इन 6 फूड्स को इस्तेमाल से पहले पानी में भिगोना है जरूरी, डबल हो जाते हैं पोषक तत्व

इन 6 खाद्य पदार्थों को खाने से पहले कुछ देर भिगो कर रखने से आहार ज्यादा पौष्टिक हो जाता है (Benefits of soaking foods)। क्या वाकई ऐसा है? चलिए जानते हैं कि इस बारे में एक्सपर्ट क्या कहती हैं।
soaking foods
खाने से पहले इन 6 फूड्स को भिगोना बढ़ा देता है पोषक तत्व। चित्र शटरस्टॉक।
अंजलि कुमारी Published: 24 Feb 2023, 06:32 pm IST
  • 123

मेरी मम्मी अकसर फलों, सब्जियों, चावल, ड्राई फ्रूट्स इत्यादि को इस्तेमाल करने से पहले पानी में भिगोना नहीं भूलतीं। छोले, राजमा वगैरह के लिए तो समझ आता है, पर वे दाल, चावल और फलों जैसे सॉफ्ट फूड्स को क्यों भिगोती हैं, ये मेरी समझ से परे हैं। हालांकि मम्मी की तरह दादी भी बचपन से फलों को पानी में भिगोने के कुछ देर बाद ही खाने की सलाह देती रही हैं। असल में उन दोनों का मानना है कि खाने से पहले कुछ देर भिगो कर रखने से आहार ज्यादा पौष्टिक हो जाता है (Benefits of soaking foods)। क्या वाकई ऐसा है? चलिए जानते हैं कि इस बारे में एक्सपर्ट क्या कहती हैं।

मम्मी कहती हैं, कि कुछ ऐसे खाद्य पदार्थ होते हैं, जिन्हें पानी में भिगो देने से उनमें मौजूद पोषक तत्वों की गुणवत्ता बढ़ जाती है। साथ ही वह सेहत के लिए भी अधिक फायदेमंद होते हैं। इतना ही नहीं यह खाद्य पदार्थ आपको पर्याप्त ऊर्जा प्रदान करते हैं और आपकी पाचन क्रिया को भी संतुलित रखते हैं।

हेल्थ शॉट्स ने इस विषय पर हेल्थशेक की फाउंडर और न्यूट्रीशनिस्ट प्रितिका बेदी से बातचीत की। उन्होंने पोषक तत्वों से भरपूर खास खाद्य पदार्थों के नाम सुझाए हैं, जिन्हें भिगो कर लेना सेहत के लिए अधिक फायदेमंद हो सकता है। तो चलिए जानते हैं किस तरह भिगोए हुए ये खाद्य पदार्थ हमारे लिए अधिक फायदेमंद होते हैं (Benefits of soaking foods)।

चावल को भिगो कर खाना होता है फायदेमंद। चित्र:शटरस्टॉक

यह भी पढ़ें : कोला या पैकेज्ड जूस की बजाए होली को बनाएं और भी एनर्जेटिक इन 3 देसी रेसिपीज के साथ

इन 6 खाद्य पदार्थों को भिगोकर खाना होता है अधिक फायदेमंद

1. चावल (rice)

चावल को खाने से पहले भिगोकर छोड़ना बहुत जरूरी है। क्योंकि ऐसा करने से इसमें मौजूद आर्सेनिक का प्रभाव कम हो जाता है, जिसकी वजह से हार्ट डिजीज, डायबिटीज और कैंसर का खतरा नियंत्रित रहता है। आर्सेनिक एक प्रकार का केमिकल है, जो प्राकृतिक रूप से कई प्रकार के मिनरल में मौजूद होता है खास कर सल्फर और मेटल्स पर। साथ ही चावल को भिगोने से यह विटामिंस और मिनरल्स को अच्छे से अवशोषित कर पाता है और अपने न्यूट्रीशनल वैल्यू को बनाए रखता है। वहीं पाचन क्रिया के लिए भी अधिक फायदेमंद होता है।

2. बीज (seeds)

हर प्रकार की सीड्स में एंजाइम अवरोधक मौजूद होता है। ऐसे में यदि बीज को गर्म पानी में भिगोकर छोड़ दिया जाए तो इन अवरोधको को न्यूट्रलाइज किया जा सकता है। इसके साथ ही ऐसा करने से कई प्रकार के फायदेमंद एंजाइम प्रोड्यूस होते हैं, जो सेहत के लिए अधिक फायदेमंद माने जाते हैं। वहीं इस दौरान इन सीड्स में विटामिन और मिनरल्स की मात्रा भी बढ़ जाती है, इसके साथ ही इसमें मौजूद ग्लूटेन और अन्य प्रोटीन जिन्हें पचा पाना मुश्किल होता है, वह टूट जाते हैं और उन्हें आसानी से पचाया जा सकता है।

यह भी पढ़ें : कॉफी की शौकीन हैं, तो इन 7 टिप्स और ट्रिक्स के साथ बनाएं कॉफी को और भी हेल्दी

soaked foods
किशमिश के स्वास्थ्य संबंधी अनेक लाभ हैं। चित्र-शटरस्टॉक।

3. ड्राई फ्रूट्स (dry fruits)

ड्राई फ्रूट्स में फाइबर, पोटेशियम और अन्य कई महत्वपूर्ण पोषक तत्व मौजूद होते हैं, जो एक साथ मिलकर सेहत के लिए कई रूपों में फायदेमंद होते हैं। वहीं इनका सेवन दिल से जुड़ी समस्या से लेकर डायबिटीज की स्थिति में फायदेमंद होता है। ऐसे में इन्हें भिगोकर लेना और भी ज्यादा फायदेमंद हो सकता है।

किशमिश में भरपूर मात्रा में आयरन और एंटीऑक्सीडेंट मौजूद होता है, इन्हें रात भर भिगोने के बाद इसका सेवन करने से इसे पचान काफी आसान हो जाता है साथ ही इनमें मौजूद पोषक तत्वों की गुणवत्ता भी बढ़ जाती है। ड्राई फ्रूट्स को भिगोने से इनकी ऊपरी सतह पर मौजूद सल्फाइड को रिमूव करना भी आसान हो जाता है।

4. खसखस के बीज (poppy seeds)

खसखस का बीज फॉलेट और थाइमिन का एक बेहतरीन स्रोत है। इसमें विटामिन बी की मात्रा पाई जाती है, जो मेटाबॉलिज्म को बूस्ट करने के साथ ही वेट मैनेजमेंट में आपकी मदद करती है। ऐसे में इसे भिगोकर खाने से इनमें मौजूद पोषक तत्व अधिक प्रभावी रूप से फैट कटर की तरह काम करते हैं। यदि कोई व्यक्ति वेट लॉस प्लान कर रहा है, तो उन्हें खसखस के बीज को भिगोकर जरूर खाना चाहिए।

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें
diabetes ko control karein ye ayurvedic herbs
अपनी डाइट में शामिल किया जा सकता है। चित्र:शटरस्टॉक

5. मेथी के बीज (fenugreek seeds)

मेथी के बीच में पर्याप्त मात्रा में फाइबर मौजूद होता है, जिसे आंतों की सेहत के लिए काफी फायदेमंद माना जाता है। वहीं इसका सेवन कॉन्स्टिपेशन की समस्या से निजात पाने का एक प्रभावी उपाय है। ऐसे में मेथी के बीज को पानी में भिगोकर लेने से इसकी गुणवत्ता और ज्यादा निखर कर बाहर आती है। इतना ही नहीं रोज सुबह इसका सेवन करें यह पाचन क्रिया को संतुलित रखता है और डायबिटीज से पीड़ित मरीजों में ब्लड शुगर लेवल को मैनेज रखने में मदद करता है।

6. फल (fruits)

सभी प्रकार के फल और सब्जियों में थर्मोजेनिक प्रॉपर्टी पाई जाती है जो शरीर को नकारात्मक रूप में प्रभावित करती हैं। इसलिए किसी भी फल को खाने से पहले उसे पानी में भिगोकर कुछ देर के लिए छोड़ना जरूरी है। यह फल की ऊपरी सतह पर जमे केमिकल और बैक्टीरिया को बाहर निकालता है। भिगोए हुए फल का सेवन करने से पाचन क्रिया संतुलित रहती है और त्वचा से जुड़ी समस्याओं से लेकर सिरदर्द और डायरिया का खतरा नहीं होता।

यह भी पढ़ें : लौट आया है सहजन का मौसम, डायबिटीज और हाई बीपी से बचने के लिए ट्राई करें सहजन सूप की ये हेल्दी रेसिपी

  • 123
लेखक के बारे में

इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट अंजलि फूड, ब्यूटी, हेल्थ और वेलनेस पर लगातार लिख रहीं हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख