क्या आपको भी सोते से उठते ही हाथ-पैर हिलाने में होती है तकलीफ? यह हो सकते हैं स्लीप पैरालिसिस के लक्षण

Published on: 11 March 2022, 20:30 pm IST

कभी बहुत गहरी नींद में आपको यह महसूस हुआ है कि आप अपने हाथ - पैर हिलाने में सक्षम नहीं हैं? यदि हां... तो यह स्लीप पैरालिसिस के कारण हो सकता है। जानिए इस स्थिति के बारे में।

kya hai sleep paralysis
स्लीप पैरालिसिस क्या है? जानिए इसके लक्षण और कारण. चित्र ; शटरस्टॉक

कभी – कभी जब आप बहुत गहरी नींद में होते हैं तो आप कॉन्शियस तो होते हैं, लेकिन हाथ – पैर एक झटके में हिलाने से नहीं हिलते हैं। यह सब स्लीप पैरालिसिस (Sleep Paralysis) के कारण हो सकता है। अमेरिकन एकेडमी ऑफ स्लीप मेडिसिन के अनुसार, स्लीप पैरालिसिस वाले लोग आमतौर पर 14 से 17 साल की उम्र के बीच पहली बार इस स्थिति का अनुभव करते हैं।

यह काफी सामान्य नींद की स्थिति है। शोधकर्ताओं का अनुमान है कि 5 से 40 प्रतिशत लोग इस स्थिति का अनुभव करते हैं। मगर ऐसा क्यों होता है? आपको इस स्थिति के बारे में जानने की ज़रूरत है। क्या यह नॉर्मल है? या यह किसी गंभीर बीमारी का संकेत हो सकता है। चलिये पता करते हैं।

तो आखिर क्या है स्लीप पैरालिसिस?

सोते या जागते समय, आपका मस्तिष्क संकेत भेजता है जो आपकी बाहों और पैरों की मांसपेशियों को आराम देता है। परिणाम – मसल एटोनिया – आपको रैपिड आई मूवमेंट (आरईएम) नींद के दौरान स्थिर रहने में मदद करता है। स्लीप पैरालिसिस की वजह से, आप कॉन्शियस होते हैं लेकिन हिल नहीं सकते।

स्लीप पैरालिसिस कैसा होता है?

इस पैरालिसिस के दौरान, आप अपने आस-पास के बारे में जागरूक होते हैं, लेकिन हिल या बोल नहीं सकते। मगर आप अभी भी अपनी आंखें हिला सकते हैं और सांस ले सकते हैं। बहुत से लोग ऐसी चीजें सुनते या देखते हैं जो वहां नहीं हैं (मतिभ्रम), इसलिए, यह स्थिति को और भी भयावह बना देता है। स्लीप पैरालिसिस कुछ सेकंड या कुछ मिनट तक रह सकता है।

क्लीवलैंड क्लीनिक के अनुसार जानिए क्या हैं इसके लक्षण और कारण

जानिए स्लीप पैरालिसिस क्यों होता है?

रैपिड आई मूवमेंट (आरईएम) स्लीप स्टेज के दौरान, आपको सपने आने की संभावना होती है। मस्तिष्क आपके अंगों की मांसपेशियों को अपने आप को सपने देखने और खुद को चोट पहुंचाने से बचाने के लिए हिलने से रोकता है। स्लीप पैरालिसिस तब होता है जब आप नींद से बाहर आते हैं और कॉन्शियस होते हैं।

Nind ki kami ho sakta hai swashya jokhimo ka kaaran
नींद की कमी हो सकता है स्वास्थ्य जोखिमों का कारण। चित्र:शटरस्टॉक

क्या इसका कोई विशिष्ट कारण हैं?

इस स्थिति के कई कारण हैं, जिनमें शामिल हैं:

शिफ्ट में काम करना
सोने का अभाव
नींद में बाधा आना

क्या हैं स्लीप पैरालिसिस के लक्षण क्या हैं?

आपके अंगों में पैरालिसिस होना
बोलने में असमर्थता
घुटन की भावना
मतिभ्रम
डर
घबराहट
बेबसी
अपने गले के चारों ओर कसाव महसूस करना
दिन में नींद आना

Irregular sleep bhi weight gain ka kaaran hai
अनियमित नींद भी बढ़ते वजन का कारण है। चित्र: शटरस्टॉक

स्लीप पैरालिसिस किसे होता है?

यह सभी उम्र के लोगों में हो सकता है। साथ ही, नींद के बदलते शेड्यूल के साथ नींद की कमी के कारण होता है। बार – बार होने वाला स्लीप पैरालिसिस नार्कोलेप्सी का एक लक्षण है, जो एक तरह का नींद विकार है।

तो हम स्लीप पैरालिसिस को कैसे रोक सकते हैं?

स्लीप पैरालिसिस होने से रोकने के लिए आप बहुत कुछ नहीं कर सकते। मगर आपके जोखिम को कम करने के लिए आप कुछ कदम उठा सकते हैं।

स्लीप पैरालिसिस से बचने के सर्वोत्तम तरीकों में से एक है अपनी नींद की गुणवत्ता में सुधार करना। यहां हैं कुछ टिप्स

सोने और जागने के लिए निश्चित समय के साथ सोने का एक निश्चित समय निर्धारित करना।
एक आरामदायक नींद का वातावरण बनाना जो अंधेरे में हो और शांत हो।
सोने से पहले फोन, टैबलेट, ई-रीडर और कंप्यूटर को दूर रखना।
सोने से पहले स्नान करना, पढ़ने या सुखदायक संगीत सुनना, इससे आराम मिलता है।

यह भी पढ़ें : फोन और गैजेट्स ने मुश्किल कर दिया है सोना? तो इन 3 योगासनों का करें बिस्तर पर अभ्यास

ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ

प्रकृति में गंभीर और ख्‍यालों में आज़ाद। किताबें पढ़ने और कविता लिखने की शौकीन हूं और जीवन के प्रति सकारात्‍मक दृष्टिकोण रखती हूं।

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें