वैलनेस
स्टोर

मम्‍मी इन दिनों मेरी डायबिटिक दादी को खिला रहीं हैं जामुन, पर क्‍या ये वाकई काम करता हैं?

Updated on: 25 June 2021, 13:42pm IST
मेरी मम्मी जो दादी को हर चीज बड़ी चुन-चुन कर खिलाती हैं, मैंने देखा कि वे इन दिनों उन्हें जामुन खाने के लिए प्रेरित कर रहीं है। अब जानिए क्या वाकई डायबिटीज में फायदेमंद है जामुन।
ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ
  • 82 Likes
डायबिटीज के मरीजों को खिलाएं जामुन. चित्र : शटरस्टॉक

काले रंग और खट्टे-मीठे स्वाद वाला जामुन न केवल एक शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट के रूप में कार्य करता है, जो प्रतिरक्षा में सुधार करने में मदद करता है, बल्कि मधुमेह के उपचार में इसका विशेष उपयोग किया जा सकता है।

जी हां, आपने सही सुना क्योंकि कल मैंने अपनी मम्मी को, दादी को जामुन खिलाते हुए देखा! मेरा पहला सवाल था कि अरे उन्हें तो डायबिटीज है? मगर मम्मी ने कहा कि दादी यह खा सकती हैं। इस बात पर मुझे थोड़ा शक हुआ, तो मैंने इस विषय पर पढ़ने की कोशिश की और देखिये मुझे क्या मिला –

डायबिटिक मरीजों के लिए फायदेमंद है जामुन

जामुन का फल प्रकृति में कसैला और हल्का एसिडिक भी होता है। ग्लूकोज और फ्रुक्टोज जामुन में पाए जाने वाले प्रमुख शर्करा हैं। साथ ही, यह खनिजों से भी भरा हुआ है, और अन्य फलों की तुलना में कम कैलोरी प्रदान करता है।

मधुमेह के इलाज में जामुन का विशेष उपयोग माना जाता है। यूनानी और आयुर्वेदिक पद्धतियों में इसका उपयोग पाचन विकारों के लिए किया जाता है। पत्ते, छाल और बीज सबसे उपयोगी भाग हैं, जिनमें से बीज अपने एंटी-डायबिटिक प्रॉपर्टीज के लिए लोकप्रिय हैं।

डायबिटीज के मरीजों के लिए फायदेमंद है जामुन. चित्र : शटरस्टॉक

ग्लाइसेमिक इंडेक्स में कम होता है जामुन

जामुन का ग्लाइसेमिक इंडेक्स कम होने से यह डायबिटीज के जोखिम को कम करने में प्रभावी होता है। एनसीबीआई के एक ऑनलाइन डाटा के अनुसार जामुन का ग्लाइसेमिक इंडेक्स 48.1 होता है। यानी जामुन मधुमेह रोगी भी खा सकते हैं, क्योंकि मधुमेह रोगियों के लिए 55 से कम ग्लाइसेमिक इंडेक्स वाले खाद्य पदार्थ खाने का सुझाव दिया जाता है।

एंटीडायबिटीज गुणों से भरपूर जामुन, शुगर लेवल को 30 प्रतिशत घटा सकता है। यह हमारे शरीर में शुगर को स्टार्च में बदलने से रोकता है और इसका जंबोलिन नामक ग्लूकोज, पेशाब में शर्करा के स्तर को कम करने में मदद करता है।

शुरूआती चरण में ही नियंत्रित कर सकता है डायबिटीज

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि डायबिटीज नियंत्रण IFG (इम्पेयर्ड फास्टिंग ग्लूकोज) के स्तर पर निर्भर है, जिसे जामुन के साथ फल और बीज पाउडर दोनों से अच्छी तरह से नियंत्रित किया जा सकता है। IFG का विनियमन मधुमेह की शुरुआत और आगे की स्थितियों को रोकता है।

अगर आपको डायबिटीज है तो जामुन आपके लिए फायदेमंद साबित हो सकता है। चित्र: शटरस्टॉक

जामुन में मौजूद फाइटोकैमिकल्स जैसे एल्कलॉइड, फ्लेवोनॉइड्स, प्रोटीन, स्टेरॉयड, टैनिन, ग्लाइकोसाइड्स सैपोनिन्स डायबिटीज नियंत्रण के लिए जिम्मेदार होते हैं।

मधुमेह के रोगी अपने शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने के लिए रोजाना जामुन के फल का सेवन कर सकते हैं, जो निश्चित रूप से इंसुलिन गतिविधि और संवेदनशीलता को बढ़ाने में मदद करता है। इसके अलावा, जामुन के बीज के पाउडर को टाइप -2 मधुमेह, इंसुलिन पर निर्भर या गैर-इंसुलिन निर्भर दोनों के लिए सहायक के रूप में लिया जा सकता है।

मधुमेह रोगियों के लिए जामुन की कितनी खुराक है फायदेमंद

यदि आप पहले से ही मधुमेह विरोधी दवाएं ले रहे हैं तो जामुन के बीज के पाउडर या ताजे फल का उपयोग करते समय अपने रक्त शर्करा के स्तर की निगरानी करें। ऐसा इसलिए क्योंकि जामुन में ब्लड शुगर कम करने का गुण होता है।

  1. जामुन फल – मुट्ठी भर एक दिन में
  2. जामुन का रस – 1-2 चम्मच
  3. जामुन पाउडर – ½ -1 चम्मच या आवश्यकता के अनुसार।

यह भी पढ़ें : गर्मियों में हाइड्रेट रहने के लिए मेरी मम्‍मी ने सुझाए उनकी मम्‍मी के जमाने के ये 4 ठंडे और सेहतमंद पेय

ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ

प्रकृति में गंभीर और ख्‍यालों में आज़ाद। किताबें पढ़ने और कविता लिखने की शौकीन हूं और जीवन के प्रति सकारात्‍मक दृष्टिकोण रखती हूं।