आपको याद रखनी चाहिए अपनी मम्मी की वेजाइनल हेल्थ के बारे में ये 8 बातें

इंटीमेट हेल्‍थ भी उनके स्‍वास्‍थ्‍य का जरूरी हिस्‍सा है, आपकी मां अब बूढ़ी हो चली हैं, वे अपना ख्‍याल नहीं रख सकतीं। ऐसे में यह आपकी जिम्‍मेदारी है कि आपकी उनकी अंतरंग स्‍वच्‍छता के प्रति सहज और सजग हों।
कपड़े के रीयूजेबल पैड्स आपकी वेजाइना की हेल्‍थ के लिए ज्‍यादा सुरक्षित हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक
टीम हेल्‍थ शॉट्स Updated: 10 Dec 2020, 01:06 pm IST
  • 70

इस सच्‍चाई को शब्दों में बयां कर पाना आसान नहीं है कि आपकी मम्‍मी, जो हमेशा आपकी सेहत का ख्‍याल रखती रहीं हैं, अब उनकी उम्र बढ़ रही है। हड्डी की समस्याओं से लेकर बिगड़ती मानसिक स्थिति के कारण अल्‍जाइमर्स जैसे रोग और कई अन्‍य शारीरिक समस्‍याएं उनकी बढ़ती उम्र के कारण अब उन्‍हें परेशान करने लगी हैं। यह उनके समग्र स्‍वास्‍थ्‍य के लिए काफी मुश्किल भरा समय है।

निश्चित रूप से, हम जब भी उनक सेहत के बारे में सोचते हैं तो बस उनकी बीमारियों और आहार पर ही सोच पाते हैं। ऐसे में हम उनके स्‍वास्‍थ्‍य के बेहद महत्‍वपूर्ण पहलू की ओर ध्‍यान नहीं दे पाते। वह है उनकी इंटीमेट हेल्‍थ। यानी उनका यौन स्‍वास्‍थ्‍य।

स्वस्थ खानपान और हल्के व्यायाम के लिए प्रोत्साहित करने से हम उन्हें इन समस्‍याओं से बचाए रखने में मददगार हो सकते हैं। इनके अलावा हम यहां एक बढ़ती उम्र में महिलाओं की इंटीमेट हेल्‍थ के सामने पेश आ रही समस्‍याओं पर बात कर रहे हैं। इससे आप अपनी एजिंग मॉम के वेजाइनल स्‍वास्‍थ्‍य के प्रति ज्‍यादा जागरुक हो पाएंगे। और उन्‍हें अपनी देखभाल करने के लिए प्रोत्‍साहित कर पाएंगी।

1 अब वह वेजाइनल इंफेक्‍शन की चपेट में ज्‍यादा आ सकती हैं

भाटिया अस्पताल, मुंबई  में प्रसू‍ति एवं स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉ. प्रणय शाह चेतावनी देते हैं, “बुजुर्गों की त्वचा कमजोर हो जाती है और उसके नीचे की वसा में कमी आने के कारण उस पर झुर्रियां आने लगती हैं। ऐसी त्‍वचा चोट और प्रेशर अल्‍सर के प्रति ज्‍यादा प्रोन हो जाती है। इसलिए पसीने के कारण त्वचा की सलवटों में जीवाणु और फंगल संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है।”

साथ ही वे कहते हैं, “चलने-फि‍रने में अक्षमता होने या एल्‍डर केयर में सुविधा के लिए अकसर डायपर का इस्‍तेमाल किया जाता है। इस वजह से भी उनके इंटीमेट एरिया में संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है।”

2 हालांकि खुजली हमेशा संक्रमण का संकेत नहीं है

इस बढ़ती उम्र में जब‍ आपकी मां अपने अंतरंग क्षेत्र में संक्रमण के प्रति ज्‍यादा प्रोन हैं, वहां इसका यह मतलब नहीं कि आप किसी भी तरह की खुजली और जलन को आप इंफेक्‍शन का ही नाम दें।

vaginal itching
इंटीमेट एरिया में रखुजली का मतलब हमेशा संक्रमण नहीं होता। चित्र : शटरस्टॉक

डॉ. शाह बताते हैं, “हार्मोन में कमी के कारण रजोनिवृत्ति के बाद के समय में खुजली और यूरिनरी प्रोब्‍लम्‍स हो सकती हैं। पर यह इंफेक्‍शन नहीं है। इससे अनावश्यक एंटीबायोटिक दुरुपयोग हो सकता है। यहां यह भी बताना जरूरी है कि मूत्र और मल असंयम या ठीक से साफ-सफाई न रख पाने के कारण यह पेरियानल और पेरिनियल संक्रमण भी हो सकता है।”

3 यदि आपकी मां बिस्तर पर हैं तो आपको ज्‍यादा सतर्क रहना होगा

यदि आप या मेडिकल अटेंडेंट आपकी मॉम की सफाई करती हैं, तो उनके इंटीमेट एरिया की क्‍लीनिंग के लिए डॉ शाह एक साफ स्‍पंज का इस्‍तेमाल करने की सलाह देते हैं।

