स्पेशल बच्चों को चाहिए स्पेशल आहार, यहां हैं ऑटिज़्म के लिए पोषण गाइड

Published on: 15 November 2021, 21:30 pm IST

ऑटिज्म जैसे विकार के प्रबंधन में पोषण की भूमिका, आपके विचार से कहीं अधिक महत्वपूर्ण है। हम बता रहे हैं इससे जुड़ी सभी ज़रूरी बातें!

Bachcho ke liye healthy diet
सुनिश्चित करें कि आपका बच्चा हेल्दी डाइट का पालन करता है। चित्र:शटरस्टॉक

ऑटिज्म एक न्यूरो-बायोलॉजिकल और डेवलपमेंट विकार है, जो 160 बच्चों में से 1 को प्रभावित करता है। इसमें बच्चे को सामाजिक संपर्क, मौखिक और अशाब्दिक संचार में कठिनाइयां होती हैं। ऑटिज्म से पीड़ित बच्चों में दोहरा व्यवहार, बदली हुई दिनचर्या को अपनाने में कठिनाई, विभिन्न कौशल सीखने में असमर्थता, चिंता, परिवर्तनों के प्रति असामान्य प्रतिक्रिया और नींद विकार देखा जा सकता है। यह बच्चे के शैक्षिक प्रदर्शन को भी प्रभावित करता है।

ऑटिज्म का बचपन में ही पता लगाया जा सकता है, लेकिन इस स्थिति को अक्सर इलाज के बिना ही छोड़ दिया जाता है।

समग्र स्वास्थ्य को कैसे प्रभावित करता है ऑटिज्म?

यह एक बच्चे के स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव डालता है। खासकर अगर वे अनहेल्दी खाने की आदतों का पालन करते हैं। जंक फूड की ओर झुकाव या ऊर्जा से भरपूर भोजन और शर्करा युक्त चीजों के अधिक सेवन से वजन बढ़ता है, और आगे चलकर चयापचय संबंधी विकार होते हैं।

बच्‍चों में ऑटिज्‍म के लिए आसपास का माहौल भी जिम्‍मेदार होता है। चित्र: शटरस्‍टॉक

ऑटिज्म से पीड़ित बच्चे अपने व्यवहार में बदलाव और भोजन संबंधी समस्याओं के कारण पोषक तत्वों की कमी से पीड़ित होते हैं। खराब पोषण बाद के वर्षों में विभिन्न चयापचय रोगों के जोखिम का कारण बनता है।

इन बच्चों में कैल्शियम और प्रोटीन की कमी आसानी से देखी जा सकती है, जो आगे चलकर उनके संज्ञानात्मक विकास और शारीरिक विकास को प्रभावित करती है। ऑटिज्म से पीड़ित बच्चों को पोषण प्रदान करने के लिए एक उचित भोजन योजना महत्वपूर्ण है।

ऑटिज्म में पोषण का महत्व

आहार और पोषण सभी के जीवन में और प्रत्येक स्थिति में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। ऑटिस्टिक बच्चे को खाना खिलाना एक विशिष्ट कार्य है, यही वजह है कि उन्हें कई पोषण संबंधी कमियों के विकसित होने का खतरा होता है। ऑटिज्म से पीड़ित बच्चे आमतौर पर खाने के विकार, फूड इंटोलरेंस, फूड एलर्जी और पोषक तत्वों की कमी से पीड़ित होते हैं।

कोई एएसडी विशिष्ट आहार नहीं है, लेकिन शोध के आधार पर, कुछ मामलों में ग्लूटेन (गेहूं प्रोटीन) और कैसिइन (दूध प्रोटीन) जैसे कुछ प्रोटीन का सेवन बंद करना सही होता है।

कुछ बच्चे अपनी गलत खान-पान की आदतों के कारण जीईआरडी (गैस्ट्रोएसोफेगल रिफ्लक्स डिजीज), पेट में गड़बड़ी, सूजन, पुराने दस्त, गैस्ट्रिक असुविधा आदि का भी अनुभव करते हैं।

बच्चे के पोषण स्तर में सुधार के लिए उचित आहार को अपनाना आवश्यक है। कई अध्ययन ऑटिज्म के रोगियों के आहार में ओमेगा 3, प्रोबायोटिक और मल्टीविटामिन को शामिल करने के लाभकारी प्रभाव को भी दर्शाते हैं।

पोषण की भूमिका, आपके विचार से कहीं अधिक महत्वपूर्ण है। चित्र : शटरस्टॉक

ऑटिज्म और दौरे से पीड़ित बच्चों को कीटोजेनिक आहार (वसा, मध्यम प्रोटीन और कम कार्ब्स में उच्च आहार) देकर पोषण का इलाज किया जा सकता है। कीटो डाइट के कुछ साइड इफेक्ट भी होते हैं, इसलिए इसे किसी योग्य डाइटिशियन की देखरेख में ही फॉलो करना चाहिए।

माता-पिता के लिए कुछ ज़रूरी सुझाव:

ऑटिस्टिक लोगों में एक ही दिनचर्या का पालन करने जैसी विशेष विशेषताएं होती हैं, जो एक अच्छी आदत है। इसलिए शुरुआत से ही उनकी दिनचर्या को स्वस्थ बनाने की कोशिश करें। अपने बच्चे के लिए एक कार्यक्रम निर्धारित करें – उदाहरण के लिए, भोजन, पढ़ाई और सोने का समय निर्धारित करें।

अपने बच्चे की फूड एलर्जी जानने के लिए, कैसिइन (दूध प्रोटीन) और ग्लूटेन (गेहूं प्रोटीन) को उनके आहार नें शामिल न करें। कैसिइन फ्री दूध जैसे बादाम का दूध और सोया दूध आदि का उपयोग किया जा सकता है। इसी तरह, ग्लूटेन खाद्य पदार्थों को ज्वार, रागी, ऐमारैंथ और बाजरा की किस्मों से बदलें।

इसके बाद, बच्चे द्वारा दिखाए गए लक्षणों और व्यवहार का निरीक्षण करें। इन सभी लक्षणों को नोट करने के लिए एक डायरी रखें। यह रिकॉर्ड आपके डॉक्टर और आहार विशेषज्ञ को भी मदद करेगा। यदि आपके बच्चे को कोई एलर्जी है, तो उसी के अनुसार एलर्जी का इलाज कर सकते हैं।

इन आहार परिवर्तनों को लागू करना माता-पिता के लिए आसान नहीं हो सकता है, लेकिन यह आपके बच्चे के लिए सबसे उपयुक्त भोजन खोजने का सबसे सुरक्षित तरीका है।

यह भी पढ़ें : मेरी मम्मी कहती हैं कि डायबिटीज के रोगियों के लिए सुपरफूड है हरी मेथी

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।