डायबिटीज है तो मिठास से दूरी क्यों, इन रसीले फलों को करें आहार में शामिल

Published on:15 July 2021, 18:48pm IST
मीठा सबकी पहली पसंद है! मगर डायबिटीज के मरीजों के लिए यह एक बड़ी समस्या है। ऐसे में हम लाएं हैं आपके लिए कुछ मौसमी फल, जो न सिर्फ आपकी शुगर क्रेविंग को दूर करेंगे बल्कि डायबिटीज भी नियंत्रित रखेंगे!
डायबिटीज है तो मिठास से दूरी क्यों, इन रसीले फलों को करें आहार में शामिल 1/8

डायबिटीज है तो मिठास से दूरी क्यों, इन रसीले फलों को करें आहार में शामिल 2/8

नाशपाती : नाशपाती की उच्च फाइबर सामग्री और कम ग्लाइसेमिक इंडेक्स मधुमेह रोगियों के लिए सहायक होती है। एक मध्यम आकार की नाशपाती में लगभग 6 ग्राम फाइबर होता है। फाइबर रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने और कोलेस्ट्रॉल के स्तर में सुधार करने में मदद करता है। फाइबर आपको अधिक समय तक भरा रखता है और आपको बहुत अधिक कैलोरी खाने से रोकता है। जो वजन घटाने में भी योगदान देता है।... अधिक पढ़ें

डायबिटीज है तो मिठास से दूरी क्यों, इन रसीले फलों को करें आहार में शामिल 3/8

चेरी : मानसून में आपको हर जगह लाल - लाल चेरी देखने को मिल जाएंगी। चेरी मधुमेह रोगियों के लिए फायदेमंद है क्योंकि ये खराब कोलेस्ट्रॉल को कम करने में मदद करती हैं। ये उच्च रक्तचाप और यूरिक एसिड के स्तर को कम करने में मदद करती हैं। मार्च 2018 में न्यूट्रीएंट्स नमक एक जर्नल में प्रकाशित शोध के अनुसार चेरी, हृदय रोग, कैंसर और अन्य बीमारियों से लड़ने में मदद कर सकती है।... अधिक पढ़ें

डायबिटीज है तो मिठास से दूरी क्यों, इन रसीले फलों को करें आहार में शामिल 4/8

खुबानी : आड़ू या खुबानी जिसे अंग्रेजी में हम पीच के नाम से जानते हैं, आपकी डायबिटीज को नियंत्रित करने के लिए एक बेहतरीन फल है। यूएसडीए के अनुसार एक खुबानी में सिर्फ 17 कैलोरी और 4 ग्राम कार्बोहाइड्रेट होते हैं। ये फल फाइबर से भरपूर है और इसका कम ग्लाइसेमिक इंडेक्स मधुमेह रोगियों के सेवन के लिए इसे सुरक्षित बनाता है। चार ताजा खुबानी आपकी दैनिक विटामिन A आवश्यकता के 134 माइक्रोग्राम प्रदान करते हैं।... अधिक पढ़ें

डायबिटीज है तो मिठास से दूरी क्यों, इन रसीले फलों को करें आहार में शामिल 5/8

आलूबुखारा : प्लम यानी आलूबुखारा फाइबर, कॉपर, पोटेशियम, विटामिन C और K का एक उत्कृष्ट स्रोत हैं। नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इनफार्मेशन के अनुसार आलूबुखारा के सेवन से मधुमेह को न ियंत्रित किया जा सकता है क्योंकि इसमें फाइबर की मात्रा अधिक होती है। इसके अलावा, आलूबुखारा आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करता है, आयरन के स्तर को बनाए रखता है और कब्ज को ठीक करता है।... अधिक पढ़ें

डायबिटीज है तो मिठास से दूरी क्यों, इन रसीले फलों को करें आहार में शामिल 6/8

सेब : सेब मधुमेह रोगियों के लिए फायदेमंद साबित हो सकते हैं क्योंकि इनमें फाइबर की अच्छी मात्रा होती है। अमेरिकी कृषि विभाग (यूएसडीए) के अनुसार, एक मध्यम आकार के सेब में 95 कैलोरी औ र 25 ग्राम कार्ब्स होते हैं। ये एंटीऑक्सिडेंट से भरपूर होने के कारण डायबिटीज को नियंत्रित रखने में आपकी मदद करेंगे। हार्वर्ड टी.एच.सार्वजनिक स्वास्थ्य केंद्र के अनुसार, सेब का छिलका भी डायबिटीज में फायदेमंद है।... अधिक पढ़ें

डायबिटीज है तो मिठास से दूरी क्यों, इन रसीले फलों को करें आहार में शामिल 7/8

केला : केले में कार्ब्स की मात्रा अधिक होती है। कार्ब्स से भरपूर खाद्य पदार्थ रक्त शर्करा के स्तर में तेजी से वृद्धि करने के लिए जाने जाते हैं। एक मध्यम आकार के केले में 14 ग्राम च ीनी और 6 ग्राम स्टार्च होता है। लेकिन केला फाइबर से भी भरपूर होता है। केले का जीआई स्कोर कम होता है, और यह फल मधुमेह रोगियों के लिए एक सबसे पौष्टिक फल है।... अधिक पढ़ें

डायबिटीज है तो मिठास से दूरी क्यों, इन रसीले फलों को करें आहार में शामिल 8/8

अनार : अनार एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होता है। अनार में ग्रीन टी और रेड वाइन के लगभग तीन गुना एंटीऑक्सीडेंट होते हैं। ये एंटीऑक्सिडेंट मुक्त कणों और मधुमेह जैसी पुरानी बीमारियों से हो ने वाले नुकसान से लड़ने में मदद करते हैं। विशेषज्ञों ने दावा किया है कि अनार के बीज इंसुलिन संवेदनशीलता में सुधार करने में मदद कर सकते हैं और इस प्रकार, मधुमेह रोगियों के लिए फायदेमंद होते हैं।... अधिक पढ़ें