और पढ़ने के लिए
ऐप डाउनलोड करें

एक आर्थोपेडिक सर्जन से जानिए कि कैसे आप अपने घर को फॉल–प्रूफ बना सकती हैं

Updated on: 20 May 2021, 11:29am IST
संगमरमर के चिकने फर्श या टाइलों वाली सीढ़ियां कभी भी गिरने का कारण बन सकती हैं। इसलिए जरूरी है कि चोटों के जोखिमो को कम करने के लिए आप अपने घर को फॉल–प्रूफ बनाएं।
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 91 Likes
ज्‍यादातर बुजुर्गों को घर में गिरने से चोट लगती है। चित्र: शटरस्‍टॉक
ज्‍यादातर बुजुर्गों को घर में गिरने से चोट लगती है। चित्र: शटरस्‍टॉक

घर पर गिरना काफी आम बात है और हम में से ज्यादातर के साथ ऐसा कभी न कभी हो चुका है। पर कभी-कभी गिरने से गंभीर चोट भी लग सकती है।

एक समूह वर्ग जो विशेष रूप से कमजोर है, वे हैं आपके एजिंग पेरेंट्स। ये देखते हुए कि ये चोट उन्हें गंभीर दर्द में छोड़ सकती है, आपको यह सुनिश्चित करने की आवश्यकता है कि आप अपने घर फॉल–प्रूफिंग के लिए सही कदम उठाएं।

रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र (सीडीसी) के अनुसार, घर पर चोट खाने वाले 5 में से 1 की हड्डियों का टूट जाना और सिर के घाव जैसी गंभीर चोटें आती हैं। वास्तव में, रिपोर्ट यह भी बताती है कि मस्तिष्क की चोटों का सबसे आम कारण गिरना है। गिरने से केवल गंभीर शारीरिक चोट नहीं लगती, लेकिन यह आपके मानसिक विकास को भी प्रभावित करती है।

ये कोई आश्चर्य की बात नही है कि घर में क्यों फॉल–प्रूफिंग की जरूरत है। ये उन घरों में विशेष रूप से जरूरी है जहां बुजुर्गों को ऑस्टियोपोरोसिस होता है, ये एक हड्डी रोग है। जिसमें हड्डी में गैप और फ्रैक्चर का खतरा होता है।

ये सभी कारण आपके लिए फॉल–प्रूफिंग को आपके घर के लिए प्राथमिक बना देंगे। हमने अपोलो स्पेक्ट्रा, पुणे के वरिष्ठ सलाहकार और आर्थोपेडिक सर्जन डॉ. राजन कोठारी से बात की, ताकि वे ये समझा सके कि घर को फॉल–प्रूफ कैसे बनाया जाए।

इस उम्र में सबसे ज्‍यादा खतरा गिरकर चोट लगने का होता है। चित्र: शटरस्‍टॉक
इस उम्र में सबसे ज्‍यादा खतरा गिरकर चोट लगने का होता है। चित्र: शटरस्‍टॉक

अपने घर में उच्च जोखिम वाली जगह को पहचानें

गीला फर्श, सीढ़ियां और बाथरूम के फर्श से गिरने का ज्यादा खतरा होता हैं। सजावट के लिए रखे गए कालीनों और आसनों के कारण व्यक्ति फिसल भी सकता है। इसके अलावा, जमीन पर गिरी चीजें भी गिरने का कारण बन सकती हैं। बिस्तर, कुर्सी और सोफे से गिरने पर गंभीर चोट लग सकती है।

डॉ. कोठारी बताते है, “जब बात बुजुर्ग लोगों की आती है, तो गिरना एक मुख्य कारण होता है गंभीर चोट का। वास्तव में, गिरने से कूल्हे और कंधे में फ्रैक्चर आ सकता है। कूल्हे और कंधे की डिसलोकेशन, सिर की चोट, खरोंच, मोच और घर्षण के कारण बुजुर्गों में आत्मविश्वास की कमी आ सकती है। जब आप अपने आप को संतुलित करने में असमर्थ होते है और आपका स्वास्थ्य ठीक नहीं होता है, तो वह गिरने का मुख्य कारण बनता है।”

यहां कुछ सुझाव दिए गए हैं जो आपके घर को फॉल–प्रूफ बनाने में आपकी मदद करेंगी

गिरने के जोखिम को कम करने के लिए अपने माता-पिता को गीली चप्पल न पहनने दें। डॉ. कोठारी बताते हैं, “उन्हें रबर और चमड़े के जूते ना पहनने दें।”

उनके फुटवियर का भी आपको ध्‍यान रखना चाहिए। चित्र: शटरस्‍टॉक
उनके फुटवियर का भी आपको ध्‍यान रखना चाहिए। चित्र: शटरस्‍टॉक

घर पर कालीन का उपयोग न करें क्योंकि वे ट्रिपिंग और गिरने का खतरा बढ़ाते हैं। डॉ. कोठारी का कहना है, “आपको फटी हुई या लंबे धागे के वाली सभी कालीनों को हटाना चाहिए। ये गिरने के जोखिम को बढ़ाने का कारण बनते हैं।”

गिरने से बचने के लिए, आपको चिकनी सतहों से बचना चाहिए

आप घर पर सीढ़ी के साथ एक रेलिंग लगा सकते है। इस तरह, आपको थोड़ा समर्थन(support) मिलेगा। आप रेलिंग घर में इन जगहों पर भी लगवा सकते हैं – वॉशरूम में, लिविंग एरिया में या बेडरूम में। ये ऐसी जगह हैं जहां आप अक्सर आते जाते रहते हैं। और ऐसा करने से आपके गिरने का खतरा कम हो सकता है।

सुनिश्चित करें कि आपके घर में अच्छी रोशनी है, खासकर जब आप रात में बाथरूम का इस्तेमाल करते हैं। ऑप्ट(Opt) प्लग-इन रात की रोशनी के लिए और सीढ़ियों और बाथरूम के पास संवेदनशील रोशनी(Sensitive lights) का उपयोग करें। अपने घर को व्यवस्थित करने की कोशिश करें ताकि आप घर पर फ्री(free) होकर चल सकें। फॉल-प्रूफिंग ऑस्टियोपोरोसिस का मतलब बिस्तर पर जंजीर होना नहीं होता है।

गिरने से बचने के लिए बाथरूम में कालीन का प्रयोग करने से बचें। डॉ. कोठारी कहते है, “शौचालय या स्नानघर में गिरने की घटनाएं ज्‍यादा होती हैं। सुनिश्चित करें कि आपकी टॉयलेट सीट उठी हुई हो और समर्थन के लिए एक आर्मरेस्ट(Armrest) हो।”

यह भी ध्‍यान रखें

अगर आपके घर में बुजुर्ग लोग हैं, तो आपको यह सुनिश्चित करने की जरूरत होगी कि आप किसी बुजुर्ग व्यक्ति को घर में अकेले नहीं छोड़े। यह सुनिश्चित करने की कोशिश करें कि घर पर टेबल और बेंच में चुभने वाले तेज कोने न हों। इससे गंभीर चोटों का खतरा हो सकता है।

उनका आत्‍मविश्‍वास वापस लाएं। चित्र: शटरस्‍टॉक
उनका आत्‍मविश्‍वास वापस लाएं। चित्र: शटरस्‍टॉक

डॉ. कोठारी कहते हैं, “गीले फर्श को बार-बार पोंछते रहें। जांचें कि क्या कुर्सियां ​​और बिस्तर मजबूत हैं। यदि किसी बुजुर्ग व्यक्ति ने बार-बार गिरने के कारण आत्मविश्वास खो दिया है, तो उसे चलने के लिए प्रोत्साहित करें। और सुनिश्चित करें कि बुजुर्ग लोग घर पर मोज़े या ढीली चप्पल नहीं पहने।”

अपने घर को फॉल-प्रूफ बनाने के लिए, अपने डॉक्टर से परामर्श करना सबसे अच्छा है। वे आपके माता-पिता की स्थिति के आधार पर आपको अच्छा सुझाव दे सकते हैं।

तो, लेडीज हमेशा याद रखें कि सावधानी इलाज से बेहतर है!

यह भी पढ़ें – अपनी और अपनों की हेल्‍थ मॉनिटरिंग के लिए ये 4 टूल्‍स आपके घर में होने है बहुत जरूरी

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।