मम्मी कहती हैं ब्यूटी और इम्युनिटी के लिए जरूरी है कॉपर, तो जानिए साइंस क्या कहता है

Published on: 25 January 2022, 09:30 am IST

एक संतुलित आहार में कैल्शियम और आयरन जैसे खनिज के साथ सभी प्रकार के विटामिन का होना आवश्यक है। लेकिन क्या आप इन सबके बीच कॉपर को भूल जाते हैं? तो ऐसा करना स्वास्थ्य के लिए गलत है।

Copper aapke diet ka important nutrient hai
तांबा आपके आहार का महत्वपूर्ण घटक है। चित्र:शटरस्टॉक

कॉपर (Copper) सबसे कम चर्चित पोषक तत्व है, जो आपके आहार में महत्वपूर्ण स्थान रखता है। विभिन्न विटामिन और अन्य खनिजों के बीच इसकी चर्चा बहुत कम होती है। परंतु क्या इसे यूं नजरंदाज करना सही है? क्या आहार में इसके होने या न होने से कोई फर्क नहीं पड़ता? ऐसा नहीं है! बाकी पोषक तत्वों की तरह कॉपर का भी बराबर महत्व है। और मेरी मम्मी आजकल तांबे के बर्तन में रखा पानी पीने की सिफारिश करती हैं। वे मानती हैं कि आपकी ब्यूटी और इम्युनिटी दोनों के लिए यह फायदेमंद है। तो क्या साइंस भी यही कहता है? आइए आज कॉपर और इसके फायदों (Copper and its benefits) पर विस्तार से बात करते हैं।

मेरी मम्मी करती हैं तांबे के बर्तन में रखा पानी पीने की सिफारिश

ये बात मेरी मम्मी ने अपनी मम्मी से सीखी। यानी हमारी दादी-नानी के समय से तांबे के लोटे में रखे पानी का सेवन किया जाता था। इससे शरीर में कॉपर की जरूरत को पूरा किया जाता था। इतना ही नहीं कई विज्ञापनों में वॉटर फिल्टर, पानी की बोतल या बर्तनों के माध्यम से आपके शरीर में कॉपर की जरूरत को पूरा करने का दावा किया जाता है। अगर आपने इस पोषक तत्व को आज तक महत्व नहीं दिया है, तो जानिए इसके स्वास्थ्य लाभ और प्राकृतिक स्रोत।

क्यों शरीर के लिए जरूरी होता है कॉपर?

कॉपर शरीर के लिए एक आवश्यक पोषक तत्व है। आयरन के साथ मिलकर यह शरीर को रेड ब्लड सेल्स (red blood cells) बनाने में सक्षम बनाता है। यह स्वस्थ हड्डियों, ब्लड वेसल, नसों और इम्युनिटी को बनाए रखने में मदद करता है।

Mummy kehti hai copper vessels health ke liye faydemand hai
मम्मी कहती हैं कि तांबे का बर्तन स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद है। चित्र: शटरस्‍टॉक

आहार में पर्याप्त कॉपर हृदय रोग (heart diseases) और ऑस्टियोपोरोसिस (osteoporosis) को भी रोकने में मदद कर सकता है।

1. हृदय स्वास्थ्य (Heart Health)

कॉपर के निम्न स्तर को उच्च कोलेस्ट्रॉल (high cholesterol) और उच्च रक्तचाप (high blood pressure) से जोड़ा गया है। शोधकर्ताओं के एक समूह ने सुझाव दिया है कि दिल की विफलता वाले कुछ रोगियों को तांबे की खुराक से फायदा हो सकता है। जानवरों के अध्ययन ने तांबे के निम्न स्तर को सीवीडी (CVD) यानी कार्डियो वैस्कुलर डिजीज से जोड़ा है।

2. इम्युनिटी (Immunity)

बहुत कम तांबा न्यूट्रोपेनिया (neutropenia) का कारण बन सकता है। यह सफेद रक्त कोशिकाओं, या न्यूट्रोफिल की कमी है, जो संक्रमण से लड़ते हैं। न्यूट्रोफिल के निम्न स्तर वाले व्यक्ति में संक्रामक रोग होने की संभावना अधिक होती है।

