वैलनेस
स्टोर

टॉप कार्डियोलॉजिस्‍ट बता हरे हैं हृदय रोग के वे 10 संकेत, जिन्‍हें आपको कतई नजरंदाज नहीं करना है

Published on:16 March 2021, 19:21pm IST
नियमित हृदय जांच महत्वपूर्ण है, क्योंकि कुछ लक्षणों की अनदेखी होने पर आपके माता-पिता का हृदय स्वास्थ्य खतरे में पड़ सकता है।
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 90 Likes
अपने पेरेंट्स की हार्ट हेल्‍थ के लिए इन संकेतों को समझना जरूरी है। चित्र: शटरस्‍टॉक

कई बार अपने माता-पिता के संदर्भ में हम कुछ लक्षणों को देखकर भी उनकी गंभीरता का अंदाजा नहीं लगा पाते। सतर्कता की कमी के कारण हमारे माता-पिता के हृदय स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ सकता है, क्योंकि वे उम्र के कारण विभिन्न हृदय रोगों के लिए अतिसंवेदनशील होते हैं।

उनके दिल के स्वास्थ्य को ट्रैक और मॉनिटर करने का एक प्रभावी तरीका है व्यवहार को ट्रैक करना, बॉडी लैंग्वेज को नोटिस करना। उदाहरण के लिए, भारी सांस लेना और विभिन्न संकेतों की पहचान करना, जो उनके शरीर को प्रदर्शित कर रहे हैं, जैसे उच्च रक्तचाप। सामान्य से कुछ भी अलग देखने पर, समय बर्बाद न करें और बहुत देर होने से पहले दिल की जांच करवाएं।

मुंबई के ज़ेन मल्टी स्पेशियलिटी अस्पताल के प्रसिद्ध हृदय रोग विशेषज्ञ डॉ. नारायण गडकर के अनुसार, अपने माता-पिता के दिल की जांच कराना बहुत महत्वपूर्ण है। “कई लोग अपने माता-पिता या परिवार के अन्य सदस्यों के स्वास्थ्य के बारे में चिंतित रहते हैं। इसलिए, किसी भी दिल की समस्या के जोखिम से बचने के लिए आपको अपने माता-पिता की अच्छी देखभाल करनी चाहिए।”

कैसे पता करें कि दिल स्वस्थ है या नहीं। चित्र: शटरस्‍टॉक
कैसे पता करें कि दिल स्वस्थ है या नहीं। चित्र: शटरस्‍टॉक

मूल रूप से, उम्र के साथ आपके माता-पिता की हृदय की मांसपेशियां कम होने लगती हैं। जिससे उनकी ऊर्जा का स्तर कम हो जाता है। हृदय की मांसपेशियों की शक्ति में गिरावट के साथ-साथ ऊर्जा के स्तर में कमी के कारण माता-पिता के दिल के स्वास्थ्य पर गंभीर परिणाम हो सकते हैं।

अगर वे उचित सावधानी नही बरत रहे और आराम नहीं कर रहे, तो ख़तरा और बढ़ सकता है। इसलिए, आपको उनका ध्यान रखना चाहिए और समय-समय पर जांच करवानी चाहिए।

लेकिन सवाल यह उठता है कि वे कौन से संकेत हैं, जो उनका शरीर आपको देता है? इसे समझने में डॉ. गडकर आपकी मदद कर रहें हैं…

यहां 10 सबसे आम संकेत हैं जो डॉ. गडकर को लगता है कि हर किसी को अपने एजिंग पेरेंट्स के बारे में ध्‍यान रखने चाहिए

1. हाई ब्लड प्रेशर

अपने माता-पिता को दिल की जांच के लिए ले जाएं और हाई ब्लडप्रेशर जैसे लक्षणों की निगरानी करें। क्योंकि इससे हृदय को रक्त परिसंचरण के लिए कड़ी मेहनत करनी पड़ सकती है। और दिल का दौरा पड़ सकता है।

2. उच्च मधुमेह

यह कोरोनरी धमनी की बीमारी के जोखिम को बढ़ा सकता है, क्योंकि यह रक्त वाहिकाओं के कामकाज को प्रभावित करती है। इसलिए, शुगर कंट्रोल करना होगा।

3. सांस लेने में कठिनाई

रक्त के प्रभावी ढंग से सांस लेने और हृदय को पंप करने के बीच घनिष्ठ संबंध है। यदि दिल, पर्याप्त रक्त पंप करने में असमर्थ है तो आपके माता-पिता को सांस लेने में समस्या होगी।

हार्ट अटैक की स्थिति में हर पल कीमती होता है। चित्र: शटरस्‍टॉक

4. सीने में दर्द

कई बार हम अपने माता-पिता के सीने में दर्द को नजरअंदाज कर देते हैं, क्योंकि यह एसिडिटी या गैस के कारण होता है, लेकिन इस पर ध्यान देना बेहद ज़रूरी है।

डॉ. गडकर ने बताया “यदि आप नोटिस करते हैं कि आपके माता-पिता को छाती में कोई असहज दबाव, निचोड़ या दर्द है तो यह दिल के दौरे का संकेत है। आर्टरी ब्लॉक होने से सीने में दर्द भी हो सकता है। यह नहीं भूलना चाहिए कि कभी-कभी सीने में दर्द के बिना भी दिल का दौरा पड़ सकता है।”

5. उच्च कोलेस्ट्रॉल

इससे दिल की समस्याओं के कारण आर्टरी में प्लाक का निर्माण होता है। अपने माता-पिता के कोलेस्ट्रॉल के स्तर को ध्यान में रखें और सुनिश्चित करें कि वे ओट और जौ जैसे स्वस्थ खाद्य पदार्थों का सेवन कर रहे हैं।

हाई कोलेस्‍ट्रॉल अच्‍छा संकेत नहीं है। चित्र: शटरस्‍टॉक
हाई कोलेस्‍ट्रॉल अच्‍छा संकेत नहीं है। चित्र: शटरस्‍टॉक

6. चक्कर आना और ब्लैकआउट्स महसूस करना

अगर आपके माता-पिता को चक्कर आ रहे हैं या ब्लैकआउट हो रहा है, तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। यह संकेत हो सकता है कि रक्तचाप का स्तर गिर गया है और हृदय पर्याप्त रक्त पंप करने में असमर्थ है।

7. गले और जबड़े का दर्द

यदि आपके माता-पिता को छाती में दर्द होता है, जो विशेष रूप से शारीरिक परिश्रम के दौरान गले और जबड़े तक फैलता है, तो यह दिल के दौरे का प्रारंभिक लक्षण हो सकता है।

8. उल्टी और अपच

यदि आपके माता-पिता को उल्टी आ रही हैं या घबराहट हो रही हैं, तो उन्हें तुरंत डॉक्टर से जांच करानी चाहिए, क्योंकि यह दिल की बीमारी का शुरुआती लक्षण हो सकता है।

9. अत्यधिक पसीना आना

क्या आपके माता-पिता को बहुत पसीना आता है? तो यह दिल का दौरा पड़ने का संकेत हो सकता है। बिना किसी कारण के पसीना आना हृदय को अनियमित रूप से रक्त पंप करने के लिए चेतावनी का संकेत है।

10. टखनों और पैरों में सूजन

ये लक्षण तब होते हैं, जब हृदय को पर्याप्त रक्त पंप करने में दिक्कत आती है, क्योंकि ये महत्वपूर्ण है।

“यदि आपके माता-पिता को उपरोक्त लक्षणों में से कोई भी है, तो उपचार में देरी न करें। इसके अलावा, खुद से दवाइयां लेकर न खाएं। साथ ही, अपने माता-पिता को नियमित स्वास्थ्य जांच के लिए ले जाना न भूलें। ऐसा करने से शीघ्र निदान और उपचार में मदद मिल सकती है।

यह भी पढ़ें – बढ़ती उम्र की समस्‍याओं को कम करना है, तो अपने एजिंग पेरेंट्स के आहार में करें ये 5 जरूरी बदलाव

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।