वैलनेस
स्टोर

परिवार में किसी को है श्‍वास संबंधी समस्‍या, तो इन 5 बातों का जरूर रखें ध्‍यान  

Published on:27 December 2020, 17:00pm IST
सर्दियों में सांस संबंधी समस्याओं का जोखिम बढ़ जाता है, अगर आपके परिवार में किसी को सांस सांस संबंधी समस्या है, तो आपको इन 5 बातों का ध्यान रखने की जरूरत है।
विनीत
  • 85 Likes
लंबे वक़्त तक भांग का सेवन करने से एंग्‍जायटी हो सकती है । चित्र-शटरस्टॉक

सर्दियों के मौसम में उन लोगों को सांस लेने में ज्‍यादा परेशानी का सामना करना पड़ता है, जो किसी भी तरह की श्‍वास संबंधी समस्‍या से जूझ रहे हैं। इनमें बड़े-बुजुर्ग और छोटे बच्‍चे भी शामिल हो सकते हैं। खासकर कड़ाके की ठंड के महीनों में घर से बाहर जाकर एक गहरी सांस लेना अस्थमा, ब्रोंकाइटिस या क्रोनिक ऑब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिजीज जैसे COPD (जिसमें क्रोनिक ब्रोंकाइटिस और एंफिसेमा शामिल है) में जटिल हो जाता है। ठंडे तापमान के चलते आपको घरघराहट, खांसी और सांस लेने में तकलीफ जैसी समस्याएं हो सकती हैं।

अब आप सोच रही होंगी कि इस कड़ाके की ठंड में चैन की सांस कैसे लें? घबराइए मत, हम आपके लिए कुछ ऐसे टिप्स लेकर आएं हैं जिनसे आप अपने परिवार के उन लोगों की मदद कर सकती हैं, जो इस तरह की समस्‍याओं का सामना कर रहे हैं। तो चलिए हम बताते हैं इसके लिए कुछ उपयोगी टिप्‍स।

  1. डॉक्टर से जरूरी सलाह लें

अगर आपको या आपके परिवार के किसी सदस्‍या को पहले से सांस संबंधी समस्या है, तो सर्दियों के मौसम में चिकित्सक से परामर्श अवश्‍य लें। आमतौर पर स्वास्थ्य विशेषज्ञ अस्थमा के रोगी जो कि ठंडी हवा के प्रति संवेदनशील होते हैं, उन्हें बाहर जाने से पहले एक शार्ट-एक्टिंग ब्रोन्कोडायलेटर  (short-acting bronchodilator) का उपयोग करने की सलाह देते हैं-  जैसे कि एल्ब्युटेरोल (प्रोवेंटिल, वेंटोलिन, प्रोएयर)।

लेकिन इसके लिए एक सही दृष्टिकोण और इस्तेमाल करने का तरीका आवश्यक है, जिसके लिए आपको आपने डॉक्टर के पास जाना चाहिए।

अस्थमा का इलाज है हींग। चित्र : शटरस्टॉक
  1. स्कार्फ या कपड़े से अपने नाक और मुंह को ढकें

थैंक्‍स टू कोविड-19, अब आप नाक और मुंह ढककर ही बाहर निकलती हैं। सर्दियों के मौसम में जब आप घर से बाहर जाती हैं, तो अपने स्कार्फ या दुपट्टे से अपने मुंह को ढंक लें। यह आपके चेहरे के साथ ही आपके द्वारा सांस के जरिए ली जाने वाली हवा को भी गर्म करता है। साथ ही आपकी हवा में नमी को बढ़ाता है, जिससे कि ठंडी हवा के लक्षणों को कम करने में मदद मिलती है और सांस लेने में आसानी होती है।

  1. देर शाम या बहुत सुबह बाहर जाने से बचें

सांस संबंधी समस्याओं वाले लोगों को ठंड के मौसम में घर में रहने की अधिक सलाह दी जाती है। विशेष रूप से जब आप बाहर जाकर व्यायाम करती हैं। क्योंकि इससे आपके सांस के मार्ग में सूखापन बढ़ेगा, साथ ही संभावित रूप से लक्षणों में भी वृद्धि होगी। जिससे कि अस्थमा अटैक का जोखिम अधिक बढ़ सकता है।

इसलिए बेहतर है कि कड़ाके की ठंड के महीनों में खुद को घर तक ही सीमित रखें। साथ ही अपने व्यायाम के रुटीन को घर में ही फॉलो करने की कोशिश करें। घर पर रहकर ही कसरत करें, आप चाहें तो इसके लिए एक ऑनलाइन फिटनेस क्लास भी ज्वाइन कर सकती हैं।

  1. धूएं से बचें

सर्दियों के दौरान लकड़ी से जलने वाली चिमनियों से निकलने वाले धुएँ की गंध आम है। लेकिन अगर आपको सांस की समस्या है, तो यह धुआं आपके फेफड़ों को परेशान कर सकता है। जब आप बाहर हों तो इससे बचने की कोशिश करें।

नेजल स्‍प्रे आपको कुछ गंभीर नुकसान भी पहुंचा सकते हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक
  1. नाक की नमी को बनाएं रखें

विशेषज्ञ सुझाव देते हैं कि सर्दियों के मौसम में आपको नियमित रूप से अपनी नाक के छिद्रों में नमी बनाए रखने की जरूरत है। एक सूखी नाक आमतौर पर भीड़भाड़ वाली नाक की तरह महसूस होती है। जिसके परिणामस्वरूप हम मुंह से सांस लेते हैं। अपनी नाक की नमी को बनाए रखने के लिए आप नेजल सेलाइन स्प्रे या सेलाइन जेल का इस्तेमाल कर सकती हैं। जो कि बंद नाक से राहत पाने में मददगार है साथ ही आपकी नाक में नमी को बनाए रखेगा।

इससे आपको अपने मुंह के बजाए नाक से सांस लेने में आसानी महसूस होगी। लेकिन कौन सा नेजल स्प्रे या जेल आपके लिए बेहतर है इसके लिए आपको अपने चिकित्सक से परामर्श लेने की आवश्यकता है।

विनीत विनीत

अपने प्यार में हूं। खाने-पीने,घूमने-फिरने का शौकीन। अगर टाइम है तो बस वर्कआउट के लिए।