3. ऑस्टियोपोरोसिस (Osteoporosis)

तांबे की गंभीर कमी हड्डियों को कमजोर कर सकता है। यह बोन डेंसिटी को कम करने और ऑस्टियोपोरोसिस के जोखिम को बढ़ाने से जुड़ा है।

4. कोलेजन उत्पादन (Collagen Production)

कॉपर आपके शरीर के प्रमुख संरचनात्मक घटकों, कोलेजन और इलास्टिन को बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। वैज्ञानिकों ने अनुमान लगाया है कि तांबे में एंटीऑक्सीडेंट गुण हो सकते हैं, और यह कि, अन्य एंटीऑक्सिडेंट के साथ, एक स्वस्थ सेवन त्वचा की उम्र बढ़ने को रोकने में मदद कर सकता है।

Osteoporosis ke risk ko kam karta hai copper
ऑस्टियोपोरोसिस के जोखिम को कम करता है कॉपर। चित्र: शटरस्टॉक

तांबे की कमी जोड़ों की शिथिलता सहित कई समस्याओं को जन्म दे सकता है, क्योंकि बॉडी टिशू टूटने लगते हैं।

5. गठिया (Arthritis)

पशु अध्ययनों ने संकेत दिया है कि तांबा गठिया को रोकने या देरी करने में मदद कर सकता है। इसी उद्देश्य के लिए महिलाएं तांबे के कंगन पहनना पसंद करती हैं। हालांकि, किसी भी मानव अध्ययन ने इसकी पुष्टि नहीं की है।

तांबे की कमी का शरीर पर प्रभाव

तांबे के निम्न स्तर के कारण आपको ये परेशानियां हो सकती हैं:

  1. एनीमिया (Anaemia)
  2. शरीर का कम तापमान (Low body temperature)
  3. बोन फ्रैक्चर (Bone Fracture)
  4. ऑस्टियोपोरोसिस (Osteoporosis)
  5. त्वचा रंजकता का नुकसान (Skin depigmentation)
  6. थायरॉयड समस्याएं (Thyroid problems)
  7. संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है (Increased risk of infection)
  8. बालों और त्वचा पर नकारात्मक प्रभाव (Hair and skin effects)
Cocoa hai copper ka important source
कोकोआ है कॉपर का महत्वपूर्ण स्रोत। चित्र- शटरस्टॉक।

ये हैं कॉपर के महत्वपूर्ण स्रोत

तो लेडीज, अब आप कॉपर के स्वस्थ लाभों से परिचित हो गए हैं। तो यह भी जानिए कि किन स्रोतों से आप इसका सेवन कर सकती हैं।

  1. ऑयस्टर (Oyster)
  2. साबुत अनाज (Whole grains)
  3. बींस (Beans)
  4. आलू (Potato)
  5. यीस्ट (Yeast)
  6. गहरे हरे रंग का पत्तेदार साग (Green Leafy Vegetables)
  7. कोकोआ (Cocoa)
  8. ड्राई फ्रूट्स (Dry Fruits)
  9. काली मिर्च (Black Pepper)

अधिकांश फल और सब्जियों में तांबे का स्तर कम होता है। लेकिन यह साबुत अनाज में मौजूद होता है, और इसे कुछ अन्य अनाज और फोर्टीफाइड फूड में जोड़ा जा सकता है। और इसके अलावा, हर रोज़ रात को तांबे के बर्तन में रखा पानी पीने से भी इसकी आपूर्ति की जा सकती है।

यह भी पढ़ें: अगर आपका स्लीपिंग पैटर्न बिगड़ गया है, तो मेरी मम्मी करती हैं इन आदतों को बदलने की सिफारिश

अदिति तिवारी अदिति तिवारी

फिटनेस, फूड्स, किताबें, घुमक्कड़ी, पॉज़िटिविटी...  और जीने को क्या चाहिए !