हार्ट अटैक का कारण बन सकता है बढ़ता वायु प्रदूषण, जानिए कैसे करना है अपना बचाव

क्या आप जानते हैं कि दुनिया में हर साल 6 मिलियन डेथ का कारण बनता है वायु प्रदूषण? जानिए आप कैसे रख सकती हैं अपनी सेहत का ख्याल।

air pollution and heart attack
प्रदूषण भी बन सकता है हार्ट अटैक का कारण, जानिए कैसे। चित्र : शटरस्टॉक
  • 101

मौसम बदलने लगा है और सुबह हल्की – हल्की ठंड होने लगी है। इस मौसम में ठंड के साथ – साथ वायु प्रदूषण भी बढ़ने लगाता है। बीते वर्ष यह पराली जलाने की वजह से भी बढ़ने लगा है और साथ दिवाली पर जलाए जाने वाले पटाखे भी इसमें योगदान देते हैं। गाड़ियों से जनरेट होने वाला प्रदूषण भी वायु प्रदूषण का एक एहम कारण बनता है।

मौसम में ठंडक बढ़ने के साथ फॉग और स्मोक दोनों बढ़ने लगती है। जिसे हम ‘स्मॉग’ के रूप में जानते हैं। यह ‘स्मॉग’ स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होता है और फेफड़ों से संबधित कई समस्याओं का कारण बनता है। मगर क्या आप जानती हैं कि ये आपके हृदय स्वास्थ्य के लिए भी कई जोखिम पैदा कर सकता है?

जी हां… नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इन्फॉर्मेशन के अनुसार वायु प्रदूषण के लंबे समय तक संपर्क में रहने से हार्ट अटैक और अन्य हृदय रोग का जोखिम पैदा हो सकता है।

किन कारणों बढ़ता है वायु प्रदूषण

डीजल और पेट्रोल वाहन
कारखानों और बिजली संयंत्रों से निकलने वाला धुआं
खेती में इस्तेमाल हो रहे फर्टिलाइजर
घर के अंदर लकड़ी, मोमबत्तियां या धूप जलाना
घर के अंदर सिगरेट पीना
वातावरण में पराग
पार्टिकुलेट मैटर – कंस्ट्रक्शन का धुआं

जानिए आपके हृदय स्वास्थ्य के लिए कैसे हानिकारक है वायु प्रदूषण ?

जब आप खराब एयर क्वालिटी वाली हवा में सांस लेते हैं, तो वायु प्रदूषक आपके फेफड़ों और आपके दिल तक आपके रक्तप्रवाह में गहराई तक जा सकते हैं। यह आपके हृदय रोगों के जोखिम को बढ़ा सकता है।

heart care karein
दिल (Heart) हमारे शरीर के सबसे महत्वपूर्ण अंगों में से एक है। चित्र : शटरस्टॉक

वायु प्रदूषक इस तरह पहुंचा सकते हैं नुकसान

मेयो क्लीनिक के अनुसार प्रदूषक रक्त वाहिकाओं को संकरा और सख्त बनाकर उन्हें नुकसान पहुंचाते हैं। जिसकी वजह से –

शरीर में रक्त को स्वतंत्र रूप से प्रवाहित करना अधिक कठिन हो जाता है

ब्लड क्लॉट बनने की अधिक संभावना होती है

ब्लड प्रैशर बढ़ने लगता है क्योंकि हृदय रक्त को शरीर के अन्य हिस्सों तक पहुंचाने के लिए तेज़ी से पंप करता है जो ठीक से प्रवाहित नहीं हो पा रहा है

हृदय की मांसपेशियों पर दबाव बढ़ने लगता है

यह आपके दिल की विद्युत प्रणाली को प्रभावित करता है जो दिल की धड़कन को नियंत्रित करता है। जिसकी वजह से आपका

हार्ट रेट बिगड़ सकता है

इसकी वजह से हार्ट फेल भी हो सकता है

जिन लोगों को पहले से ही कोई दिल की समस्या है उन्हें हार्ट अटैक भी आ सकता है

आप खुद को वायु प्रदूषण के प्रकोप से कैसे बचा सकते हैं

स्वस्थ आहार लें

संतुलित आहार चुनना आपके शरीर में वायु प्रदूषण से होने वाले नुकसान से निपटने में मददगार होगा। संतुलित आहार में भरपूर मात्रा में आवश्यक विटामिन और पोषक तत्व होते हैं और यह शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने में मदद करता है। अपने आहार में हरी सब्जियां, फल, साबुत अनाज शामिल करें और खूब पानी पिएं।

व्यायाम करें

व्यायाम करना भी आवश्यक है क्योंकि यह रक्त से विषाक्त पदार्थों को निकालता है। रक्त परिसंचरण और हृदय स्वास्थ्य को बढ़ावा देने के लिए रोजाना व्यायाम करने का प्रयास करें। ऐसी जगह चुनें जहां नैचुरल एयर हो नहीं तो घर में ही करें। साथ ही, किसी भी यात्रा के दौरान मास्क पहनें।

स्वस्थ रहें

आप जहां रहते हैं या जाते हैं, वहां के प्रदूषण स्तर पर नियमित नजर रखें। जब भी संभव हो, मास्क पहनें। खुद भी स्मोकिंग न करें और हो सके हो साइकल चलाएं या पब्लिक वाहन का इस्तेमाल करें।

यह भी पढ़ें : क्या हृदय स्वास्थ्य के लिए नुकसानदेह है हर रोज़ अंडे खाना? आइए चेक करते हैं

  • 101
लेखक के बारे में
ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ

प्रकृति में गंभीर और ख्‍यालों में आज़ाद। किताबें पढ़ने और कविता लिखने की शौकीन हूं और जीवन के प्रति सकारात्‍मक दृष्टिकोण रखती हूं।

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स, पीरियड ट्रैकर
के साथ।

ट्रैक करें
nextstory