वैलनेस
स्टोर

कफ और पित्त को नियंत्रित कर आपको कई रोगों से बचाता है जामुन, जानिए इसके स्वास्थ्य लाभ

Published on:8 June 2021, 09:00am IST
अगर आपको या आपके परिवार में किसी को मधुमेह है तो जामुन का सेवन करना आपके लिए मददगार हो सकता है। अब वक्त है जामुन की गुडनेस के बारे में जानने का।
ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ
  • 82 Likes
आपके वात और कफ को संतुलित कर सकता है जामुन। चित्र : शटरस्टॉक

इन दिनों आपको जामुन से लदे हुए पेड़ देखने को मिल जाएंगे। जामुन स्वाद में खट्टा-मीठा होने के साथ-साथ सूरज की गर्मी और कई स्वास्थ्य समस्याओं से निपटने में भी प्रभावी हैं। अपने अलग स्वाद के लिए लोकप्रिय जामुन, विभिन्न एशियाई देशों में भी व्यापक रूप से पाया जाता है। पर क्‍या आप जानती हैं कि यह फल रसीला होने के साथ-साथ प्रोटीन, विटामिन, एंटीऑक्सीडेंट, फ्लेवोनोइड, मैंगनीज, पोटेशियम, फास्फोरस और कैल्शियम का एक समृद्ध स्रोत हैं। यह रसदार फल आयुर्वेदिक, यूनानी और चीनी चिकित्सा जैसे समग्र उपचारों में बहुत महत्व रखता है, क्योंकि यह कफ और पित्त को कम करता है।

आयुर्वेद के अनुसार ये हैं गर्मियों मेें जामुन खाने के फायदे

1. मधुमेह को नियंत्रित करता है

आयुर्वेद मधुमेह से लड़ने के लिए जामुन खाने की सलाह देता है। इस फल के बीज में जैम्बोलिन और जैम्बोसाइन नामक सक्रिय तत्व होते हैं, जो रक्त में जारी शर्करा की दर को धीमा कर देते हैं और शरीर में इंसुलिन के स्तर को बढ़ाते हैं। इसका ग्लाइसेमिक इंडेक्स कम होने के कारण यह शुगर के रोगियों के लिए उपयुक्त है। यह स्टार्च को ऊर्जा में परिवर्तित करता है और मधुमेह के लक्षणों को कम करता है जैसे बार-बार पेशाब आना।

2. स्वस्थ हृदय के लिए

जामुन उच्च मात्रा में पोटेशियम से भरा हुआ है। दिल से संबंधित बीमारियों को दूर रखने में यह बेहद फायदेमंद है। जामुन का नियमित सेवन धमनियों को सख्त होने से रोकता है, जिससे एथेरोस्क्लेरोसिस होता है। यह उच्च रक्तचाप के विभिन्न लक्षणों को कम करता है, जिससे स्ट्रोक और कार्डियक अरेस्ट का खतरा कम होता है। 100 ग्राम जामुन की एक सर्विंग में 79 मिलीग्राम पोटेशियम होता है। जो इस रसदार फल को उच्च रक्तचाप वाले आहार के लिए उपयुक्त बनाता है।

जामुन मधुमेह को नियंत्रित करता है. चित्र : शटरस्टॉक

3. विटामिन C से भरपूर

विटामिन C का एक उत्कृष्ट स्रोत होने के कारण इसके कई फायदे हैं। विटामिन-C या एस्कॉर्बिक एसिड के एंटीऑक्सीडेंट गुण घावों को भरने, दांतों, हड्डियों और कार्टिलेज को मजबूत करने में मदद करते हैं। इसे व्यापक रूप से एक इम्युनिटी बूस्टर के रूप में भी जाना जाता है, क्योंकि यह सामान्य खांसी, सर्दी, अस्थमा और अन्य संक्रामक संक्रमणों जैसे कई श्वसन संक्रमणों को रोकता है। इस फल का नियमित सेवन स्वस्थ त्वचा और बालों के लिए भी योगदान देता है।

4. वजन घटाने में कारगर

कम कैलोरी और उच्च फाइबर होने के कारण, जामुन वजन घटाने वाले सभी आहारों और व्यंजनों में एक आदर्श फल है। यह आपके पाचन में सुधार करता है और औषधीय गुण शरीर के चयापचय को बढ़ावा देने के अलावा वॉटर रिटेंशन को कम करने में मदद करते हैं। यह आपकी भूख को कम करते हैं और आपको तृप्ति की भावना देते हैं।

5. एनीमिया में फायदेमंद

एनीमिया से पीड़ित लोगों को जामुन का सेवन करने की सिफारिश की जाती है। इसकी वजह है इसमें भरपूर मात्रा में मौजूद आयरन। जामुन में आयरन की प्रचुरता इसे रक्त को शुद्ध करने वाले प्राकृतिक खाद्य पदार्थों में से एक बनाती है, लाल रक्त कोशिकाओं और रक्त के हीमोग्लोबिन की संख्या को बढ़ाती है। इसके अलावा यह शरीर को कमजोरी और थकान से उबरने में मदद करता है।

एनीमिया में फायदेमंद हो सकते हैं जामुन और इसके बीज. चित्र : शटरस्टॉक

6. पाचन तंत्र के लिए फायदेमंद

जामुन फाइबर से भरा हुआ है, जो बीमारियों को रोकता है। ये पाचन में सहायता करता है और कब्ज, बाउल डिसऑर्डर, घबराहट, दस्त और पेचिश जैसी कई गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल समस्याओं को ठीक करता है। इसके अलावा, यौन गतिविधियों को बढ़ावा देने के लिए इसका सेवन टॉनिक के रूप में किया जाता है।

यह भी पढ़ें : जानिये 9 सुपरफूड्स के बारे में जो आपके घावों को तेजी से भरने में मदद करेंगे

ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ

प्रकृति में गंभीर और ख्‍यालों में आज़ाद। किताबें पढ़ने और कविता लिखने की शौकीन हूं और जीवन के प्रति सकारात्‍मक दृष्टिकोण रखती हूं।