और पढ़ने के लिए
ऐप डाउनलोड करें

“आयुर्वेद मेरे जीने का तरीका है” कह रहीं हैं बॉलीवुड सेलेब मीरा राजपूत

Published on:4 November 2021, 09:30am IST
विश्व आयुर्वेद दिवस अभी समाप्त हुआ है, लेकिन इस प्राचीन चिकित्सा पद्धति की प्रासंगिकता बनी हुई है! आयुर्वेद की एक सच्ची फॉलोअर बॉलीवुड सेलेब मीरा राजपूत हैं। इन्होंने हाल ही में एक सोशल मीडिया पोस्ट में समग्र जीवन के साथ अपने प्रयास के बारे में बताया है!
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 103 Likes
Mira Rajput aur ayurveda
जानिए मीरा राजपूत के जीवन में आयुर्वेद का महत्व। चित्र: मीरा राजपूत, फेसबुक

प्राचीन काल से आयुर्वेद के चमत्कारों की बात की जाती रही है। इसके लाभों को पुरानी पीढ़ी द्वारा बड़े पैमाने पर अपनाया गया था। लेकिन धीरे-धीरे और लगातार, यह कई लोगों के लिए जीवन जीने का एक तरीका बन गया है। इसमें बॉलीवुड सेलेब मीरा राजपूत भी शामिल हैं।

विश्व आयुर्वेद दिवस के अवसर पर, मीरा राजपूत ने आयुर्वेद के सौजन्य से अपने समग्र जीवन जीने के तरीके के बारे में बताया। यहां उन्होंने एक इंस्टाग्राम पोस्ट में लिखा है, “आयुर्वेद जीवन का विज्ञान है। यह जीवन का एक तरीका है। मेरे जीवन का तरीका। यह सिर्फ आंवला, नीम और अश्वगंधा या चूर्ण, रस और लेप नहीं है। यह प्रकृति (जिस व्यक्तिगत संविधान के साथ आप पैदा हुए थे), विकृति (संतुलन या असंतुलन की वर्तमान स्थिति)। यह जीवन के विभिन्न चरणों, बाला, मध्य और जिरना, और ऋतु के माध्यम से हमारी यात्रा को बताता है।”

यह पहली बार नहीं है कि मीरा ने स्वस्थ जीवन शैली जीने के तरीकों के बारे में जानकारी दी है। उनका सोशल मीडिया फीड इसी प्रकार की पोस्ट के साथ भरा हुआ है। यह हमें उनके आहार, फिटनेस रूटीन और स्किन केयर से जुड़ी रहस्यों के बारे में बताता है! 

जीवन का ‘आयुर्वेद’ तरीका

उसी पोस्ट में, मीरा राजपूत ने साझा किया है कि आयुर्वेद “आत्म-साक्षात्कार का अंतिम अभ्यास” है। यह “स्वयं को जानने” और स्वयं के निरंतर विकास की प्रक्रिया है।

आप सभी जानते हैं कि स्वस्थ पेट आपके समग्र स्वास्थ्य और कल्याण को नियंत्रित करता है। यही कारण है कि मीरा आयुर्वेद में और भी अधिक विश्वास करती है।

Ayurveda ek lifestyle hai
आयुर्वेद एक जीवन शैली है। चित्र : शटरस्टॉक

“दिलचस्प रूप से आयुर्वेद के ‘हृदय’ में पाचन है। यह केवल सही खाने के लिए नहीं बोलता, बल्कि मन, इंद्रियों और आत्मा के खाने से भी जुड़ा है। यह आंतरिक संतुलन के बारे में उतना ही है, जितना कि यह प्रकृति के साथ सामंजस्य और उसके साथ तालमेल बिठाने के बारे में है। सूर्य की गति, ऋतुएं, हवा की गुणवत्ता और अंतर्निहित गुण के माध्यम से यह शरीर की प्रतिक्रिया बताता है।”

महामारी ने हमें स्वास्थ्य के महत्व का एहसास कराया है, लेकिन साथ ही साथ भय की भावना भी पैदा की है। मीरा ने सभी से आयुर्वेद को अपने जीवन का हिस्सा बनाने का आग्रह किया। प्राचीन चिकित्सा पद्धति यह समझने के बारे में है कि हम कौन हैं और शरीर की देखभाल कैसे करनी चाहिए। यह डर से नहीं बल्कि दया और ज्ञान से किया जाता हैं।

उन्होंने कहा, “हमारी भारतीय विरासत का ज्ञान हमारे सम्मान का हकदार है, क्योंकि यह 3,000 साल बाद भी प्रासंगिक है।”

मीरा राजपूत की इंस्टाग्राम पोस्ट:

 

View this post on Instagram

 

A post shared by Mira Rajput Kapoor (@mira.kapoor)

चलते चलते 

स्वास्थ्य वास्तव में धन है, यही कारण है कि मीरा राजपूत ने अंत में कहां , “अपने दिल से खाओ, अपनी आत्मा से पचाओ और पेट से हील करो।”

यह भी पढ़ें: अगर ये आपके बेबी की पहली दिवाली है, तो इन 5 सुरक्षा उपायों को बिल्कुल भी नजरंदाज न करें

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।