मौसम बदल रहा है, अब आपको कम कर देना चाहिए इन गर्म तासीर वाले चीजों का सेवन

Published on: 21 February 2022, 08:00 am IST

जैसा कि सर्दियों का मौसम अब खत्म होने वाला है, तो अपनी डाइट में भी बदलाव करना जरूरी है। इसलिए जानिए कुछ विशेष चीजों से परहेज करने का कारण।

Ab in cheezo ka sewan band kare
अब इन खाद्य पदार्थों का सेवन बंद करें। चित्र:शटरस्टॉक

बदलते मौसम के साथ दिनचर्या में बदलाव करना आवश्यक है। इसमें आपका डाइट सबसे पहले आता है। हार्वर्ड के शोधकर्ताओं के एक हालिया अध्ययन में पाया गया कि अपने मेनू में सूक्ष्म परिवर्तन करने से समय से पहले मौत का खतरा काफी कम हो जाता है। इसलिए अब विंटर डाइट का पालन करना बंद किया जा सकता है। मौसम में ठंडक कम होने की वजह से गर्म तासीर की चीजों का सेवन करना हानिकारक हो सकता है। यह फायदे से ज्यादा नुकसान का कारण बन सकता है। क्या आपको कुछ ऐसे विशेष चीजों के बारे में जानना है जिनका सेवन अब बंद कर देना चाहिए? तो लेडीज, हम बता रहें हैं कुछ ऐसे ही नाम।

इन गर्म तासीर वाले खाद्य पदार्थों का सेवन बंद करें

1. कच्ची हल्दी (Raw Turmeric) 

इस मसाले को कभी-कभी भारतीय केसर या सुनहरा मसाला कहा जाता है, सर्दियों में आपक बेस्ट फ्रेंड साबित होता है। लेकिन यही हल्दी का उपयोग अगर आप गर्मी में करते हैं, तो स्वास्थ्य नुकसान का सामना करना पड़ सकता है।

हल्दी में करक्यूमिन सक्रिय तत्व है, और इसमें शक्तिशाली माइक्रोबियल गुण हैं। आयुर्वेदिक चिकित्सा विभिन्न प्रकार की स्वास्थ्य स्थितियों के लिए हल्दी की सिफारिश करती है। इनमें पुराने दर्द और सूजन शामिल हैं। पश्चिमी चिकित्सा ने हल्दी को पेन किलर और उपचार एजेंट के रूप में अध्ययन करना शुरू कर दिया है।

Haldi aapke paacha ko prabhavit kar sakti hai
हल्दी आपके पाचन को प्रभावित कर सकती है। चित्र-शटरस्टॉक

लेकिन गर्म प्रवृत्ति का होने के कारण गर्मियों में हल्दी का वही एजेंट जलन पैदा कर सकते हैं। कैंसर के इलाज के लिए हल्दी के उपयोग को देखते हुए अध्ययन में कुछ प्रतिभागियों को छोड़ना पड़ा क्योंकि उनका पाचन इतना नकारात्मक रूप से प्रभावित हुआ था। हल्दी पेट को अधिक गैस्ट्रिक एसिड बनाने के लिए उत्तेजित करती है।

किसी भी स्वास्थ्य स्थिति का इलाज करने के लिए कच्ची हल्दी का उपयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से बात करें।

2. अदरक (Ginger) 

रक्तस्राव विकार या मधुमेह से पीड़ित लोगों को गर्मी के दिनों में अदरक का सेवन करने से बचना चाहिए। जैसे ही यह शरीर की गर्मी को चालू करता है, अदरक इन स्थितियों को और खराब कर सकता है। इसलिए, यदि आपके पास कोई अंतर्निहित स्थितियां हैं तो अपने आहार में अदरक को अपनाने से पहले हमेशा डॉक्टर से परामर्श लें।

अगर अधिक मात्रा में सेवन किया जाए तो अदरक दस्त का कारण बन सकता है। सोच रहें हैं क्यों? विशेषज्ञों के अनुसार, यह आंतों के माध्यम से भोजन और मल के मार्ग को तेज करता है और अशांति का कारण बनता है। इससे अक्सर बेचैनी और कमजोरी भी होती है। नेशनल सेंटर फॉर कॉम्प्लिमेंट्री एंड इंटीग्रेटिव हेल्थ के अनुसार, अदरक के गैस और सूजन जैसे दुष्प्रभाव हो सकते हैं। यह साबित हो चुका है कि अदरक ऊपरी पाचन तंत्र को प्रभावित करता है जिससे ऊपरी पाचन गैस और कुछ मामलों में सूजन हो जाती है।

3. गुड़ (Jaggery)

सभी आवश्यक पोषक तत्वों से भरपूर गुड़ कई लोगों का पसंदीदा होता है। यह आपके चयापचय को बढ़ावा देता है और ऊर्जा का एक बड़ा स्रोत है। आयुर्वेद में, चिंता, माइग्रेन, पाचन और थकान सहित स्वास्थ्य समस्याओं की एक विस्तृत श्रृंखला का इलाज करने में मदद करने के लिए गुड़ का उपयोग सदियों से किया जाता रहा है।

Garmi mein gud khana hai hanikarak
गुड़ समग्र स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद है, लेकिन गर्मियों में सेवन पड़ सकता है भारी। चित्र: शटरस्‍टॉक

अगर गर्मियों में ताजा बने गुड़ का सेवन किया जाए तो यह दस्त का कारण बन सकता है। कुछ लोगों ने तो ताजा बने गुड़ के सेवन से कब्ज की शिकायत भी की है। गर्मियों में इसका सेवन करने से नाक से खून बहने की समस्या हो सकती है। इसलिए सलाह दी जाती है कि गर्मी के दिनों में ज्यादा गुड़ न खाएं।

4. लौंग (Cloves)

आयुर्वेद में लौंग को औषधि के रूप में भी इस्तेमाल किया जाता है। आपको बता दें कि लौंग में एंटी-ऑक्सीडेंट, एंटी-माइक्रोबियल, एंटी-वायरल और एनाल्जेसिक विटामिन, मिनरल्स और अन्य पौष्टिक तत्व पाए जाते हैं। यह शरीर को कई बीमारियों से दूर रखने में मदद कर सकते हैं। लेकिन गर्मियों में लौंग का ज्यादा सेवन करने से खून पतला हो सकता है। आपको बता दें कि जिन लोगों को ब्लीडिंग डिसऑर्डर जैसे हीमोफीलिया की बीमारी है, उन्हें लौंग का ज्यादा सेवन नहीं करना चाहिए। इससे उनकी सेहत को नुकसान पहुंच सकता है.

5. काली मिर्च (Black Pepper)

भोजन और खाना पकाने में उपयोग की जाने वाली सामान्य मात्रा में काली मिर्च मानव उपभोग के लिए सुरक्षित मानी जाती है। हालांकि, गर्मी के मौसम में बड़ी मात्रा में काली मिर्च खाने या उच्च खुराक लेने से प्रतिकूल दुष्प्रभाव हो सकते हैं, जैसे गले या पेट में जलन।

यह भी पढ़ें: अपनी थाली में शामिल करें चटनी, पापड़ और रायता, स्वाद के साथ सेहत के लिए भी पाएं ढेर सारे लाभ

अदिति तिवारी अदिति तिवारी

फिटनेस, फूड्स, किताबें, घुमक्कड़ी, पॉज़िटिविटी...  और जीने को क्या चाहिए !