ताजे गुड़ से भी ज्यादा फायदेमंद है पुराना गुड़, यहां जानिए गुड़ के बारे में कुछ जरूरी बातें

पौष्टिक गुणों से भरपूर गुड़ न केवल खाने में स्वादिष्ट होता है बल्कि इसमें पाए जाने वाले औषधीय तत्व कई रोगों से हमारी रक्षा भी करते हैं। आइए जानते हैं गुड़ के फायदे।

gud dilaata hai sardi jukam se raahat
गुड़ ऊर्जा का एक प्रमुख स्त्रोत है, सर्दियों में इसके सेवन से जुकाम से राहत मिलती है। चित्र : शटरस्टॉक
ज्योति सोही Published on: 8 January 2023, 09:30 am IST
  • 141
इस खबर को सुनें

गुड़ एक ऐसा खाद्य पदार्थ, जो आपको हर घर की रसोईघर में ज़रूर मिलेगा। बुजुर्गों की खाने की थाली में गुड़ की एक खास जगह होती थी। जिसे वो हमेशा खाने के बाद खाया करते थे। उत्तर भारत (North India) से लेकर दक्षिण भारत तक किसी न किसी प्रकार से व्यंजनों में गुड़ का इस्तेमाल होता आया है। सर्दियों में गुड़ (Jaggery) की खपत और भी बढ़ जाती है। इस लोकप्रिय स्वीटनर को लोग इन दिनों कई फॉर्मस (Forms) में खाने लगे हैं और कई चीजों को मिलाकर बनाने भी लगे हैं। सेहत के लिए लाभाकारी माने जाने वाले गुड़ खुद में कई स्वास्थ्य लाभ (Health benefits of jaggery) समेटे हुए है।

भारतीय घरों में गुड़ का अत्यधिक महत्व है क्योंकि यह मोटापा, अपच, एसिडिटी और कम चयापचय गतिविधि जैसी आधुनिक समस्याओं के खिलाफ एक उपयोगी उपचार के रूप में कार्य करता है। गुड़ के फायदों से लेकर इससे जुड़ी तमाम तरह की जानकारी हम तक पहुंचा रहे हैं, वेदा क्योर के आयुर्वेद एक्सपर्ट विकास चावला।

gud ke side effects
सेहत के लिए लाभाकारी माने जाने वाले गुड़ खुद में कई स्वास्थ्य लाभ समेटे हुए है। चित्र-शटरस्टॉक

एक्सपर्टस की क्या है राय

इस बारे में एक्सपर्ट वेदा क्योर के आयुर्वेद एक्सपर्ट विकास चावला का कहना है साफ गुड़ के नियमित सेवन से कफ दोष का बुरा प्रभाव कम होता है। वहीं, पित्त दोष संतुलित रहता है और हमारी बॉडी को डिटॉक्सिफाई करने का भी काम करता है। गुड़ में विटामिन और कई प्रकार के खनिज पाए जाते हैं, जो शरीर को मज़बूती प्रदान करने का काम करते हैं। गुड़ ऊर्जा का एक प्रमुख स्त्रोत है, जो सर्दियों में इसके सेवन से सर्दी जुकाम से राहत मिलती है।

पुराना गुड़ खाना क्यों फायदेमंद है

गुड़ खाने से पहले ध्यान रखें कि वो एक साल पुराना होना चाहिए। पोटेशियम, मैग्नीशियम और आयरन से भरपूर गुड़ शरीर को कई प्रकार के रोगों से दूर रखने में कारगर साबित होता है। गुड़ जितना पुराना होता है। उतना ही अधिक फायदेमंद भी कहलाता है।
विशेषज्ञों के मुताबिक पुराना गुड़ खुद में कई तरह के स्वास्थ्य लाभों को समेटे हुए होता है। पुराने गुड़ का रंग गहरा होता है और स्वाद में हल्का नमकीन पाया जाता है। जो उसके एडलटरेटिड होने की निशानी है। वहीं नया गुड़ कई बार शरीर में सर्दी जुकाम का कारण सिद्ध हो सकता है। इसके अलावा बैक्टिरियल इफे्क्शन का भी खतरा बना रहता है।

Gud kai tarah ke poshak tatv pradan krta hai
गुड़ में विटामिन और कई प्रकार के खनिज पाए जाते हैं, जो शरीर को मज़बूती प्रदान करने का काम करते हैं। चित्र अडोबी स्टॉक

गुड़ खाते वक्त रखे इस बात का ध्यान

गुड़ को कभी भी आप दूध के साथ न खाएं। दरअसल, दूध और गुड़ की तासीर अलग अलग होती है। जहां गुड़ की तासीर गर्म है, तो वहीं दूध की तासीर ठंडी होती है। जो शरीर पर नकारात्मक प्रभाव डालती है।

असली गुड़ की कैसे करें पहचान

गुड़ खरीदते समय ध्यान रखें कि उसका रंग गोल्डन ब्राउन की होना चाहिए। अगर आप हल्के रंग का गुड़ खरीद रहे हैं, तो उसे सोडियम और कैल्शियम कार्बोंनेटस होने का खतरा बना रहता है। इससे शरीर को कोई भी फायदा प्राप्त नहीं होता है। अगर आप किसी गंभीर बीमारी से ग्रस्त है। तो गुड़ के सेवन से पहले डॉक्टरी सलाह भी ज़रूरी है।

गुड़ के लाभ

आयरन के गुणों से भरपूर गुड़ को खाने से शरीर में खून की कमी नहीं रहती है।

गुड़ खाने से शरीर में मैग्निशियम की कमी पूरी होती है। 10 ग्राम गुड़ में 16 मिलीग्राम मैग्निशियम पाया जाता है।

गुड़ में पोटेशियम के गुण पाए जाते है, जो शरीर के मेटाबॉलिज्म को बढ़ाने का काम करते हैं।
जोड़ों के दर्द में भी गुड़ का सेवन लाभकारी साबित होता है।

गुड़ को एक क्लींजर के रूप में भी जाना जाता है। जो शरीर में ब्लड प्यूरिफाई करने में कारगर साबित होता है।

गुड़ न केवल खाने में स्वादिष्ट होता है बल्कि पाचनतंत्र को मज़बूती प्रदान करता है। कब्ज समेत पेट से जुड़ी अन्य समस्याओं में छुटकारा भी दिलाता है। गुड़ पाचन एंजाइमों को सक्रिय करके

कब्ज के प्रभाव को शांत करने का काम करता है। गुड़ हमारे रेसपिरेटरी सिस्टम को भी फायदा पहुंचाता है।

 

ये भी पढ़े- कोलेस्ट्रॉल समेत इन 5 समस्याओं में बेहद फायदेमंद है भुनी अलसी का सेवन, इन 7 तरीकों से करें आहार में शामिल

  • 141
लेखक के बारे में
ज्योति सोही ज्योति सोही

लंबे समय तक प्रिंट और टीवी के लिए काम कर चुकी ज्योति सोही अब डिजिटल कंटेंट राइटिंग में सक्रिय हैं। ब्यूटी, फूड्स, वेलनेस और रिलेशनशिप उनके पसंदीदा ज़ोनर हैं।

हेल्थशॉट्स कम्युनिटी

हेल्थशॉट्स कम्युनिटी का हिस्सा बनें

ज्वॉइन करें
nextstory

हेल्थशॉट्स पीरियड ट्रैकर का उपयोग करके अपने
मासिक धर्म के स्वास्थ्य को ट्रैक करें

ट्रैक करें