पाइल्स ही नहीं, स्किन इन्फेक्शन और मूड स्विंग्स का जोखिम भी बढ़ा देता है टॉयलेट में मोबाइल इस्तेमाल करना, जानिए कैसे

टॉयलेट में मोबाइल फोन प्रयोग करने से स्वच्छता में कमी आती है और कई तरह के हानिकारक वायरस और बैक्टीरिया आपके फोन से चिपक जाते हैं और बाद में ये आपको काफी बीमार कर सकते है।
toilet me phone use karne se ho sakti hai samasyae
क्या आप भी टॉयलेट में प्रयोग करते है मोबाइल फ़ोन ? चित्र- अडॉबीस्टॉक

टॉयलेट में ज्यादा समय तक बैठ के फोन की स्क्रीन को स्क्रॉल करना एक नया ट्रेंड बन गया है। लेकिन ये ट्रेंड न सिर्फ आपके शारीरिक स्वास्थ्य बल्कि मानसिक स्वास्थ्य के लिए भी बेहद हानिकारक हो सकता है। टॉयलेट में लंबे समय तक फोन चलाने की आदत व्यक्ति के स्वास्थ्य को काफी खराब कर सकती है।

टॉयलेट में मोबाइल फोन प्रयोग करना अब शौक नहीं बल्कि एक समस्या बन गया है। शिकागो की मीडिया कंपनी पीआर न्यूज़ वायर में छपी एक रिपोर्ट के मुताबिक़ टॉयलेट में मोबाइल फोन प्रयोग करने से स्वच्छता में कमी आती है और कई तरह के हानिकारक वायरस और बैक्टीरिया आपके फोन से चिपक जाते हैं और बाद में ये आपको काफी बीमार कर सकते है।

क्या कहते है आंकड़े

टॉयलेट में फोन ले जाने के मामले पर 2016 में ऑस्ट्रेलिया में हुए अध्य्यन में ये सामने आया है कि ऑस्ट्रेलिया की कुल जनसंख्या में से 41 प्रतिशत जनता टॉयलेट में फोन ले जाती है।

 

वहीं, अमेरिका की एक कंपनी वॉटरफ़िल्टरगुरु ने अपनी एक रिपोर्ट में बताया कि जो व्यक्ति टॉयलेट में मोबाइल फोन ले जाता हैं, उनके फोन में टॉयलेट सीट से ज्यादा जर्म्स और बैक्टीरिया होते हैं।

टायलेट में मोबाईल प्रयोग करने से हो सकती है तमाम समस्याएं

टॉयलेट में फोन उपयोग करने से कई स्वास्थ्य संबंधित खतरे हो सकते हैं, जिन्हें आपको जानना महत्वपूर्ण है। यहाँ कुछ खतरे हैं जो टॉयलेट में फोन यूज़ करने से हो सकते हैं:

1 कीटाणु और बैक्टीरिया के आक्रमण का खतरा

टॉयलेट के आसपास की जगहें आमतौर पर कीटाणुओं और बैक्टीरिया से भरपूर होती हैं। टॉयलेट में फोन का प्रयोग करने से तमाम कीटाणु और बैक्टीरिया आपके फोन की सतह पर चिपक जाते हैं, जिसके कारण आपके स्वास्थ्य के लिए खतरा हो सकता है।

screen bacteria ko kaise karein saaf
टॉयलेट में मोबाइल यूज़ करना है काफी नुकसानदेह। चित्र : एडॉबीस्टॉक

2 सही हाइजीन की आवश्यकता

टॉयलेट एक ऐसी जगह होती है, जहां सही हाइजीन की आवश्यकता होती है। जब आप टॉयलेट में फोन प्रयोग करते हैं तब आपके फोन पर बैक्टीरिया और कीटाणु आ जाते है। जिसके बाद आप अपने फोन को साफ़ नहीं करते और वो कीटाणु आम जीवन में आपके स्वास्थ्य के लिए हानिकारक साबित हो जाते है। इसलिए जब भी आप टॉयलेट में फोन ले जाएं, उसके बाद उसे सही ढंग से साफ़ कर दें।

3 मानसिकता पर भी पड़ता है असर

टॉयलेट में मोबाइल ले जाने के कारण आपकी मानसिक सेहत पर भी असर पड़ सकता है। ऐसा इसलिए क्योंकि पूरे दिन में हम अपने फोन के साथ बहुत समय बिताते है और पहले वॉशरूम ही एक ऐसी रिलैक्स करने वाली जगह होती थी, जहां हम मोबाइल यूज़ नहीं करते थे।

लेकिन जब से हम वहां भी फोन ले जाने लगें हैं, तो एक तरह से हम पूरे दिन ही फ़ोन का प्रयोग करतें हैं और ऐसा करने से हमारा मानसिक स्वास्थ्य प्रभावित होता है।

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

टॉयलेट में फोन प्रयोग करने से होने वाली बीमारियां

टॉयलेट में फोन प्रयोग करने से न सिर्फ आपकी आदत खराब हो जाती है बल्कि कई तरह की बीमारियां भी होने लगती है। आमतौर पर किसी भी व्यक्ति को फ्रेश होने 5 से 7 मिनट ही लगते हैं, लेकिन जब हम फोन ले जाते हैं तो उसे स्क्रॉल करने में इतने मशगूल हो जाते हैं कि 20 से 25 मिनट तक वहीं बैठे रहतें हैं। ऐसा करने से हम कई तरह की बीमारियों की ज़द में आ जातें हैं।

टॉयलेट में फोन ले जाना आपको गंभीर खतरे दे सकता है। चित्र: शटरस्‍टॉक
टॉयलेट में फोन ले जाना आपको गंभीर खतरे दे सकता है। चित्र: शटरस्‍टॉक

1 हो सकता है बैक्टीरियल इन्फेक्शन

टॉयलेट में लंबे समय तक बैठ के फोन चलाने के कारण बैक्टेरियल इंफेक्शन का खतरा बढ़ जाता है। फोन के साथ आपके हाथों पर बैक्टीरिया लग सकते हैं, जिसे आप जाने-अनजाने में अपने आंख, नाक और मुंह में लगा लेते हैं और इससे संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है।

2 स्किन इन्फेक्शन भी हो सकता है

टॉयलेट के गंदे माहौल में फोन चलाने और लंबे समय तक बैठे रहने के कारण हमारी त्वचा संक्रमित हो सकती है, जो स्किन इन्फेक्शन का कारण बन सकती है।

3 बढ़ जाता है बवासीर का खतरा

वॉशरूम में लंबे समय तक बैठने के कारण शरीर में बवासीर की समस्या हो सकती है। ऐसा इसलिए क्योंकि ऐसा करने से शरीर भ्रमित हो जाता है और उसे वॉशरूम में लंबे समय तक रहने की आदत हो जाती है। इसके साथ ही एनल एरिया के पास नसों में सूजन हो जाती है और इसे ही बवासीर कहा जाता है।

यह भी पढ़ें : पानी की बोतल, किचन की सिंक और आपके मोबाइल पर होते हैं टॉयलेट सीट से भी ज्यादा बैक्टीरिया

  • 145
लेखक के बारे में

पिछले कई वर्षों से मीडिया में सक्रिय कार्तिकेय हेल्थ और वेलनेस पर गहन रिसर्च के साथ स्पेशल स्टोरीज करना पसंद करते हैं। इसके अलावा उन्हें घूमना, पढ़ना-लिखना और कुकिंग में नए एक्सपेरिमेंट करना पसंद है। जिंदगी में ये तीनों चीजें हैं, तो फिजिकल और मेंटल हेल्थ हमेशा बूस्ट रहती है, ऐसा उनका मानना है। ...और पढ़ें

अगला लेख