फॉलो
वैलनेस
स्टोर

टॉप स्त्री रोग विशेषज्ञ के अनुसार गर्भवती महिलाओं और नई माताओं के लिए अत्‍यावश्‍यक है आयोडीन

Updated on: 10 December 2020, 12:17pm IST
आयोडीन हम सभी के लिए जरूरी है पर गर्भवती स्त्रियों और नई मां को इसे अवॉइड करना भारी पड़ सकता है। जानिए गर्भावस्‍था और स्‍तनपान के दौरान क्‍यों और कितना आयोडीन है जरूरी।
Dr. Vandana Gawdi
  • 75 Likes
गर्भवती महिलाओं को आयोडीन की खपत का विशेष ध्‍यान रखना चाहिए। चित्र: शटरस्‍टॉक

आयोडीन एक आवश्यक माइक्रो न्यूट्रि‍एंट है, जिसकी प्रतिदिन कम मात्रा में आवश्यकता होती है। पर्याप्त आयोडीन का सेवन सभी के लिए महत्वपूर्ण है, लेकिन विशेष रूप से गर्भावस्था के दौरान और स्‍तनपान करवाने वाली महिलाओं के लिए यह अति आवश्यक है। क्योंकि महिलाओं और बच्चों में आयोडीन की कमी से होने वाले विकार अधिक होते हैं।

अधिकांश महिलाएं गर्भावस्था में पोषण के महत्व को जानती हैं। इसके बावजूद बहुत सी महिलाएं आयोडीन के महत्व को नहीं जान पातीं। जो गर्भ में बच्चे के मस्तिष्क के विकास के लिए आवश्यक है। भारत जैसे विशाल देश में, आयोडीन की कमी के कारण जटिलताओं से बचने और इस पोषक तत्व की दैनिक आवश्यकता प्राप्त करने का सबसे आसान तरीका है।

पाएं अपनी तंदुरुस्‍ती की दैनिक खुराकन्‍यूजलैटर को सब्‍स्‍क्राइब करें

अपने दैनिक आहार में आयोडीन युक्त नमक को शामिल करना आपकी सेहत के लिए फायदेमंद हो सकता है।

गर्भधारण के लिए पर्याप्त जरूरी है कि शरीर में आयोडीन की कमी न हो। विशेष रूप से गर्भावस्था के दौरान महिलाओं की आयोडीन की आवश्यकताओं में काफी वृद्धि होती है। गर्भावस्था के शुरुआती हफ्तों में शरीर द्वारा आयोडीन की बढ़ती मांग के कारण कई महिलाओं को अनजाने में इस पोषक तत्व की कमी हो जाती है।

सबसे आसान है कि आप आयोडीन युक्‍त नमक का सेवन करें। चित्र: शटरस्‍टॉक
सबसे आसान है कि आप आयोडीन युक्‍त नमक का सेवन करें। चित्र: शटरस्‍टॉक

इससे पता चलता है कि आयोडीन की कमी और उससे संबंधित विकारों को रोकने के लिए आयोडीन की अतिरिक्त खुराक की आवश्यकता हो सकती है। यह महत्वपूर्ण है कि सभी गर्भवती और स्तनपान कराने वाली माताओं को आयोडीन (250 एफएमसीजी) 1 की दैनिक आवश्यकता प्राप्त हो।

शाकाहारियों के बारे में क्या !

शाकाहारियों को अपने आहार में पर्याप्त आयोडीन प्राप्त करना मुश्किल लगता है, क्योंकि आयोडीन ज्यादातर डेयरी उत्पादों, समुद्री भोजन और अंडों में पाया जाता है। जो उनके नियमित आहार का हिस्सा नहीं हैं। अधिकांश लोगों को आयोडीन के एक अतिरिक्त स्रोत की आवश्यकता होती है। क्योंकि यह प्‍लांट बेस्‍ड डाइट में दैनिक आहार में अपेक्षाकृत कम मात्रा में पाया जाता है।

भारत में, मिट्टी में आयोडीन की कमी इसका कारण है। जिससे प्‍लांट बेस्‍ड आहार में भी आयोडीन की कमी पाई जाती है।

नमक के आयोडीकरण ने महिलाओं और बच्चों सहित लाखों भारतीयों के लिए स्वास्थ्य और कल्याण को सुनिश्चित किया है। आयोडीन ग्लोबल नेटवर्क (IGN) 2 के अनुसार, पिछले 30 वर्षों में, भारत में नमक का आयतन बढ़ा है। यूनिवर्सल साल्ट आयोडीज़ेशन (यूएसआई) ने भारत में लगभग 4 बिलियन आईक्यू पॉइंट बचाने में योगदान दिया है। सालाना लगभग 280 मिलियन आईक्यू पॉइंट बचाया है।

आयोडाइज्‍ड नमक ने महिलाओं और बच्‍चों को कई विकारों से बचाया है। चित्र: शटरस्टॉक
आयोडाइज्‍ड नमक ने महिलाओं और बच्‍चों को कई विकारों से बचाया है। चित्र: शटरस्टॉक

हमारे दैनिक आहार के माध्यम से मॉडरेशन में आयोडीन युक्त नमक का सेवन गर्भस्राव, गर्भपात को रोकने और क्रेटिनिज्म से बचने में मदद कर सकता है। जो बच्चे के शारीरिक और मानसिक विकास को प्रभावित कर सकता है, जबकि यह गर्भ में या जन्म के कुछ ही समय बाद होता है।

अच्छी खबर यह है कि आयोडीन की कमी को अपने आहार में अच्छी गुणवत्ता वाले ब्रांडेड आयोडीन युक्त नमक को शामिल करके आसानी से रोका जा सकता है।

तो सखियों, न सिर्फ अपनी आयोडीन की खपत का ध्‍यान रखें, बल्कि यह भी सुनिश्चित करें कि गर्भ में पल रहे बच्‍चे को भी पर्याप्‍त मात्रा में आयोडीन मिले।

यह भी पढ़ें – गर्भवती महिलाओं को भूलकर भी नहीं करना चाहिए जिनसेंग का सेवन, टॉप डायटीशियन से जानिए क्यों

0 कमेंट्स

कृपया अपना कमेंट पोस्ट करें

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Dr. Vandana Gawdi Dr. Vandana Gawdi

Dr. Vandana Gawdi, MBBS, MD, Consultant in Obstetrics and Gynecology, Apollo Hospitals