वैलनेस
स्टोर

एक स्त्री रोग विशेषज्ञ बता रहीं हैं औरतों को होने वाली 5 सामान्य समस्‍याएं, जानिये उनसे निपटने के तरीके

Published on:27 June 2021, 16:00pm IST
कुछ सामान्य स्त्री रोग संबंधी समस्याएं हैं, जिनका ज्‍यादातर महिलाओं को सामना करना पड़़ता है। यहां यह समझना जरूरी है क‍ि आप उन्‍हें कैसे मैनेज कर सकती हैं।
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 78 Likes
कुछ सामान्य स्त्री रोग संबंधी समस्याएं जिनके बारे में आपको जानना चाहिए. चित्र : शटरस्टॉक

हर महिला अपने जीवनकाल में किसी न किसी स्त्री रोग से पीड़ित होती है। इन्ही में से कुछ समस्याएं ज्यादा आम होती हैं। जिनका ज्‍यादातर महिलाओं को सामना करना पड़ता है। ये आपकी उम्र, प्रजनन आयु, यौन गतिविधि या पोषण संबंधी भी हो सकती हैं। आइए सबसे आम मुद्दों पर चर्चा करें, जिनका ज्यादातर महिलाएं सामना करती हैं।

1. मूत्र मार्ग में संक्रमण (Urinary tract infections)

ऐसा माना जाता है कि हर महिला को अपने जीवनकाल में कम से कम दो बार यूटीआई से जूझना पड़ता है। मूत्रमार्ग के छोटे होने और मूत्रमार्ग के योनि से सटे होने के कारण महिलाओं में संक्रमण का खतरा अधिक होता है।

निम्नलिखित टिप्स को अपनाने से निश्चित रूप से यूटीआई के जोखिम को कम किया जा सकता है:

इसमें बहुत सारे तरल पदार्थ पीना सहायक हो सकता है। 3 से 4 लीटर तरल पदार्थ लेने की कोशिश करें।

संभोग करने के बाद पेशाब ज़रूर करें।

अपनी योनि को आगे से पीछे की ओर साफ करें, कभी भी पीछे से आगे की ओर नहीं।

बर्थ कंट्रोल के लिए डायफ्राम के इस्तेमाल से बचें। इसके बजाय, सुरक्षा के लिए कंडोम का प्रयोग करें।

सार्वजनिक शौचालय में सीट के संपर्क में आने से बचें। भारतीय शैली के शौचालयों का उपयोग करने का प्रयास करें।

सूती अंडरवियर पहनें।

डूचिंग और इंटिमेट हाइजीन उत्पादों से बचें।

यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन. चित्र : शटरस्टॉक

2. अनियमित पीरियड्स

कई महिलाओं को अनियमित पीरियड्स की भी शिकायत होती है। 21 दिनों से पहले या 35 दिनों के बाद आने वाले पीरियड्स को ‘अनियमित’ के रूप में वर्णित किया गया है। अनियमित पीरियड्स के कुछ सबसे सामान्य कारण हार्मोनल असंतुलन जैसे पॉलीसिस्टिक ओवरी, थायरॉयड विकार या हाइपरप्रोलैक्टिनीमिया के कारण होते हैं।

ये जीवनशैली संबंधी विकार हैं, जो शारीरिक निष्क्रियता, खराब खान-पान, शराब पीने, धूम्रपान और तनाव के कारण हो सकते हैं।

ऐसे मुद्दों का इलाज करने का एकमात्र तरीका अपनी जीवनशैली में बदलाव करना है:

स्वस्थ भोजन खाएं, जो प्रोटीन से भरपूर हो लेकिन ट्रांस वसा और शर्करा में कम हो।

सप्ताह में कम से कम 5 बार 30 मिनट व्यायाम करें। इसमें ज़ुम्बा, तैराकी, उच्च-तीव्रता वाली कार्डियो एक्सरसाइज और दौड़ना शामिल हो सकता है। मूल रूप से, कोई भी व्यायाम करें जो हृदय गति को बढ़ा सके।

सूर्योदय और सूर्यास्त की दिनचर्या का पालन करें। इसका मतलब है कि आपको अपना पहला भोजन सूर्योदय के बाद और अंतिम भोजन सूर्यास्त से पहले करना चाहिए।

सिगरेट और शराब से बचें।

कम से कम 8 घंटे की नींद जरूर लें। सुनिश्चित करें कि आप रात 11 बजे के बाद नहीं सो रहीं हैं और सुबह 8 बजे से पहले उठ रहीं हैं। बहुत देर से सोना और देर से जागना आपकी स्‍र्कैडियन लय को बदल सकता है। जिससे आपका हार्मोनल संतुलन प्रभावित होता है।

ध्यान और योग जैसी क्रियाओं से तनाव को कम करें।

योनि में संक्रमण बेहद आम है । चित्र : शटरस्टॉक

3. योनि में संक्रमण

जलवायु के कारण भारतीय महिलाओं में योनि में संक्रमण बहुत आम है। इसके अलावा, हमारे मसालेदार भोजन की आदतें योनि के पीएच में परिवर्तन का कारण बनती हैं। ऐसे कारक भारतीय महिलाओं को संक्रमण के प्रति अधिक संवेदनशील बनाते हैं।

आमतौर पर, योनि स्राव बिल्कुल सामान्य होता है। हालांकि, अगर डिस्चार्ज बदबूदार है, पनीर जैसा दिख रहा है, खुजली के साथ है या हरे, पीले या खून के रंग का है, तो आपको जल्द से जल्द डॉक्टर के पास जाना चाहिए। यह एक संक्रमण का संकेत हो सकता है।

प्रत्येक संक्रमण की एक विशिष्ट उपचार पद्धति होती है, लेकिन सभी संक्रमण उपचार योग्य होते हैं। संक्रमण का जल्दी इलाज न करने से गर्भाशय में संक्रमण, श्रोणि में दर्द और इन्फर्टिलिटी हो सकती है।

संक्रमण से बचने में आपकी मदद करने के लिए सही योनि स्वच्छता के लिए यहां कुछ सुझाव दिए गए हैं:

कभी भी फेमिनिन हाइजीन वॉश का इस्तेमाल न करें। इसके अलावा, डूचिंग से बचें। अपनी योनि को केवल साबुन और पानी से साफ करें।

योनि को हमेशा आगे से पीछे की ओर साफ करें।

नियमित रूप से पैप स्मीयर टेस्ट करवाएं।

सर्वाइकल कैंसर का टीका लें।

यदि आपके कई यौन साथी हैं, तो एसटीडी के लिए परीक्षण करवाएं।

हवादार अंडरगारमेंट्स पहनें।

योनि में अच्छे फ्लोरा को बनाए रखने के लिए हमेशा प्रोबायोटिक्स का सेवन करें।

वार्षिक योनि जांच संक्रमण से बचने की कुंजी है।

योनि मे खुजली,जलन जैसी परेशानी का कारण योनि में ड्राइनेस हो सकती है।चित्र: शट्टरस्टॉक

4. गर्भाशय रक्तस्राव (Abnormal uterine bleeding)

एक और आम समस्या जिससे ज्यादातर महिलाएं पीड़ित हैं, वह है असामान्य गर्भाशय रक्तस्राव। सामान्य गर्भाशय रक्तस्राव तब होता है जब आपके द्वारा मासिक धर्म के दौरान खो
जाने वाले रक्त की मात्रा 5 मिली से 80 मिली के बीच होती है।

यह 2 चम्मच से 12 चम्मच के बीच होना चाहिए। आमतौर पर, एक पीरियड 2 से 7 दिनों के बीच होता है। यदि आपको इससे अधिक रक्तस्राव हो रहा है और थक्के निकल रहे हैं, तो आपको असामान्य गर्भाशय रक्तस्राव के लिए एक डॉक्टर को दिखाना चाहिए।

इस स्थिति के कारणों का छोटा नाम PALMCOIN है, जिसका मतलब है:

P – Polyps, यानी गर्भाशय में पॉलीप्स
A – Adenomyosis, एडेनोमायोसिस एक ऐसी स्थिति है, जिसमें गर्भाशय की परत गर्भाशय की मांसपेशियों के अंदर बढ़ती है, जिससे संकुचन और रक्तस्राव को रोकने की क्षमता कम हो जाती है।
L – Leiomyoma, लेयोमायोमा, जिसे फाइबरोइड के रूप में भी जाना जाता है, गर्भाशय की मांसपेशियों की वृद्धि है।
M – Malignancy , गर्भाशय या ओवरी में कैंसर
C – Coagulation, यह असामान्यता रक्त का एक विकार है, जो थक्के का कारण बनता है
O – Ovulation disorders , ओव्यूलेशन विकार जैसे पीसीओडी, थायराइड असामान्यता या बढ़ा हुआ प्रोलैक्टिन स्तर
I – Intake of hormones, गर्भनिरोधक गोलियां या मौखिक गर्भनिरोधक गोलियां
N – जब गर्भाशय से असामान्य रक्तस्राव होता है, लेकिन कोई असामान्यता नहीं पाई जाती है।

इसलिए, यदि आप असामान्य गर्भाशय रक्तस्राव का अनुभव कर रही हैं, तो इसका कारण जानने के लिए डॉक्टर से बात करना सबसे अच्छा है। आमतौर पर, आपसे अनुरोध किया जाएगा कि आप अपने हार्मोन के स्तर की जांच करवाएं और अल्ट्रासाउंड के लिए जाएं।

5. पीरियड का दर्द

हल्के पीरियड क्रैम्प्स मासिक धर्म का हिस्सा हैं। मगर अधिकांश महिलाएं अपने मासिक धर्म के दौरान दर्दनाक ऐंठन का अनुभव करती हैं।

इसलिए, हल्के मासिक धर्म में ऐंठन होना बिल्कुल सामान्य है। उन पर काबू पाने के टिप्स:

अपने निचले पेट पर सिकाई करें। मासिक धर्म होने पर भी व्यायाम करें। वर्कआउट करने से हैप्पी हार्मोन रिलीज करने में मदद मिलती है। इसलिए दर्द कम होता है।

एंटीस्पास्मोडिक दवाएं लेने से न शर्माएं क्योंकि वे दर्द को शांत करने में मदद करेंगी।

यदि मासिक धर्म का दर्द बहुत अधिक है और आप साधारण तरीकों का उपयोग करके इसे दूर नहीं कर सकती हैं, तो आपको डॉक्टर को दिखाना चाहिए। इसके अलावा, यदि मासिक धर्म का दर्द आपको अपने दैनिक काम करने से रोक रहा है, तो यह एक अंतर्निहित चिकित्सा स्थिति की ओर इशारा कर सकता है।

गंभीर मासिक धर्म ऐंठन के कारणों में एंडोमेट्रियोसिस, एडिनोमायोसिस और पैल्विक संक्रमण शामिल हैं। इन सभी स्थितियों को एक डॉक्टर द्वारा संबोधित करने की आवश्यकता है।

संदेश यह है कि अपने शरीर के बारे में समझें, क्या सामान्य है और क्या नहीं। इससे आपको यह समझने में मदद मिलेगी कि क्या हो रहा है। नए परिवर्तनों को अनदेखा न करें। प्रारंभिक अवस्था में कुछ बीमारियों को पकड़कर हम विभिन्न चिकित्सीय स्थितियों को विकसित होने से रोक सकते हैं।

एक स्वस्थ जीवन शैली का पालन करें और अपने स्त्री रोग विशेषज्ञ के पास जाने से न शर्माएं। यहां तक ​​​​कि जब सब कुछ सामान्य होता है, तो भी वार्षिक जांच के लिए अपने डॉक्टर से मिलने की सलाह दी जाती है।

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।