हर रोज अनुलोम-विलोम का अभ्‍यास करने से आपकी सेहत को होते हैं ये 6 लाभ 

अनुलोम-विलोम प्राणायाम और योगासन स्वस्थ रहने का सबसे सरल तरीका है। हम पर विश्वास करें, आपको केवल एक सप्ताह के भीतर कई परिवर्तन दिखाई देंगे!
Anulom vilom ke fayde
आपके गुस्से को शांत कर देता है अनुलोम विलाेम। चित्र-शटरस्टॉक
टीम हेल्‍थ शॉट्स Updated: 17 Oct 2023, 10:07 am IST
  • 82

योग अपने स्वास्थ्य लाभों के लिए जाना जाता है। तनाव के स्तर को कम करने से लेकर आपको शेप में रहने में मदद करने तक, योग ने खुद को बार-बार साबित किया है। शायद ही कुछ ऐसा हो जो योग न कर सके!

प्राणायाम अभ्यास सांस लेने की तकनीक पर केंद्रित है और अनुलोम विलोम उनमें से एक है। यह एक श्वास तकनीक है, जो पूरी तरह से सुरक्षित है और इसका कोई साइड-इफेक्ट भी नहीं है।

तो, आप कैसे परिवर्तनों का अनुभव करेंगे जब नियमित रूप से अनुलोम विलोम का अभ्यास करेंगे? क्या आप यह जानने के लिए तरह तैयार हैं? आइये पता करते हैं:

  1. यह आपको बेहतर नींद लेने में मदद करता है 

जब हम अच्छी नींद लेते हैं, तो तरोताजा रहते हैं। जिससे हमें अपने दैनिक कार्यों को अधिक कुशलता से करने में मदद मिलती है। जब आप नियमित रूप से अनुलोम-विलोम प्राणायाम का अभ्यास करते हैं, तो आप जो सबसे महत्वपूर्ण बदलाव देखते हैं वह आपके सोने के तरीके में सुधार है। यह पैरासिम्पेथेटिक तंत्रिका तंत्र को सक्रिय करने में मदद करता है और आपके शरीर को आराम देता है।

यह भी पढें: क्या डायबिटीज को कंट्रोल करने में मददगार है सेब का सिरका, चलिए पता करते हैं

  1. आपको चमकती हुई त्वचा मिलेगी

यह श्वसन व्यायाम रक्त को शुद्ध करने में मदद करता है और जैसे-जैसे ऑक्सीजन मिलता है, आपकी त्वचा और अच्छी होती है!

  1. मूड को बेहतर बनाता है

अनुलोम-विलोम आपके मूड को शांत करता है, क्रोध कम करने में मदद करता है और आपके फोकस को बेहतर बनाता है। यदि आप नियमित रूप से इस आसन को करते हैं, तो आप अधिक खुश, शांत और तनाव मुक्त रहेंगे।

अन्य योगाभ्यासों के साथ ही गहरी सांस लेना आपको माइग्रेन के लक्षणों को कम करने में मददगार साबित हो सकता है। चित्र : शटरस्टॉक
  1. माइग्रेन से राहत दिलाने में मदद करता है

माइग्रेन के लिए सबसे प्रभावी योगासन है अनुलोम विलोम। हर रोज 15 मिनट के लिए ऐसा करने से तनाव को कम करके माइग्रेन के दर्द को दूर करने में मदद मिलती है।

  1. कई रोगों से मुक्ति 

नियंत्रित श्वास अभ्यास अस्थमा, एलर्जी की समस्या, कब्ज, गैस्ट्रिक एसिड, खर्राटों, हृदय स्वास्थ्य और कई और स्वास्थ्य स्थितियों का इलाज करने में मदद करता है। यदि आप इनमें से किसी भी समस्या से पीड़ित हैं, तो आप एक महत्वपूर्ण सुधार पाएंगे, जब आप नियमित रूप से इस आसन का अभ्यास शुरू करेंगे।

  1. मन को शांत करने में मदद करता है

अनुलोम विलोम में सांस लेने की तकनीक तनाव को प्रबंधित करने में मदद करती है, मानसिक स्थिरता में सुधार करती है, आपके मन को शांत करती है, चिंता और अवसाद को कम करती है, और आपकी मनोदशा सुधारती है।

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

तो लेडीज, इस आसन को ज़रूर आजमाएं और इसके लाभों का आनंद लें!

यह भी पढें: गर्भावस्था के दौरान एनवायरमेंटल टॉक्सिन का असर पड़ सकता है बच्‍चों के व्‍यवहार पर

  • 82
लेखक के बारे में

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख