वैलनेस
स्टोर

आपके बच्चे के मानसिक स्वास्थ्य को बेहतर बनाएंगी ये 5 पेरेंटिंग टिप्‍स, जानिए ये कैसे काम करती हैं

Updated on: 11 February 2021, 12:56pm IST
महामारी ने बच्चों के मानसिक स्वास्थ्य पर बहुत गहरा प्रभाव डाला है। ऐसे में ये पेरेंटिंग टिप्स आपके बच्चे को बेहतर समर्थन प्रदान करने में आपकी मदद कर सकते हैं।
Satinder Kaur Walia
  • 81 Likes
एक मां जानती हैं कि उसके बच्‍चे के लिए क्‍या सही है। चित्र: शटरस्‍टॉक

हम में से हर कोई अपने बच्चों के लिए सबसे अच्छा अभिभावक बनना चाहता है। लेकिन अक्सर परस्पर विरोधी विचार और सलाह होती हैं, कि अपने बच्चे को कैसे आगे बढ़ाएं, जिससे वह स्वस्थ, आत्मविश्वास से भरा हुआ, विनम्र और सफल बने।

वर्तमान युग में जब माता-पिता के पास इंटरनेट के माध्यम से, जानकारियों का ढेर है। इस पर वे लगातार बच्चों की परवरिश के बारे में अपने ज्ञान का विस्तार करने के तरीकों की तलाश कर रहे हैं। खासकर जब महामारी हमारे जीवन की कठोर वास्तविकता बन गई है।

महामारी के दौरान अपने बच्चे की देखभाल करते समय माता-पिता द्वारा दिए गए इन 5 सुझावों को फॉलो किया जा सकता है :

1. एक अच्छे रोल मॉडल बनें

वॉक पर जाएं और अपने बच्चे को यह न बताएं कि आप उनके लिए क्‍या करना चाहते हैं। उन्हें दिखाएं और उन्हें नकल करके सीखने दें। मनुष्य को अन्य कार्यों को कॉपी करने के लिए प्रोग्राम किया जाता हैं। ऐसा करने से वे अपने आसपास की दुनिया को समझने लगते हैं। बच्चे उन चीजों को खास तौर पर देखते हैं, जो उनके माता-पिता उनके सामने बहुत सावधानी से करते हैं।

बच्‍चे को आपके साथ और प्रोत्‍साहन की जरूरत है। चित्र: शटरस्‍टॉक
बच्‍चे को आपके साथ और प्रोत्‍साहन की जरूरत है। चित्र: शटरस्‍टॉक

इसलिए, ऐसे व्यक्ति बनें जैसा कि आप अपने बच्चे को बनाना चाहते हैं। अपने बच्चे का आदर करें, उन्हें सकारात्मक व्यवहार और रवैया दिखाएं। अपने बच्चे की भावनाओं के प्रति सहानुभूति रखें, आपका बच्चा भी इस सब को फॉलो करेगा।

2. एक्शन के माध्यम से अपना प्यार दिखाएं

अपने बच्चे से बहुत अधिक प्यार करने जैसी कोई चीज नहीं होती। यह सिर्फ इस पर निर्भर करता है कि आप प्यार के नाम पर अपने बच्चे के लिए लिए क्या करना या देना चुनते हैं। जैसे भौतिक उपभोग की वस्‍तुएं, उदारता, कम उम्मीद और अति-सुरक्षा। जब ये चीजें असली प्यार के स्थान पर दी जाती हैं, तो आप अपने बच्चे को बिगाड़ रहे होते हैं।

अपने बच्चे को प्यार करना उन्हें गले लगाना, उनके साथ समय बिताने और हर दिन उनके मुद्दों को गंभीरता से सुनने को प्राथमिकता दें। प्यार के इन कामों को दिखाने से ऑक्सीटोसिन जैसे फील-गुड हार्मोन के रिलीज को ट्रिगर किया जा सकता है। ये न्यूरोकेमिकल्स हमें शांत, भावनात्मक उष्‍मा और संतोष की गहरी भावना प्रदान कर सकते हैं। इनके माध्यम से बच्चा लचीलापन विकसित करेगा और आपके साथ घनिष्ठ संबंध का उल्लेख नहीं करेगा।

3. विनम्र और दृढ़ सकारात्मक परवरिश का अभ्यास करें

कुछ कनेक्शनों के साथ शिशुओं का जन्म लगभग 100 बिलियन मस्तिष्क कोशिकाओं (न्यूरॉन्स) के साथ होता है। ये कनेक्शन हमारे विचारों को बनाते हैं, हमारे कार्यों को चलाते हैं, हमारे व्यक्तित्व को आकार देते हैं और निर्धारित करते हैं कि हम कौन हैं।

बच्‍चे आपके व्‍यवहार को फॉलो करते हैं। चित्र : शटरस्टॉक
बच्‍चे आपके व्‍यवहार को फॉलो करते हैं। चित्र : शटरस्टॉक

वे हमारे जीवन भर के अनुभवों के माध्यम से बनाए गए, मजबूत किए गए और “गढ़े” गए हैं। अपने बच्चों को सकारात्मक अनुभव देने से उन्हें अपने भीतर सकारात्मक भावनाओं और अनुभवों का अनुभव करने की क्षमता मिलेगी, इसलिए वह दूसरों के सामने उन्हें पेश करेंगे।

एक मूर्खतापूर्ण गीत गाना, एक चुटकुला सुनाना, कहानियां पढ़ना, उनके साथ दौड़ना या तकिये से लड़ाई करना आपको अपने बच्चे के साथ जुड़ने में मदद करेगा। किसी समस्या को हल करने और सकारात्मक दृष्टिकोण के साथ निर्णय लेने में उनकी मदद करें।

न केवल ये सकारात्मक अनुभव आपके बच्चे के मस्तिष्क में अच्छे संबंध बनाते हैं, बल्कि वे आपकी यादों को भी बनाते हैं, जिसे आपका बच्चा जीवन भर अपने साथ लेकर चलता है।

4. अपने बच्चे के लिए एक सुरक्षित आश्रय बनें

अपने बच्चे को बताएं कि आप अपने बच्चे के संकेतों और उनकी आवश्यकताओं के प्रति संवेदनशील हैं और हमेशा उनके साथ रहेंगे। अपने बच्चे को एक व्यक्ति के रूप में समर्थन प्रदान करें और उसे स्वीकार करें। अपने बच्चे के लिए एक सुरक्षित आश्रय बनें। लगातार उत्तरदायी माता-पिता द्वारा उठाए गए बच्चों में बेहतर भावनात्मक विनियमन विकास, सामाजिक कौशल विकास और मानसिक स्वास्थ्य परिणाम होते हैं।

5. अपने बच्चे के साथ बात करें 

अपने बच्चे से बात करें और उन्हें ध्यान से सुनें। संचार की एक खुली रेखा रखने से, आपके अपने बच्चे के साथ बेहतर संबंध होंगे और कोई भी समस्या होने पर आपका बच्चा आपके पास आएगा। लेकिन संचार का एक और कारण है: आप अपने बच्चे को उसके मस्तिष्क के विभिन्न हिस्सों को एकीकृत करने में मदद करते हैं।

बातचीत परवरिश का एक महत्‍वपूर्ण टूल है। चित्र: शटरस्‍टॉक
बातचीत परवरिश का एक महत्‍वपूर्ण टूल है। चित्र: शटरस्‍टॉक

जब मस्तिष्क के विभिन्न हिस्सों को एकीकृत किया जाता है, तो वे एक सामंजस्यपूर्ण रूप से कार्य कर सकते हैं, जिसका अर्थ है कम नखरे, अधिक सहकारी व्यवहार, अधिक सहानुभूति और बेहतर मानसिक कल्याण।

इसे प्राप्त करने के लिए, परेशान करने वाले अनुभवों के माध्यम से बात करें और अपने बच्चे से यह वर्णन करने के लिए कहें कि क्या हुआ और वह कैसा महसूस करता है। ताकि वह कम्‍युनिकेशन को विकसित कर सकें। आपको एक अच्छे माता-पिता होने के लिए सभी उत्तरों की आवश्यकता नहीं है। बस उन्हें बात करते हुए सुनना और स्पष्ट सवाल पूछना उन्हें अपने अनुभवों की समझ बनाने और यादों को एकीकृत करने में मदद करेगा।

जब आप गुस्से में या निराश महसूस करते हैं, तो पीछे हटने का प्रयास करें। हर नकारात्मक अनुभव को उसके लिए सीखने के अवसर में बदल दें।

इन पेरेंटिंग युक्तियों का पालन करने से न केवल आपको स्वस्थ दृष्टिकोण रखने में मदद मिलेगी, बल्कि यह आपको पेरेंटिंग में प्राथमिक लक्ष्यों को प्राप्त करने में भी मदद करेगा, जैसे कि अपने बच्चे के साथ एक अच्छा रिश्ता बनाना।

पेरेंटिंग मनोविज्ञान के सबसे जटिल क्षेत्रों में से एक है। कई पेरेंटिंग तकनीकों, प्रथाओं या परंपराओं का वैज्ञानिक रूप से शोध किया गया है, सत्यापित या परिष्कृत किया गया है। बेशक, एक ही तरह की रणनीति सभी के लिए काम नहीं करती । हर बच्चा अलग होता है, और इसलिए आपको अलग-अलग पेरेंटिंग टिप्स देने होंगे।

आप अपने बच्‍चों के रोल मॉडल बनें। चित्र: शटरस्‍टॉक
आप अपने बच्‍चों के रोल मॉडल बनें। चित्र: शटरस्‍टॉक

कुछ बच्चे सख्त और जिद्दी होते हैं। जबकि कुछ शर्मीले या लचीले स्‍वभाव के हो सकते हैं।उन्हें इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि माता-पिता उनके साथ कितना कठोर व्यवहार करते हैं। जबकि सभी के लिए सही परवरिश की जरूरत होती है।

यह भी पढ़ें – हिचकियों को तुरंत रोकने में कारगर हैं ये 6 उपाय, जानिए हिचकी के पीछे के कारण

Satinder Kaur Walia Satinder Kaur Walia

Satinder Kaur Walia is the clinical head at Moms Belief. She is the industry veteran with more than 20 years of experience in working with individuals with disabilities both in India and as well as in USA. Her specialization lies in assessment, consultation, behavioural therapies and developmental disabilities.