चावल आपकी सेहत का दोस्त है या दुश्मन? एक्सपर्ट दे रहीं हैं इस सवाल का जवाब

Updated on: 25 May 2022, 16:21 pm IST

क्या आप भी डाइटिंग और स्वास्थ्य समस्याओं के चलते चावल से दूर होती जा रहीं हैं? पर क्या ये वाकई जरूरी है? क्या सचमुच चावल आपकी सेहत का दुश्मन है?

chawal aapki seht ka dost hai ya dushman
यहां जानिए चावल आपकी सेहत का दोस्त है या दुश्मन। चित्र शटरस्टॉक

वेट लॉस करना है चावल छोड़ दो, डायबिटीज हो गई है, तो चावल छोड़ दो, अरे अरे रात में चावल! नर्म, खुशबूदार और टेस्टी चावल के बारे में बहुत सारी सच्ची-झूठी अवधारणाएं फिटनेस और वेलनेस के बाज़ार में घूम रहीं हैं। असल में चावल को लेकर हमेशा एक कन्फ्यूजन की स्थिति बनी रहती है। लोग तय नहीं कर पाते कि क्या वाकई चावल सेहत के लिए इतना खराब होता है? जबकि मेरी मम्मी हमेशा सीमित मात्रा में आहार में चावल शामिल करने की सलाह देती हैं। बल्कि वे तो चावल के बिना रह ही नहीं पातीं। मम्मी की आहार संबंधी पसंद और फिटनेस के बाज़ार में घूम रही अवधारणाओं को चेक करने के लिए हमने एक एक्सपर्ट से बात की। तो आइए जानते हैं कि चावल आपकी सेहत के लिए अच्छा है या बुरा (eating rice is good or bad for health) !

आधी से ज्यादा आबादी खाती है चावल

विश्व के कई हिस्सों में चावल का सेवन किया जाता है। खासकर हमारे देश में चावल लोगों के खानपान का एक अहम हिस्सा है। जम्मू-कश्मीर से लेकर केरल तक भारत की आधी से ज्यादा आबादी हर दिन चावल खाना पसंद करती है। हालांकि, आपने अक्सर सुना होगा कि डाइटिंग और स्वास्थ्य समस्याओं में लोग चावल से दूरी बना लेते हैं। क्या आपको भी ऐसा ही लगता है? तो बता दें कि यह केवल एक मिथ है। किसी भी चीज के प्रति अवधारणा बनाने से पहले उसकी पूरी जानकारी होना जरूरी है। चावल हमारी सेहत के दोस्त हैं या दुश्मन, कभी-कभी ये बिल्कुल भी समझ नहीं आता।

chawal ke baare mein myth
मोटापे और डायबिटीज से ग्रस्‍त लोग भी कर सकते हे चावल का सेवन। चित्र: शटरस्‍टॉक

यहां एक्सपर्ट बता रही है चावल से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण तथ्य

न्यूट्रीफाई बाई पूनम डाइट एंड वैलनेस क्लिनिक एंड अकैडमी की डायरेक्टर पूनम दुनेजा कहती हैं, ” चावल भारत के मुख्य खाद्य पदार्थों में से एक है। इसे कई इंडियन रेसिपी जैसे पुलाव, बिरयानी, इडली, राइस केक, इत्यादि में प्रयोग किया जाता है। वहीं इसमें मौजूद कार्बोहाइड्रेट शरीर को इंस्टेंट एनर्जी प्रोवाइड करते हैं। साथ ही यह ग्लूटेन फ्री होता है। फर्मेंटेड राइस वॉटर प्रीबायोटिक के तौर पर काम करते हैं”।

पोषण का भंडार है चावल

डॉक्टर पूनम दुनेजा के अनुसार चावल में विटामिन बी, मैंगनीज, सेलेनियम, मैग्नीशियम और फाइबर की पर्याप्त मात्रा मौजूद होती है। यह सभी पोषक तत्व शरीर के लिए अत्यधिक आवश्यक है। चावल और सब्जी के कॉन्बिनेशन को प्री और पोस्ट वर्कआउट मील के तौर पर रिकमेंड किया जाता है। साथ ही चावल से बनी खिचड़ी में एक चम्मच घी मिलाकर खाने से डाइजेशन इंप्रूव होता है। यह पेट को हल्का रखने में भी आपकी मदद करेगा।

पब मेड द्वारा किये गए एक अध्ययन में बताया गया कि एशिया में लगभग 1,10,000 वैरायटी के चावल उपजाए जाते हैं। जिनकी गुणवत्ता और पोषक तत्व भी अलग-अलग होते हैं। चावल के पोषक तत्वों की बात करें, तो इनमें कैलोरी के साथ मैंगनीज, फास्फोरस, मैग्नीशियम, सेलेनियम, आयरन, फोलिक एसिड, थायमिन और नियासिन (विटामिन बी 3) भी पर्याप्त मात्रा में मौजूद होते हैं। परंतु इस बात की जानकारी होना जरूरी है कि चावल में फैट और फाइबर एक सीमित मात्रा में पाया जाता है।

poshak tatvo ka bhandar hai chawal.
पोषण का भंडार है चावल। चित्र शटरस्टॉक।

रिसर्च में पाया गया कि ब्राउन राइस के बायोएक्टिव कंपाउंड्स जैसे कि मिनिरल्स और विटामिन इसकी गुणवत्ता को और ज्यादा बढ़ा देते हैं। वहीं व्हाइट राइस में पॉलिशिंग के बाद विटामिन और मिनरल्स का प्रभाव बहुत कम हो जाता है। हालांकि, उपभोग की बात करें तो ब्राउन राइस की तुलना में व्हाइट राइस बड़े पैमाने पर प्रयोग होते हैं। वहीं पॉलिश्ड राइस में ग्लाइसेमिक लोड काफी ज्यादा होता है। इसलिए यह शरीर में ग्लूकोज लेवल को बढ़ा सकता है। परंतु यदि इसे दूसरे फूड कॉन्बिनेशन के साथ खाया जाए, तो व्हाइट राइस भी सेहत के लिए काफी फायदेमंद होते है।

यहां जानिए चावल खाने के 4 फायदे

1. एनर्जी बूस्ट करने में मददगार

हमारे शरीर को एनर्जी रिलीज करने के लिए कार्बोहाइड्रेट की जरूरत होती है। जब कार्बोहाइड्रेट हमारे शरीर में जाता है तो शरीर इसे एनर्जी के रूप में परिवर्तित कर देता है। चावल में पर्याप्त मात्रा में कार्बोहाइड्रेट मौजूद होते हैं जो हमारे लिए किसी एनर्जी बूस्टर से कम नहीं है। साथ ही ब्राउन राइस में मौजूद विटामिन और मिनरल्स शरीर में मेटाबॉलिक एक्टिविटी को बढ़ाते हैं जिससे शरीर की ऊर्जा शक्ति बानी रहती है। एक शोध में देखा गया कि ज्यादातर एथलीट चावल का सेवन करना पसंद करते हैं। व्हाइट राइस को स्पोर्ट्स न्यूट्रिशन माना जाता है।

2. पाचन क्रिया बेहतर बनाता है

व्हाइट राइस पेट के लिए हेल्दी होता है। इसमें मौजूद फाइबर पाचन क्रिया को इसे आसानी से पचाने में मदद करते है। यह कब्ज, डायरिया और वोमिटिंग जैसी समस्याओं में भी फायदेमंद हो सकता है। साथ ही चावल नेचुरल ड्यूरेटिक की तरह काम करता है, जो शरीर से एक्सेस वॉटर को बाहर निकालने में मदद करते हैं। चावल खाने से शरीरी में यूरिक एसिड की मात्रा भी कम होती है।

digestion ki samsyayon se rakhen dur.
पाचन क्रिया को बेहतर बनायें। चित्र शटरस्टॉक।

3. एंटी इन्फ्लेमेटरी और ग्लूटेन फ्री हैं चावल

इसके एंटी इन्फ्लेमेटरी प्रॉपर्टी सीलिएक डिजीज (आंत में सूजन की समस्या) में अधिक फायदेमंद होते हैं। साथ ही यदि आपको ग्लूटेन से एलर्जी है तो चावल को अपने आहार में शामिल कर सकती हैं। चावल ग्लूटेन फ्री होते है और आपके आंत को इंफेक्शन और सूजन की समस्या से निजात पाने में भी मदद करते है।

4. त्वचा के लिए फायदेमंद

क्या आप भी नेचुरल स्किन केयर का शौक रखती हैं? तो ऐसे में चावल आपके स्किन से जुड़ी कई समस्याओं को हल कर सकता है। स्किन के लिए चावल का पाउडर और इसके पानी का इस्तेमाल कर सकती हैं। साथ ही इसे कंज्यूम करने के भी कई फायदे होते हैं। ब्राउन राइस भी त्वचा के लिए फायदेमंद होता है। इसमें मौजूद फेनोलिक कंपाउंड्स त्वचा से जुड़ी इरिटेशन और इन्फेक्शन को कम करते हैं। साथ ही चावल के एंटीऑक्सीडेंट प्रॉपर्टी एजिंग प्रोसेस को भी धीमा कर देते हैं।

यह भी पढ़ें :  40 के बाद मुश्किल लग रहा है वेट लॉस, तो फॉलो करें ये 5 जरूरी टिप्स 

अंजलि कुमारी अंजलि कुमारी

इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिटी- नई दिल्ली में जर्नलिज़्म की छात्रा अंजलि फूड, ब्लॉगिंग, ट्रैवल और आध्यात्मिक किताबों में रुचि रखती हैं।