शीत लहर के मौसम में ये 5 तरह की हॉट मिल्क रेसिपीज रखेंगी आपको अंदर से गर्म

Updated on:21 December 2022, 05:52pm IST

सर्दी के मौसम में खुद को स्वस्थ रखने के लिए गर्म तासीर वाले दूध ज़रूर पिएं। ताकि आपका इम्यून सिस्टम मज़बूत हो सके और शरीर में गर्माहट बनी रहे। आइए जानते हैं हेड ऑफ नुट्रिशन और डाइटीटिक्स डॉ अदिति शर्मा से गर्म तासीर वाले दूध के फायदे।

1/5

केसर वाला दूध - केसर में भरपूर मात्रा में एंटी आक्सिडेंट्स पाए जाते हैं, जो शरीर में इम्यूनिटी बूस्ट करने का काम करते हैं। इसके अलावा केसर की पांच से छ तार दूध में मिलाकर पीने से अस्थमा और सांस सबंधी बीमारियों से राहत मिलती है। साथ ही केसर के फलेवर से दूध के स्वाद में भी बदलाव आता है। केसर के दूध से शरीर को गर्माहट मिलती है, जिससे हमारा शरीर सर्दी और खांसी से भी दूर रहता है।

2/5

खजूर वाला दूध - सर्दी में खजूर खाना लोग खूब पसंद करते है। अगर आप दूध में कटी हुई खजूर डालकर उसे कुछ देर तक पकाते हैं, तो ये हमारे शरीर को कैल्शियम, मैग्नीशियम, फास्फोरस और जिंक समेत विटामिनस भी उपलब्ध कराती है। खजूर का सेवन हृदय रोग और हड्डियों से जुडे रोगों से बचाव के साथ यौन स्वास्थ्य को भी बेहतर बनाने का काम करती है। खजूर वाले दूध से प्रजन्न क्षमता बढ़ती है। साथ ही पाचनतंत्र को मज़बूत बनाने का काम करता है।

3/5

छुआरे वाला दूध - छुआरे की तासीर गर्म होती है और सर्दियों में दूध में उबालकर छुआरे खाने से शरीर में गर्माहट आती है और स्वास्थ्य उचित बना रहता है। छुआरे वाला तैयार करने के लिए सबसे पहले दो से तीन छुआरे भिगोकर रख दें। उसके बाद उसके बीज निकालकर उसे गर्म दूध में उबाल लें। दूध में कुछ देर पकने के बाद छुआरों को दूध पीने के बाद खा लें। एंटी आक्सिडेंटस से भरपूर छुआरे मासपेशियें और हड्डियों को मज़बूती प्रदान करने का काम करते हैं।

4/5

बादाम का दूध - चाहे आप सूखे बादाम खाएं यां भिगोकर दोनों प्राकर से ये हमारी शारीरिक और मानसिक विकास में अहम भूमिका अदा करता है। गर्भवती महिलाओं के लिए भी बादाम पोषण का भण्डार है। इसका सेवन करने से ब्लड क्लॉटिंग का खतरा कम हो जाता है। इसके अलावा ये लो कैलोरी मिल्क कहा जाता है। बादाम मिल्क वेटलॉस में कारगर उपाय है। इनमें मौजूद फैटी एसिड बालों की ग्रोथ को बढ़ाता है और बालों के रूखेपन को कम करके उन्हें स्वस्थ रखने का काम करता है।

5/5

हल्दी वाला दूध - एंटी कैंसरस और एंटी आक्सिडेंटस गुणों से भरपूर कच्ची हल्दी पीले रंग की होती है, जिसमें करक्‍यूमिन पाया जाता है, जो हमारे शरीर को बहुत सी बीमारियों से बचाती है। दूधमें हल्दी मिलाकर पीले से शरीर को न सिर्फ तंदरूस्ती मिलती है बल्कि शरीर का इम्यून सिस्टम भी मज़बूत होता है। हल्दी में एंटी.इंफ्लामेटरी गुण पाए जाते हैं, जो मासपेशियों में अकड़न यां हड्डियों में होने वाले दर्द से आराम दिलाता है। हल्दी वाले दूध की खास बात ये है कि इसमें मौजूद पोष्ण तत्व मानसिक स्वास्थ्य में भी मददगार साबित होते हैं। इसके सेवन से अल्‍जाइमर के खतरे से भी बचा जा सकता है।