गुस्सा, चिड़चिड़ापन, थकान! कहीं ओमेगा-3 फैटी एसिड की कमी के संकेत तो नहीं? जानिए इससे कैसे उबरना है?

Published on: 30 January 2022, 08:00 am IST

ज्यादातर भारतीय महिलाएं विभिन्न कारणों से शाकाहार का पालन करती हैं। जिसके चलते उनमें ओमेगा 3 फैटी एसिड की कमी हो सकती है। और ये संकेत इसका प्रमाण हैं।

omega 3 fatty acid mansik aur sharirik samasyaon ko door karne mei madadgar hai.
ओमेगा-3 फैटी एसिड मानसिक और शारीरिक समस्याओं को दूर करने में मददगार है। चित्र: शटरस्टॉक

हमारे शरीर को विटामिन, आयरन, प्रोटीन समेत कई पोषक तत्वों की आवश्यकता पड़ती है। इसके अलावा भी कुछ ऐसे पोषक तत्व हैं, जिनके बारे में ज्यादातर लोग कम जानते हैं, लेकिन वे हमारे शरीर के लिए बहुत आवश्यक होते हैं। ऐसा ही एक पोषक तत्व है ओमेगा-3 फैटी एसिड (Omega-3 fatty acid)। अगर आप में भी थकान, हेयर फॉल और गुस्सा लगातार बढ़ता जा रहा है, तो ये ओमेगा 3 फैटी एसिड की कमी (Omega 5 Fatty acid deficiency) के संकेत हो सकते हैं। जानिए इस जरूरी पोषक तत्व के बारे में सब कुछ। 

क्यों जरूरी है ओमेगा 3 फैटी एसिड 

दरअसल, ओमेगा-3 फैटी एसिड शरीर की मानसिक और शारीरिक समस्याओं को दूर करने में सहायक है। वहीं, हृदय स्वास्थ्य के लिए ओमेगा -3 फैटी एसिड बेहद जरुरी होता है। ये शरीर की सूजन को कम करने, इम्यूनिटी बढ़ाने तथा हार्मोनल असंतुलन को दूर करने में मददगार है। जसलोक अस्पताल और जीओक्यूआईआई स्मार्ट हेल्थकेयर विशेषज्ञ डॉ. आरोशी गर्ग का कहना हैं कि शरीर में ओमेगा-3 फैटी एसिड की कमी के कारण कई तरह के लक्षण दिखाई देते हैं।

शाकाहारी लोगों में हो सकती है ओमेगा -3 फैटी एसिड की कमी (Omega-3 Deficiency Causes)

अमूमन देखा गया है कि शाकाहारी लोगों में इसकी कमी हो जाती है। वहीं जिन लोगों को फैट पचाने में परेशानी आती है, उनमें अक्सर ओमेगा -3 फैटी एसिड की कमी देखी जाती है। इसलिए आपको अपने डाइट प्लान में ऐसी चीजों को शामिल करना चाहिए, जिनमें यह तत्व अच्छी मात्रा में पाया जाता है।  

veg foods me omega 3 ki kami hoti hai.
वेज फूड्स में ओमेगा-3 की कमी होती है। चित्र : शटरस्टॉक

ओमेगा -3 फैटी एसिड की कमी के लक्षण (Omega-3 Deficiency Symptoms)

  1. कमजोर इम्यूनिटी

ओमेगा -3 फैटी एसिड की कमी के कारण शरीर की इम्यूनिटी कम हो जाती है। जिससे आप जल्दी-जल्दी बीमार पड़ने लगते हैं। इस कारण आलस और सुस्ती जैसे लक्षण दिखाई देने लगते हैं। विभिन्न बीमारियां होने की संभावना बढ़ जाती है।   

  1. हार्ट डिजीज का जोखिम 

यह हृदय को कई रोगों से बचाने में महत्वपूर्ण माना जाता है। शरीर में हानिकारक कोलेस्ट्रॉल को कंट्रोल करने में फायदेमंद है। ओमेगा फैटी एसिड स्ट्रोक और हार्ट अटैक जैसी गंभीर बीमारियों बचाता है। 

ये शरीर में ट्राइग्लिसराइड्स को कम करने के साथ ही ब्लड प्रेशर के संतुलन में सहायक है। जिन लोगों को हाई ब्लड प्रेशर की शिकायत है, उनके लिए ओमेगा-3 फैटी एसिड लाभदायक है। इसके अलावा यह हृदय की सेल्स और टिशूज में सूजन बढ़ने से रोकता है। ब्लड क्लॉटिंग में भी ओमेगा 3 सहायक है।  

  1. प्रेग्नेंसी और पीरियड्स की समस्याएं  

ये पीरियड्स की अवधि और दर्द कम करने में फायदेमंद है। गर्भवती महिलाओं को इसका सेवन करना चाहिए। दरअसल, यह बच्चों के दिमाग को तेज करने और उसके विकास में फायदेमंद माना जाता है।  

  1. एकाग्रता की कमी  

एकाग्रता और ध्यान में कमी ओमेगा-3 फैटी एसिड की कमी का लक्षण है। दरअसल, इसकी कमी के कारण छोटे बच्चों में चिंता और चिड़चिड़ापन बढ़ जाता है। वहीं, ओमेगा-3 की कमी के कारण बच्चों और वयस्कों में जल्द गुस्सा आने की समस्या देखी गई है। एंगर और एंग्जायटी से बचने के लिए उन चीजों को अपने आहार में शामिल करें, जिनमें ओमेगा-3 तत्व पाया जाता है।  

  1. किडनी की प्रॉब्लम 

जो लोग किडनी की किसी समस्या से जूझ रहे हैं, उनके लिए ओमेगा-3 फैटी एसिड बेहद फायदेमंद है। असल में ओमेगा-3 शरीर को डिटॉक्स करने और रेनल फंक्शन को ठीक करने में सहायक है। यह किडनी के कार्यों को ठीक करता है। जो लोग बढ़ती उम्र के साथ किडनी की समस्या से परेशान है, उन्हें भी इसका सेवन करना चाहिए।  

  1. आंखों की प्रॉब्लम 

आंखों की सेहत की लिए भी डीएचए नामक ओमेगा-3 फायदेमंद है। जो लोग मोतियाबिंद से ग्रस्त से उन्हें इसका सेवन करना चाहिए। ड्राई आईज से परेशान लोगों के लिए ओमेगा-3 फैटी एसिड फायदेमंद है। आंखों की रोशनी बढ़ाने के लिए ओमेगा से भरपूर चीजें जैसे- मछली का सेवन किया जा सकता है। इसके अलावा ओमेगा-3 आंखों की सेल्स और नर्व्स को बढ़ाता है।  

  1. अकड़न और जोड़ों का दर्द  

ओमेगा-3 की कमी के कारण गठिया और ऑस्टियोपोरोसिस जैसी तकलीफें आ सकती हैं। यह हड्डियों को मजबूत करने के लिए कैल्शियम की मात्रा बढ़ाता है। ऑस्टियोपोरोसिस के खतरे को कम करने में भी ओमेगा-3 मददगार है। गठिया के इलाज और जोड़ों के दर्द से निजात पाने के लिए ओमेगा-3 का सेवन किया जा सकता है।  

  1. हेयर फॉल 

बालों की मजबूती के लिए भी ओमेगा-3 बेहद जरुरी है। इसकी कमी के कारण बाल कमजोर हो जाते हैं और झड़ने लगते हैं। रूखे और डैमेज बालों से निजात पाने के लिए ओमेगा-3 का सेवन करना चाहिए। यह बालों के घनत्व और बनावट में परिवर्तन में भी सहायक है। 

balon ke liye omega 3 behad jaruri hai.

बालों की मजबूती के लिए भी ओमेगा-3 बेहद जरुरी है। चित्र: शटरस्टॉक

9 तनाव 

जो लोग मस्तिष्क विकारों और न्यूरोडीजेनेरेटिव रोगों से पीड़ित है उनके लिए ओमेगा-3 बेहद आवश्यक है। दरअसल, ओमेगा-3 हमारे मस्तिष्क के लिए जरुरी घटक है। इसकी कमी के कारण चिंता और तनाव महसूस होता है। ऐसे में इससे निजात पाने के लिए ओमेगा-3 से भरपूर फूड्स का सेवन करना चाहिए। 

10 स्किन की प्रॉब्लम  

त्वचा के रोगों जैसे सूजन, एक्जिमा और घाव आदि को दूर करने में ओमेगा-3 काफी मददगार है। शरीर में इसकी कमी के कारण स्किन अत्यधिक सेंसेटिव, मुंहासे और ड्राई हो सकती है। त्वचा की जलन को दूर करने में भी ओमेगा-3 मददगार है।  

यहां हैं वे फूड्स जो दूर कर सकते हैं ओमेगा-3 डेफिशिएंसी (Foods to overcome omega-3 deficiency)  

  1. दूध – ओमेगा 3 की कमी को दूर करने के लिए दूध, घी, तेल, वनस्पति और डेयरी उत्पादों का सेवन किया जा सकता है। इसके अलावा डॉक्टर से संपर्क करके ओमेगा-3 के सप्लीमेंट्स भी ले सकते हैं।  
  2. फिश- सार्डिन, ट्राउट, हेरिंग और सैल्मन नस्ल की मछलियों में काफी मात्रा ओमेगा-3 फैटी एसिड रहता है।
  3. सीड्स –इसके अलावा फ्लैक्स सीड्स, चिया सीड्स, सोयाबीन, कैनोला ऑयल, एवोकाडो और अखरोट का सेवन किया जा सकता है। 
  4. सी-फूड- क्लैम, सीप और मसल्स जैसे सी-फूड में अच्छी मात्रा में ओमेगा-3 फैटी एसिड तत्व पाया जाता है।  

जो लोग तनाव और मानसिक समस्याओं से जूझ रहे हैं, उन्हें ओमेगा-3 फैटी एसिड से भरपूर आहार लेना चाहिए। दरअसल, इम्यूनिटी को बूस्ट करने और वजन को संतुलित रखने में मददगार है।  

ये भी पढ़ें: कड़कती सर्दी में कुछ पौष्टिक और गरमा गरम खाना हैं, तो इन न्यूट्रिएंट पैक्ड सूप का मजा लें

श्याम दांगी श्याम दांगी

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें