पीठ के बल सोना या पेट के बल : आइए पता करते हैं कौन सा है सोने का सबसे अच्छा तरीका

एक सही स्लीपिंग पोजीशन स्वस्थ रहने और आराम से सोने में मदद कर सकती है। पर क्‍या है सोने की सबसे सही मुद्रा पीठ के बल सोना या पेट के बल।
navratri fasting rules
अच्छी नींद लें और स्लीप साइकिल मेन्टेन करें। चित्र-शटरस्टॉक।
टीम हेल्‍थ शॉट्स Updated: 2 Mar 2022, 12:37 pm IST
  • 93

आपकी स्लीपिंग साइकिल लगातार कई कारणों से प्रभावित हो सकती है। एक सही स्लीपिंग पोजीशन आपकी नींद में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकती है। दुर्भाग्य से, लंबी अवधि के लिए एक ही स्थिति में सोने से स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं – शरीर में दर्द से लेकर स्लीप एपनिया तक।

ज्यादातर लोग या तो अपनी पीठ के बल सोते हैं या पेट के बल। हालांकि, सबको यह पता होना चाहिए कि उनके लिए सोने की सबसे अच्छी पोजीशन क्या है। इन दोनों पोजीशन के अपने फायदे और नुकसान हैं।

पेट के बल सोना

यह स्लम्बर पोज़ आपको बेचैन करने और मुड़ने के लिए ज्‍यादा संभावनाशील है। इसके अलावा, यह आपकी रीढ़, गर्दन, कंधों और पीठ के निचले हिस्से में खिंचाव पैदा कर सकता है।

कुछ लोग पेट के बल सोना पसंद करते हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक
कुछ लोग पेट के बल सोना पसंद करते हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक

हीटबर्न या एसिडिटी के मामले में, आपके पेट के बल लेटने से लक्षण और ज्यादा गंभीर हो सकते हैं। क्योंकि जब आप लेट रहे होते हैं, तो पेट से एसिड आपके पाचन तंत्र को प्रभावित कर सकता है। पेट के बल लेट जाना और लंबे समय तक तकिये से चेहरे को दबाने से, समय से पहले झुर्रियों का विकास हो सकता है।

नेशनल लाइब्रेरी ऑफ मेडिसिन द्वारा प्रकाशित एक शोध के अनुसार, पेट के बल सोने से पसली की श्वसन गति को अधिक ऊर्जा की आवश्यकता हो सकती है। ऐसा इसलिए, क्योंकि शरीर को गुरुत्वाकर्षण के विरुद्ध ऊपर उठाने की आवश्यकता होती है। इसलिए, शिशु, गर्भवती महिलाएं और बुजुर्गों को इस स्थिति में सोना मना किया जाता है। इससे उन्हें सांस लेने और लचीलेपन में दिक्कत का सामना करना पड़ता है।

यह भी पढ़ें – Proning : कोविड पॉजिटिव होने पर कैसे मददगार हो सकता उल्‍टे लेटना या पट पड़ के सोना

हालांकि पेट के बल सोने के कई दुष्परिणाम हैं, लेकिन जब खर्राटों और स्लीप एपनिया के जोखिम को कम करने की बात आती है, तो यह स्थिति फायदेमंद है।

पीठ के बल सोना

इस तरह सोने से कंधे के दर्द से राहत के लिए सबसे आदर्श स्थिति है। यह स्थिति पूरे रीढ़ पर भार वितरित करती है और रीढ़ के प्राकृतिक मोड़ को बनाए रखती है। इस स्थिति का प्राथमिक लाभ यह है कि यह रीढ़ के पोस्चर के लिए अच्छी है। यह आपकी मुद्रा को ठीक करती है जब आप सीधे खड़े होते हैं।

sone ka sahi tarika kya hai
आपको पता होना चाहिए कि सोने का सही तरीका क्या है। चित्र: शटरस्टाॅक

हालांकि, यह पीठ दर्द की समस्या वाले लोगों के लिए अच्छी स्थिति है। इसके बावजूद यह खर्राटों और स्लीप एपनिया की समस्याओं को बढ़ा सकती है। पीठ के बल सोने से गले की मांसपेशियां पीछे की ओर गिर सकती हैं और वायु प्रवाह में रुकावट हो सकती है। जिससे खर्राटे और स्लीप एपनिया की समस्या हो सकती।

तो अब आपको सोने के लिए कौन सी स्थिति चुननी चाहिए?

नींद के लिए सही पोजीशन के मामले में सही विकल्‍प कई कारकों जैसे उम्र, पीठ या कंधे के दर्द और स्लीप एपनिया जैसी स्थितियों से प्रभावित होता है। दोनों पीठ और पेट के बल सोना संभवतः अच्छा दृष्टिकोण है। जो आपके लिए आरामदायक होगा, जिससे आप अच्छी नींद ले सकते हैं।

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

यह भी पढ़ें – आपकी गट हेल्थ भी करती है आपकी इम्युनिटी को प्रभावित, एक्‍सपर्ट बता हरे हैं कैसे

  • 93
लेखक के बारे में

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख