वैलनेस
स्टोर

कोविड-19 महामारी के बीच आईवीएफ ट्रीटमेंट करवा रहीं हैं, तो इन सेफ्टी रूल्स का भी ध्यान रखें

Published on:9 September 2021, 19:30pm IST
कोविड - 19 के बीच फैमिली प्लान करने में कई चुनौतियां आ सकती हैं। जिनसे आपको सावधान रहने की ज़रुरत है। यदि आप आईवीएफ ट्रीटमेंट का रास्ता चुन रहीं हैं, तो इन सावधानियों का पालन करें।
Dr Ila Gupta
  • 89 Likes
covid-19 ke samay me IVF karwaya ja sakta hai
कोविड-19 महामारी के समय में आईवीएफ करवाया जा सकता है। चित्र: शटरस्टॉक

कोविड-19 महामारी के वैश्विक प्रसार ने दुनिया भर में स्वास्थ्य सेवा प्रणाली को बुरी तरह से प्रभावित किया है और इसका प्रभाव आईवीएफ ट्रीटमेंट पर भी देखने को मिला है।

दुनियाभर में लॉकडाउन के चलते इमरजेंसी की घोषणा की गई थी। मगर, धीरे-धीरे जैसे-जैसे स्थिति बेहतर हो रही है, हमारी स्वास्थ्य सेवा प्रणाली ने सहायक प्रजनन प्रौद्योगिकी (एआरटी) क्लीनिकों और सेवाओं (Assisted Reproductive Technology (ART) clinics and services) के कामकाज की अनुमति दी है।

गर्भवती महिलाओं और भ्रूण पर कोविड -19 वायरस और इसके टीकाकरण का प्रभाव अभी भी स्पष्ट नहीं है। ऐसे में इलाज के दौरान संक्रमित होने की चिंता और मौजूदा हालात में एआरटी सेवाओं के जरिए गर्भधारण की योजना मरीजों में चिंता और आशंका का कारण बन गई है।

इसलिए, सभी एआरटी क्लीनिकों के लिए यह आवश्यक और महत्वपूर्ण है कि वे प्रोटोकॉल तैयार करें और अपने रोगियों और स्वास्थ्य कर्मचारियों के जोखिम को कम करने के लिए रणनीति बनाएं।

रोगी की जानकारी और परामर्श

मरीजों को यह समझना चाहिए कि चूंकि कोविड-19 एक नई बीमारी है, इसलिए इसके बारे में नैदानिक ​​ज्ञान सीमित है। इसमें भी कोई संदेह नहीं है कि यह गर्भावस्था के दौरान अधिक गंभीर हो सकती है।

iske bare me poori jankari lena zaruri hai
इसके बारे में पहले ही पूरी जानकारी प्राप्त कर लेना जरूरी है। चित्र: शटरस्टॉक

तब भी उपलब्ध अध्ययन प्रतिकूल गर्भावस्था के परिणाम या जन्म दोषों के बढ़ते जोखिम का कोई सबूत नहीं दिखाते हैं। आईवीएफ उपचार करने वाले व्यक्तियों को उनके प्रोफ़ाइल के आधार पर विस्तार से परामर्श दिया जाना चाहिए।

रोगी और परिवार के सदस्यों को इन बातों का पता होना चाहिए

  1. कोविड-19 संक्रमण के लक्षण
  2. मास्क पहनने का महत्व
  3. हाथों की सफाई और सेनिटाइज
  4. शारीरिक संपर्क को कम करना
  5. बेवजह बाहर जाने से बचना
  6. सोशल डिस्टेंसिंग का महत्व
  7. अपने डॉक्टर की सलाह का ईमानदारी से पालन करना।

उच्च रक्तचाप, मधुमेह, लिवर की बीमारी, गुर्दे या फेफड़ों की बीमारी जैसी अन्य चिकित्सा समस्याओं वाले रोगियों को गर्भावस्था की योजना बनाने से पहले अपने चिकित्सक से परामर्श करना चाहिए।

अपने साथ बहुत से अटेंडेंट को अस्पताल ले जाने से बचें।

जब आप चेकअप के लिए अस्पताल जा रहे हों तब भी उचित सामाजिक दूरी का पालन करें।

यदि आप किसी कोविड पॉजिटिव रोगी के संपर्क में आए हैं या आईवीएफ उपचार के दौरान या गर्भावस्था के दौरान कोविड के कोई लक्षण विकसित हुए हैं तो अस्पताल जाने से बचें और आगे की सलाह के लिए अपने डॉक्टर से सलाह लें।

कोई भी ट्रीटमेंट लेने से पहले आरटी-पीसीआर परीक्षण करें। नेगेटिव रिपोर्ट आने पर ही आगे बढ़ें।

यदि टेस्ट पॉजिटिव आता है, तो आईवीएफ ट्रीटमेंट न लें और आगे की सलाह के लिए अपने चिकित्सक से परामर्श करें।

इलाज के दौरान या गर्भावस्था के दौरान कोविड टीकाकरण सुरक्षित है, जैसा कि गर्भवती रोगियों पर अमेरिकी अध्ययन में बताया गया है। टीका लेने के बाद गर्भावस्था की योजना बनाने में देरी करने की कोई आवश्यकता नहीं है। इसे साबित करने के लिए हमें और अधिक अध्ययन और डेटा की आवश्यकता है।

संक्रमण के जोखिम को कम करने के लिए एक ऐसे सेंटर की तलाश करें, जो विशेष रूप से बांझपन और आईवीएफ ट्रीटमेंट दे रहे हों।

एक आदर्श आईवीएफ ट्रीटमेंट ऐसा होना चाहिए:

केंद्र के सभी क्षेत्रों का नियमित सैनिटाइजेशन और समय-समय पर स्टाफ प्रशिक्षण का संचालन करें।

apne center ke bare me bhi apko poori jankari honi chahiye
ध्यान रखें कि आपका सेंटर सभी कोविड गाइडलाइंस का पालन कर रहा है या नहीं। चित्र: शटरस्टॉक

एक ही समय में बहुत अधिक रोगी नहीं होने चाहिए, और भीड़भाड़ को कम करने के लिए नियुक्ति समय स्लॉट ठीक से तैयार किया जाना चाहिए।

कर्मचारियों को सुरक्षात्मक उपकरण और स्वच्छता उपकरणों से ठीक से दिया जाना चाहिए।

आमने-सामने की नियुक्तियों से बचने के लिए ऑनलाइन परामर्श या टेलीमेडिसिन लें।

आईवीएफ ट्रीटमेंट और गर्भावस्था के दौरान इन सभी चरणों और उपायों का पालन करते हुए, आप एक स्वस्थ शिशु की कामना कर सकती हैं।

यह भी पढ़ें – आईवीएफ करवाने के बारे में सोच रही हैं? तो एक्सपर्ट द्वारा सुझाई इन 5 बातों का रखें ध्यान

Dr Ila Gupta Dr Ila Gupta

Dr Ila Gupta is the Director, Ferticity Fertility Clinics, Delhi