साथ ही वे यह भी कहते हैं कि “उनकी सफाई करते हुए या नहलाते हुए प्राइवेसी बनाए रखें। और उनके शरीर के हर हिस्‍से को बारी-बारी से और साफ तरह से क्‍लीन करें।”

4 उनके साथ संवाद करें

आपको अपनी मम्‍मी से उनकी इंटीमेट हाइजीन पर भी बात करनी चाहिए। वास्तव में, आपको इसे सामान्य करने की आवश्यकता है। एक विनम्र दृष्टिकोण वही है जो उनकी प्राइवेसी को भी चोट नहीं पहुंचाता और उनके अंतरंग स्‍वास्‍थ्‍य के बारे में उन्‍हें जागरुक भी करता है। अंतरंग स्वास्थ्य और स्वच्छता के बारे में उनकी समझ बढ़ाकर ही उन्‍हें कई बीमारियों से बचाया जा सकता है।

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें
intimate health in elderly
अपनी मम्‍मी को बताएं कि वे अपने अंतरंग स्‍वास्‍थ्‍य की बेहतर देखभाल कैसे कर सकती हैं। चित्र : शटरस्टॉक

5 उनकी जरूरतों का ख्‍याल रखें

सुनिश्चित करें कि उनकी इंटीमेट हेल्‍थ और हाइजीन के लिए जरूरी सभी सामान उनके पास रहे। लिक्विड सोप उनके लिए ज्‍यादा बेहतर है। क्योंकि वह नाजुक त्वचा और ज्‍यादा बेहतर सफाई के लिए होते हैं। साबुन अकसर इस्‍तेमाल करते हुए हाथ से छूटकर गिर जाता है, जिससे वह गंदा हो सकता है। साथ ही साबुन का उपयोग यहां/वहां की त्वचा को नुकसान पहुंचा सकता है। उनके इंटीमेट एरिया को पोंछने के लिए नर्म तौलिए का इस्‍तेमाल करें या उनसे ऐसा करने को कहें।

6 मां के लिए आरामदायक कपड़ों का चयन करें

अच्छे से स्नान के बाद यह भी सुनिश्चित करें कि आपकी मम्‍मी ऐसे कपड़े पहनें जिनमें वे बेहतर तरीके से सांस ले सकें। बहुत तंग कपड़े उनके इंटीमेट एरिया को सांस लेने में बांधित करते हैं। कपड़े आरामदायक होने चाहिए।

7 त्वचा की सलवटों पर अतिरिक्त ध्यान दें

त्वचा की परतों के नीचे गंदगी और बैक्टीरिया फंस सकते हैं। स्तन, बगल, कमर, गर्दन और जननांगों के नीचे विशेष रूप से यह समस्‍या हो सकती है। गंदगी और बैक्टीरिया को हटाने के लिए लिक्विड सोप का इस्‍तेमाल करने के साथ ही शरीर के इन हिस्‍सों को अच्छी तरह से साफ करें। फंगल संक्रमण को रोकने के लिए इन क्षेत्रों का सूख रहना ज्‍यादा महत्वपूर्ण है।

सुखाने के बाद इन क्षेत्रों पर पाउडर या मॉइस्चराइज़र का उपयोग करें। यदि फंगल संक्रमण के लक्षण हैं, तो प्रभावित क्षेत्रों में एंटी-फंगल पाउडर या मरहम लगाएं। एक उपयुक्त एंटीबायोटिक मरहम अल्सर और त्‍वचा की चोट को भरने में मददगार हो सकता है।

8 अगर आपकी मम्‍मी को डायपर पहनाना पड़ता है, तो इसे जरूर पढ़ें

डॉ शाह के अनुसार, बढ़ी उम्र के वे महिलाएं जो अक्षम हैं और चल फि‍र नहीं पाती हैं, उनकी देखभाल में आपको डायपर पहनाने की आवश्‍यकता पड़ती है। इसके लिए यह ध्‍यान रखें कि डायपर को हर रोज कम से कम दो बार जरूर बदलें। उनके गंदे होने का इंतजार न करें। सुनिश्चित करें कि उनकी त्वचा को लिक्विड सोप से अच्‍छी तरह साफ किया गया और सुखाया गया हो। इसके साथ ही वहां पर एंटी फंगल पाउडर या टेल्‍क भी लगा सकती हैं।

वे कहते हैं, “यह भी महत्वपूर्ण है कि उनकी देखभाल करने वाला खुद भी सफाई का ख्‍याल रखे। स्किन डैमेज, घाव, या निजी अंगों को छूते समय उपयुक्त दस्ताने पहने जाने चाहिए। एक वॉटर प्रूफ एप्रन आपको उनको नहलाने और साफ करने के दौरान गीला होने से बचाता है।”

इसलिए, लेडीज,  ये छोटे-छोटे कदम उठा कर आप अपनी मम्‍मी की इंटीमेट हाइजीन का ख्‍याल रख सकती हैं।

  • 70
लेखक के बारे में

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख