रसोई में मौजूद इंग्रीडिएंट्स से तैयार करें एंटी डायबिटिक ड्रिंक्स, बिना दवा के कंट्रोल होगा शुगर लेवल

Published on:25 September 2023, 06:28pm IST

खान पान का असर हमारे संपूर्ण स्वास्थ्य पर नज़र आने लगता है। उचित डाइट न लेने से हमारा शरीर डाईबिटीज़ जैसे कई लाइफस्टाइल डिज़ीज़ की चपेट में आ जाता है। डाईबिटीज़ की शुरूआत के साथ लोग घरेलू नुस्खे अपनाने लगते हैं। कुछ घरेलु ड्रिंक्स को अपने रूटीन में शामिल करें। इससे ब्लड शुगर लेवल कन्ट्रोल हो जाता है।

pcos mein cinnamon ke fayde 1/5

दालचीनी का पानी- एंटी बैक्टीरियल गुणों से भरपूर दालचीनी बॉडी में डायबिटीज़ और कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करने में मदद करते हैं। इसका सेवन करने से ब्ल्ड सेल्स में ग्लूकोज़ के कंजपशन मेंबढ़ोतरी होती है। इसके अलावा दालचीनी इंसुलिन सेंसिटिविटी को बढ़ाकर पेनक्रियाज़ से इंसुलिन को रिलीज करने में मददगार साबित होती है। इसमें पाए जाने वाले नेचुरल एजेंट ब्लड शुगर के स्तर को नियमित करके इंसुलिन के रूप में काम करते हैं। इस अद्भुत ड्रिंक का सेवन करने के लिए एक गिलास पानी में दो चुटकी दालचीनी डालकर कुछ देर उबालें। जब पानी आधा रह जाए, तो उसे बंद कर दें।

2/5

करेले का जूस- कसैला स्वद लिए हुए करेले का रस शरीर के लिए गुणकारी है। इसे नियमित तौर पर पीने से ब्लड शुगर फैट में तबदील नहीं हो पाती है, जिससे वेटगेन की समस्या से बचा जा सकता है। येलो कैलोरी फूड ग्लूकोज के स्तर को कंट्रोल रखता है। विटामिन ए और विटामिन सी से भरपूर करेले के रस को बनाने के लिए सबसे पहले करेले को छील लें और उसके बीज निकाल लें। अब उसका एक स्मूद पेस्ट बना लें। उसमें आवश्यकतानुसार पानी भी मिलाएं। इस जूस में नींबू और काला नमक मिलाएं और दिन में किसी भी वक्त इसे पी लें।

lemon water se wajan ghatta hai. 3/5

लेमन वॉटर- एंटीऑक्सीडेंटस से भरपूर नींबू का पानी विटामिन सी से भरपूर होता है। इससे शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ जाती है। इसके अलावा नींबू के रस में लो कैलोरी और लो कार्ब्स होतेहै, जो वेटलॉस में आपकी मदद करते हैं। इसे नियमित तौर पर पीने से श्ुगर लेवल नियंत्रित हो जाता है। दो चम्मच नींबू के रस को एक गिलास पानी में मिलाएं। इसकी पोषकता और स्वाद को बढ़ाने इसमें एक चुटकी काला नमक और एक चुटकी काली मिर्च डालें। रोज़ाना इसे खाली पेट पीएं। इससे शुगर लेवल बढ़ने की समसया हल हो जाएगी।

neem juice 4/5

नीम का रस- नीम में एंटीऑसीडेंट, एंटी बैक्टीरियल और एंटी इंफ्लामेटरी प्रापर्टीज पाई जाती है। जो शरीर को कई समस्याओं से बचाता है। एनसीबीआई के मुताबिक नीम में मौजूद प्रापर्टीज़ ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल करती है। इसका रस शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है और पाचन तंत्र को हेल्दी रखता है। इसे बनाने के लिए 5 से 6 नीम की पत्तियों को लेकर धो लें। अब उन्हें टुकड़ों में काटकर पानी में डालें और कुछ देर उबलने दें। जब पानी की मात्रा कम होने लगे और रंग बदलने लगे, तो उसमें एक चुटकी दालचीनी पाउडर डालकर पी लें।

coconut water ke fayde 5/5

नारियल पानी में विटामिन और मिनरल प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं