बिना किसी चूर्ण और दवा के पेट साफ करना है, तो इन 3 नियमों को आजमा कर देखें

Updated on: 1 March 2022, 17:10 pm IST

स्वास्थ्य विशेषज्ञों का मानना हैं कि एक स्वस्थ व्यक्ति प्रति दिन औसतन एक से तीन बार शौच करता है। लेकिन अगर आपके साथ ऐसा नहीं होता, तो इन 3 नियमों का पालन करना आवश्यक है।

pet saaf karne ke upaye
सुबह शौच को आसान बनाने के तीन आसान नियम। चित्र : शटरस्टॉक

अगर आपको दिन में तीन बार शौच करना अकल्पनीय लगता है, तो आप अकेले नहीं हैं। लेकिन अगर हर दिन कम से कम एक बार शौच करना भी सवाल से बाहर लगता है, तो आप थोड़ा पीछे हो सकते हैं। दिनचर्या में बदलाव, कुछ खाद्य पदार्थ और यहां तक ​​कि तनाव जैसी साधारण चीजें नियमित मल त्याग को बाधित कर सकती हैं। लेकिन सही देखभाल के साथ चीजों को वापस पटरी पर लाना बहुत आसान है। आपके पाचन को दुरुस्त करने के लिए स्वास्थ्य विशेषज्ञ भी कुछ नियमों का सुझाव देते हैं। 

हेल्दी बॉवेल मूवमेंट के लिए इन बातों का ध्यान दें 

  1. नियमित स्लीपिंग पैटर्न का पालन करें 

हर रात एक ही समय पर सोने से नियमितता बनाए रखने में मदद मिल सकती है। आहार और पोषण विशेषज्ञों का मानना है कि नींद के पैटर्न में बदलाव आपके सर्कैडियन लय को प्रभावित कर सकता है। जो आपके स्लीपिंग पैटर्न के चक्र और पाचन दोनों को नियंत्रित करता है।

Aniyamit sleeping pattern ka saamna karti hai new moms
अनियमित स्लीपिंग पैटर्न आपके पेट पर डालती हैं असर। चित्र: शटरस्टॉेक

यही कारण है कि ज्यादातर लोगों सुबह-सुबह मल त्याग करते हैं। आपकी नींद के चक्र में कोई भी बदलाव कॉलोनिक गतिशीलता में बदलाव का कारण बन सकता है, जिससे मल त्याग में देरी हो सकती है।

  1. प्रोबायोटिक सप्लीमेंट लें

आपके पाचन को विनियमित करने और एक स्वस्थ आंत माइक्रोबायोम बनाने में मदद करने के लिए प्रोबायोटिक सप्लीमेंट लेना आवश्यक है। अध्ययनों से पता चला है कि ये लाभकारी बैक्टीरिया उस गति को बढ़ाने में मदद करते हैं, जिसमें आंतों के माध्यम से यात्रा होती है। प्रोबायोटिक्स को अपनी दिनचर्या का नियमित हिस्सा बनाने के लिए, हर सुबह नाश्ते की स्मूदी के साथ एक उच्च गुणवत्ता वाला प्रोबायोटिक ले सकते हैं। 

  1. इंटरमिटेंट फास्टिंग करने की कोशिश करें

चूंकि आप आंत को सभी पाचन से आराम देने की कोशिश करते  हैं, इसलिए सबसे पहले आपको कम से कम 16 घंटे उपवास करने की कोशिश करनी चाहिए। इसका मतलब है कि आप 16 घंटे का अंतराल रखते हैं अपने दिन के अंतिम भोजन और नाश्ते के बीच।

Intermittent fasting kare
इंटरमिटेंट फास्टिंग का करें पालन। चित्र-शटरस्टॉक

उदाहरण के लिए, दिन का अंतिम भोजन रात 8 बजे खाना और दिन का पहला भोजन दोपहर 12 बजे। अगला दिन 16 घंटे के उपवास के बराबर होगा। यह सुबह में उचित जलयोजन के लिए जगह छोड़ देता है, जो पाचन का समर्थन करने में मदद कर सकता है।

सारांश 

नींद की दिनचर्या को बनाए रखना, प्रोबायोटिक सप्लीमेंट लेना, और इंटरमिटेंट फास्टिंग कुछ विशेषज्ञ-समर्थित तरीके हैं जो दैनिक आधार पर नियमितता को बढ़ावा देते हैं। 

यह भी पढ़े : क्या आपको पता हैं कि आपके बाल भी बोलते हैं? जी हां, आपकी सेहत के बारे में ये 6 बातें बता सकते हैं आपके बाल

अदिति तिवारी अदिति तिवारी

फिटनेस, फूड्स, किताबें, घुमक्कड़ी, पॉज़िटिविटी...  और जीने को क्या चाहिए !

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें