मम्मी की रसोई की ये 5 हर्ब्स दिला सकती हैं जोड़ों की सूजन और दर्द से छुटकारा

यदि आपके एजिंग पेरेंट्स घुटनों में दर्द और सूजन से परेशान हैं, तो इन 5 जड़ी-बूटियों को उनके आहार में शामिल करें। इनमें मौजूद एंटी-इंफ्लेमेटरी इफ़ेक्ट दर्द और सूजन से राहत पाने में मददगार हो सकते हैं।

knee pain
एजिंग पेरेंट्स घुटनों में दर्द और सूजन से परेशान हैं, तो इन 5 जड़ी-बूटियों को उनके आहार में शामिल करें। चित्र शटरस्टॉक।
टीम हेल्‍थ शॉट्स Published on: 17 September 2022, 10:43 am IST
  • 148

इन्फ्लेमेशन संक्रमण या चोट से लड़ने के लिए शरीर का एक प्रभावी मैकेनिज्म है। लेकिन कभी-कभी, यह तंत्र ट्रैक से बाहर हो जाता है और आपके शरीर की कोशिकाओं को नुकसान पहुंचाना शुरू कर देता है, जिससे गठिया जैसे ऑटोइम्यून डिसऑर्डर विकसित होने का खतरा बढ़ जाता है। ऐसे में एक उचित एंटी इन्फ्लेमेटरी डाइट आपकी मदद कर सकती है। इसमें एंटी इन्फ्लेमेटरी हर्ब्स से बेहतर भला और क्या हो सकता है? मेरी दादी को जब घुटनों या जोड़ाें में दर्द होता है, तो मम्मी अकसर अपनी रसोई में रखी सामग्रियों का ही इस्तेमाल (How to reduce joint and knee pain) करती हैं। वे मानती हैं कि औषधीय गुणों वाली ये हर्ब्स हानिरहित हैं।

हेल्थशॉट्स ने घुटने की सूजन और दर्द के लिए अच्छी जड़ी-बूटियों का पता लगाने के लिए पीडी हिंदुजा हॉस्पिटल और एमआरसी, माहिम, मुंबई के हेड ऑफ डिपार्टमेंट – डाइटरी सर्विसेज, स्वीडल ट्रिनिडाडे, से संपर्क किया।

जड़ी-बूटियों के बारे में क्या कहता है विज्ञान

जोड़ों और घुटनों की सूजन या दर्द जैसी समस्याओं को एंटी इन्फ्लेमेटरी जड़ी बूटियों के सेवन से कम किया जा सकता है। वहीं यह गठिया के खतरे को भी कम करने में मदद करता है।

त्रिनिदादे कहते हैं, “घुटने का दर्द किसी भी उम्र में अलग-अलग कारणों से आपको अपनी चपेट में ले सकता है। इन कारणों में शामिल है गलत मुद्रा में बैठना, अधिक काम करना, तनाव, शरीर का अधिक वजन होना या गठिया की समस्या।”

उन्होंने आगे कहा, “इसका उपचार पूरी तरह दर्द के कारण पर निर्भर करता है। जड़ी-बूटियां भले ही पूरी तरह दर्द से निजात पाने में आक्रामक मदद न दें, लेकिन लंबे समय तक इसका इस्तेमाल दर्द और सूजन को कम करने में फायदेमंद हो सकता है।

 turmeric
इन कारणों में शामिल है गलत मुद्रा में बैठना, अधिक काम करना, तनाव, शरीर का अधिक वजन होना या गठिया की समस्या। चित्र शटरस्टॉक।

अब जानें एंटी इन्फ्लेमेटरी गुणों से भरपूर जड़ी बूटियों के नाम

1. हल्दी

हल्दी एक जड़ी बूटी है जिसमें करक्यूमिन पाई जाती है, जो न केवल आपके फूड्स को ग्लो देता है, बल्कि इसमें मौजूद एंटी-इंफ्लेमेटरी प्रॉपर्टी घुटने के दर्द और सूजन को कम करने में मदद करते हैं।

इतना ही नहीं इसमें मौजूद एंटीसेप्टिक, एंटीबैक्टीरियल, एंटी इन्फ्लेमेटरी और एंटी एलर्जीक इफेक्ट इसकी गुणवत्ता को और ज्यादा बढ़ा देते हैं। इसलिए इस हर्ब को वर्षों से इस्तेमाल किया जा रहा है। वहीं हल्दी त्वचा, लिवर और पाचन तंत्र के लिए भी लाभदायक होते हैं। इन्फ्लेमेशन और सूजन की स्थिति से बचने के लिए इसे अपने नियमित आहार में शामिल करें।

2. अदरक

आपके तनावपूर्ण दिन के बाद अदरक की चाय का एक गर्म प्याला आपको रिफ्रेश कर देता है। वहीं त्रिनिदादे कहते हैं, “अदरक में मौजूद एंटी इन्फ्लेमेटरी इफ़ेक्ट जोड़ों में हुए मामूली दर्द और सूजन को प्रभावी ढंग से दूर करने में मदद करता है, और आपको तरोताजा रखता है।”

स्वास्थ्य लाभों और चिकित्सीय क्षमताओं के कारण, पारंपरिक रूप से इस जड़ी बूटी का इस्तेमाल आयुर्वेद और होम्योपैथी जैसे औषधीय विज्ञानों में सालों से होता चला आ रहा है। इसकी शानदार एंटीऑक्सिडेंट और एंटी इन्फ्लेमेटरी प्रॉपर्टी आपकी कई सामान्य स्वास्थ्य समस्याओं मैं फायदेमंद हो सकती हैं।

3. युकलिप्टस

यदि सूजन की वजह से आपके घुटनों में दर्द रहता है तो ऐसे में युकलिप्टुस का तेल आपकी मदद कर सकता है। इसे सीधे अपनी त्वचा पर लगये और मालिश करें। यह दर्द से ध्यान हटाने के लिए आपके शरीर को गर्म और ठंडा सेंसेशन देता है। त्रिनिदाद कहते हैं, “अरोमाथेरेपी में टैनिन होते हैं, युकलिप्टुस ऑयल की बूंदों को पानी मे मिलाकर प्रभावित क्षेत्रों को भिगोने से हल्के दर्द / सूजन से राहत मिल सकती है।”

वहीं रुमेटॉइड गठिया और पुराने ऑस्टियोआर्थराइटिस से पीड़ित व्यक्ति दर्द से राहत पाने के लिए मेडिकल स्टोर्स में मौजूद युकलिप्टुस ऑयल से युक्त प्रोडक्ट का इस्तेमाल करते हैं।

Cinnamon
घुटनो के दर्द के लिए इस्तेमाल कीजिए दालचीनी, चित्र:शटरस्टॉक

4. दालचीनी

दालचीनी भारतीय व्यंजनों का एक अभिन्न अंग है और सालो से आयुर्वेद में इसका उपयोग हृदय की स्थिति और उच्च रक्तचाप को संतुलित रखने में होता चला आ रहा है। वहीं दालचीनी में एंटी-इंफ्लेमेटरी, एंटीऑक्सिडेंट, एंटी-इंफ्लेमेटरी, एंटीडायबिटिक और एंटीबैक्टीरियल प्रॉपर्टी पाई जाती हैं, यह सभी प्रॉपर्टी आपके घुटनों की सेहत को बनाये रखने के लिए काफी जरूरी होती हैं।

आप इसे दही, पनीर, या अन्य खाद्य पदार्थों में मिला कर अपने आहार में शामिल के सकती हैं। इसके साथ ही दालचीनी की चाय और इसे व्यंजनों में मसाले के तौर पर इस्तेमाल करना भी एक बेहतर विकल्प रहेगा।

5. एलोवेरा

एलोवेरा जेल में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण पाए जाते हैं। इसलिए इसका इस्तेमाल सूजन से ग्रसित जगह पर किया जा सकता है। यह केवल घुटनों के इलाज में ही नहीं बल्कि डायबिटीज और अस्थमा जैसी समस्याओं का भी एक प्रभावी घरेलू उपचार होता है।

इंडियन जर्नल ऑफ डर्मेटोलॉजी के अनुसार, एलोवेरा विटामिन ए, विटामिन सी, विटामिन ई और विटामिन बी 12 का एक अच्छा स्रोत है। ऐसे में इसका नियमित इस्तेमाल आपके लिए कई रूपों में फायदेमंद हो सकता है। clear mucus from throat

यह भी याद रखें

ऊपर बताए गए सभी जड़ी बूटियों में एंटी इन्फ्लेमेटरी प्रॉपर्टी पाई जाती है। जो जोड़ों में हुए हल्के सूजन और दर्द को नियंत्रित रखने में मदद करती है। हालांकि, ड्रग थेरेपी को इन जड़ी बूटियों से रिप्लेस नहीं किया जा सकता, क्योंकि समस्या बढ़ने पर ड्रग थेरेपी बहुत जरूरी हो जाती है। इसके साथ ही किसी भी प्रकार की जड़ी बूटी को इस्तेमाल करने से पहले एक्सपोर्ट की राय बहुत जरूरी है।

यह भी पढ़ें :  ड्राई स्कैल्प से लेकर हेयर ग्रोथ तक के लिए कैस्टर ऑयल है फायदेमंद, चलिए जानें इस्तेमाल के तरीके

  • 148
लेखक के बारे में
टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।

हेल्थशॉट्स कम्युनिटी

हेल्थशॉट्स कम्युनिटी का हिस्सा बनें

ज्वॉइन करें
nextstory