जरी पर भी विचार किया जा सकता है। मेटाबोलिक सर्जरी से मधुमेह में लंबे समय तक छूट मिल सकती है और टाइप 2 मधुमेह के जोखिम को कम किया जा सकता है। 37.5 Kg/m2 से अधिक बीएमआई वाले मरीज ग्रेड मोटापे की श्रेणी में आते हैं और बेरिएट्रिक/मेटाबोलिक सर्जरी से काफी लाभान्वित होते हैं। सर्जरी से न केवल वजन कम होता है, बल्कि इससे मधुमेह भी जल्दी दूर हो जाता है।

सारांश

मोटापे और टाइप 2 मधुमेह के बढ़ते स्तर के साथ, रणनीतियों पर ध्यान केंद्रित करना आवश्यक है। वजन कम करना मधुमेह प्रबंधन का एक अभिन्न अंग है। रोग की गंभीरता के अनुसार सही उपचार के साथ, हम अपने रोगियों को एक स्वस्थ जीवन जीने में मदद कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें : ये 8 लक्षण बताते हैं कि आप में आयरन की कमी है, जरूरी है इस पर ध्यान देना

  • 121
लेखक के बारे में

Dr Aparna Govil Bhasker is a bariatric and laparoscopic surgeon at Dr. Aparna’s Laparoscopy & Bariatric Surgery Centre, Mumbai. ...और पढ़ें

अगला लेख