स्वस्थ और खुशहाल जीवन के लिए आयुर्वेद करता है इन 16 अच्छी आदतों का समर्थन

Published on: 2 January 2022, 08:00 am IST

आयुर्वेद आपके स्वास्थ्य को नियंत्रण में रखने के लिए निवारक प्रथाओं को बढ़ावा देता है। अपने दैनिक जीवन में शामिल करने के लिए इन आसान टिप्स को फॉलो करें।

Ayurveda ek lifestyle hai
आयुर्वेद एक जीवन शैली है। चित्र : शटरस्टॉक

हमेशा छोटी चीजें मायने रखती हैं। शारीरिक, मानसिक, सामाजिक या आध्यात्मिक रूप से यह सब पर लागू होती है। आयुर्वेद, जीवन का विज्ञान, जीवन की गुणवत्ता में सुधार और समग्र स्वास्थ्य के लिए अनुशासन पैदा करने के लिए महत्वपूर्ण प्रभावों के साथ छोटी-छोटी मगर अच्छी आदतों को विकसित करने का समर्थन करता है। 

दैनिक जीवन में आप जिस दिनचर्या और रूटीन का अभ्यास करते हैं, उसका आप पर गहरा प्रभाव पड़ता है। उस दिनचर्या में कुछ बुनियादी चीजें शामिल हैं जैसे कि जागना, स्नान करना, खाना और दांत साफ करना! यदि आप एक स्वस्थ दिनचर्या का उल्लंघन करते हैं, तो आपका अच्छा महसूस करने और अच्छा दिखने का आधा काम हो जाएगा।

आपको यह समझना चाहिए कि आपके कार्य-जीवन के पैमाने में असंतुलन और अस्वास्थ्यकर खाने-पीने की आदतों ने आपको जीवन शैली से संबंधित कई विकारों के करीब ला दिया है। आयुर्वेद के अनुसार जीवनशैली में बदलाव लाना एक बेहतर और स्वस्थ जीवन के लिए आपका जाना-माना तरीका होना चाहिए

आयुर्वेद के अनुसार, अपनी दिनचर्या में ये जरूरी बदलाव करें 

1. ब्रह्ममुहूर्त में जागना

सूर्योदय से पहले उठना चाहिए क्योंकि उस समय का वातावरण प्रदूषण मुक्त रहता है। इस समय ऑक्सीजन की मात्रा सबसे अधिक होती है। प्रातः काल की सूर्य की किरणों और प्रदूषण मुक्त वातावरण के प्रभाव से शरीर से उपयोगी रसायन स्रावित होते हैं, जिससे शरीर ऊर्जावान बना रहता है।

2. उषापान

सुबह उठकर पानी पीने से शरीर से विषाक्त पदार्थ बाहर निकल जाते हैं। पाचन तंत्र स्वस्थ रहता है। यह समय से पहले बालों के सफेद होने और झुर्रियों को रोकता है।

Subah uthkar paani peena hai healthy
सुबह उठकर पानी पीना है हेल्दी। चित्र:शटरस्टॉक

3. ईशा स्मरण या ध्यान

स्वस्थ और एकाग्र मन के लिए, जो मानसिक और शारीरिक तनाव को दूर करता है। तनाव के कारण कोई शारीरिक और मानसिक रोग नहीं होते हैं। ध्यान के लिए ईश स्मरण, इष्ट या देवता का ध्यान करना चाहिए।

4. आंत्र की सफाई

शरीर में उपापचय के फलस्वरूप उत्पन्न होने वाले विषैले तत्व उत्सर्जन प्रक्रिया द्वारा दूर हो जाते हैं। प्रकृति की प्रातः काल की पुकार में उपस्थित होने से दिन भर शरीर में हल्कापन बना रहता है। इस क्रिया के बाद हाथों और पैरों को अच्छी तरह साफ कर लेना चाहिए ताकि संक्रमण का डर न रहे।

5. ब्रश करना और जीभ साफ करना

इससे दांत साफ और मजबूत होते हैं। मुंह की दुर्गंध और मुंह से अरुचि नष्ट होती है। जीभ साफ और गंदगी से मुक्त रहती है जिससे स्वाद धारणा स्वस्थ हो जाती है।

6.  फेस वॉश

मुंह और आंखों को पानी से धोएं। इससे चेहरे से अत्यधिक तेल निकल जाता है। मुंहासे, झाइयां साफ हो जाती हैं, चेहरा गोरा हो जाता है। दृष्टि में सुधार होता है।

7. अंजन या आई वॉश

दृष्टि साफ हो जाती है। आंखें सुंदर और आकर्षक बनती हैं। आंखों की रोशनी बढ़ती है और रोगों से मुक्ति मिलती है।

8. नस्य

गर्म और ठण्डी सरसों या तिल के तेल की 2-3 बूंदे रोज सुबह नासिका में डालने से सिर, आंख और नाक के रोगों से बचाव होता है। आपकी आंखों की रोशनी बढ़ती है, बाल लंबे, घने और काले होते हैं। यह समय से पहले बालों का झड़ना और सफेद होना रोकता है।

Mustard oil ki boonde naak mein daale
सरसों के तेल की बुंदे नायक में डालें। चित्र : शटरस्टॉक

9. अभ्यंग

आयुर्वेद की सलाह है कि नहाने से पहले शरीर पर तेल की मालिश करनी चाहिए। यह त्वचा को चमकदार, रोगमुक्त बनाता है। यह त्वचा में रक्त संचार को बढ़ाता है। पसीने के रूप में शरीर से विषैले पदार्थ बाहर निकल जाते हैं और त्वचा झुर्रीदार हो जाती है।

10. व्यायाम

सूर्य नमस्कार, एरोबिक्स, योग या अन्य दैनिक व्यायाम से शारीरिक शक्ति और रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है। शरीर की सभी नदियां साफ हो जाती हैं, रक्त संचार बढ़ता है और शरीर से अपशिष्ट पदार्थ बाहर निकल जाते हैं। अतिरिक्त चर्बी कम होती है।

11. कशौर कर्म

दाढ़ी और मूंछ को शेव करना या ट्रिम करना, नियमित अंतराल पर बाल कटवाना और नाखूनों को ट्रिम करना स्वच्छता और खुशी बनाए रखने की सलाह दी जाती है। यह नाखूनों के कारण होने वाले संक्रमण को कम करता है।

12. उद्वर्तन (उबटन)

आयुर्वेद के अनुसार, सुगंधित जड़ी-बूटियों का पेस्ट या मलाई लगाने से शरीर की दुर्गंध दूर हो सकती है। मन में आनंद और ऊर्जा रहती है। उबटन शरीर से अतिरिक्त चर्बी को दूर करता है। शरीर के अंग स्थिर और दृढ़ हो जाते हैं। त्वचा कोमल हो जाती है। यह मुंहासों और झाईयों जैसी त्वचा की स्थितियों से बचाता है।

13. स्नान

दैनिक स्वास्थ्य के लिए स्नान आवश्यक है। स्नान करने से शरीर से सभी प्रकार की अशुद्धियां दूर हो जाती हैं। इससे गहरी नींद आती है, शरीर से अतिरिक्त गर्मी, दुर्गंध, पसीना, खुजली और प्यास दूर होती है। स्नान से शरीर की सभी इंद्रियां भी सक्रिय हो जाती हैं। रक्त शुद्ध होता है और भूख बढ़ती है।

14. साफ कपड़े पहनना

स्वच्छ और आरामदायक कपड़े पहनने से सुंदरता, खुशी बढ़ती है और आत्मविश्वास बढ़ता है।

Healthy rehne ke liye roj nahana jaroori hai
दैनिक स्वास्थ्य के लिए स्नान आवश्यक है। चित्र: शटरस्टॉक

15. सीधी धूप, धूल से बचें

सीधी धूप से बचना चाहिए। त्वचा के सीधे सूर्य की किरणों के अत्यधिक संपर्क में आने से जलन और सनबर्न जैसे विभिन्न विकार हो सकते हैं। इसलिए, आपको सुरक्षा के लिए छाता या स्कार्फ का उपयोग करने की सलाह दी जाती है।

16. नींद

गर्मी को छोड़कर सभी मौसमों में रात को 6-8 घंटे की नींद जरूरी है। गर्मियों में रात के साथ-साथ दिन में भी 1-2 घंटे आराम करना चाहिए, क्योंकि अत्यधिक गर्मी से शरीर में पानी और ऊर्जा की हानि होती है। यह दिन के दौरान एक झपकी द्वारा फिर से भर दिया जाता है। उचित नींद लेने से शारीरिक और मानसिक थकान दूर होती है और पाचन क्रिया बेहतर होती है, जिससे शरीर में नई ऊर्जा का संचार होता है।

तो लेडीज, बेहतर और खुशहाल जीवन के लिए इन स्वस्थ आदतों को अपने और अपने प्रियजनों के जीवन में शामिल करने का प्रयास करें।

यह भी पढ़ें: हर मौसम में लाजवाब है लौकी, यहां हैं इसे साप्ताहिक डाइट प्लान में शामिल करने के कारण

 

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें