अगर आपको भी मेरी मम्मी की तरह हरदम हेल्दी रहना है, तो इस जरूरी पोषक तत्व को स्किप न करें

Published on: 27 January 2022, 21:30 pm IST

आप सभी लंबा और स्वस्थ जीवन जीना चाहती हैं, है ना? ठीक है, तो आप भी मेरी मम्मी की तरह ओमेगा-3 को लगातार अपने आहार में शामिल करने का प्रयास करें।

Omega-3 apko humesha healthy rehne mein madad karega
ओमेगा-3 आपको हमेशा हेल्दी रहने में मदद करेगा। चित्र:शटरस्टॉक

बढ़ती उम्र के साथ शारीरिक और मानसिक तकलीफों का सामना करना स्वाभाविक है। लेकिन आज के तनाव और भाग दौड़ भरी जिंदगी में लोगों की आयु कम होती जा रही है। हमारी दादी नानी के समय की तरह अब वो शारीरिक ताकत और मानसिक स्थिरता नहीं रही है। लेकिन इन सब हालात के बीच मेरी मम्मी आज भी फिट और स्वस्थ जीवन व्यतीत कर रहीं हैं। इसका कारण है एक जरूरी पोषक तत्व, जिसकी ज्यादातर भारतीय महिलाओं में कमी होती है। जी हां, वह है ओमेगा-3 फैटी एसिड।

ओमेगा -3 फैटी एसिड और हृदय स्वास्थ्य के बीच संबंध लंबे समय से स्थापित हैं। लेकिन क्या आप सोच रहें हैं कि पर्याप्त ओमेगा -3 प्राप्त करने का लंबा जीवन जीने से क्या लेना-देना है? तो केवल मेरी मम्मी ही नहीं, कई अनुसंधानों ने ओमेगा -3 को लंबी उम्र को बढ़ावा देने के लिए महत्वपूर्ण पोषक तत्व के रूप में पहचाना है।

अगर आप भी मेरी मम्मी की तरह रोगमुक्त और स्वस्थ जीवन जीना चाहती है, तो अपने डाइट में एक जादुई तत्व जोड़ना न भूलें। जी हां, हम बात कर रहें हैं ओमेगा 3 फैटी एसिड की! ओमेगा -3 फैटी एसिड होते हैं जो आपके स्वास्थ्य के लिए आवश्यक हैं। यह पौधों (LAA) एवं समुद्री स्रोतों (EPA और DHA) दोनों में पाए जाते हैं।

Omega-3 aapki diet ka important hissa hai
ओमेगा-3 आपकी डाइट का महत्वपूर्ण हिस्सा है। चित्र:शटरस्टॉक

मेरी मम्मी की तरह आपको भी लंबी और हेल्दी लाइफ दे सकता है ओमेगा-3

अमेरिकन मेडिकल एसोसिएशन के जर्नल में प्रकाशित एक अध्ययन में पाया गया कि समुद्री ओमेगा-3 (यानी, EPA और DHA) के उच्च स्तर वाले वयस्कों में टेलोमेयर के छोटा होने की दर पांच वर्षों में सबसे कम थी।

इसका सही मतलब क्या है? टेलोमेरेस क्रोमोसोमल टिप्स हैं, जो आपके डीएनए को तनाव से बचाते हैं। शोध के परिणाम इंगित करते हैं कि टेलोमेर की लंबाई बढ़ती उम्र का मार्कर है। इसका अर्थ है कि आपके टेलोमेरेस जितने लंबे होंगे, आपकी उम्र उतनी ही अधिक होगी।

यह अध्ययन आपके ओमेगा -3 इंडेक्स को बढ़ाने के महत्व पर प्रकाश डालता है। यह आपको लंबा और स्वस्थ जीवन जीने में मदद कर सकता है। एक उच्च ओमेगा -3 इंडेक्स बेहतर हृदय स्वास्थ्य और कार्डियोमेटाबोलिक मापदंडों से जुड़ा है।

2021 में, अमेरिकन जर्नल ऑफ क्लिनिकल न्यूट्रिशन में प्रकाशित एक अध्ययन ने ओमेगा -3 और लंबी उम्र के बीच के संबंध के बारे में बताया। पूरे अध्ययन में कई जीवनशैली कारक थे जो दीर्घायु को प्रभावित करते हैं। लेकिन परिणाम बताते हैं कि वास्तव में, उच्च ओमेगा -3 का स्तर और लंबे समय तक रहने के बीच एक स्पष्ट संबंध है।

Omega-3 deficiency aur aging
स्किन को समय से पहले बूढ़ा बना सकती है ओमेगा-3 की कमी। चित्र : शटरस्टॉक

लंबी उम्र के लिए किन कारकों को प्रभावित करता है ओमेगा 3?

जोड़ों में दर्द, आंखों की रोशनी कम होना, चेहरे पर झुर्रियां , आदि कुछ विशेष लक्षण हैं जो आपकी ढलती उम्र की ओर इशारा करते हैं। जबकि शोध बताते हैं कि ओमेगा-3 युक्त आहार आपको सिर्फ अभी के लिए ही नहीं, बल्कि भविष्य के लिए भी लाभ पहुंचाते हैं। इनमें हृदय, मस्तिष्क, आंख और जोड़ों का स्वास्थ्य शामिल है।

यहां हैं ओमेगा-3 फैटी एसिड के स्वास्थ्य लाभ

1. हृदय को स्वस्थ रखता है (Improves heart health) 

हृदय स्वास्थ्य आपके पूरे जीवन में महत्वपूर्ण है। इसलिए आहार, व्यायाम और जीवनशैली विकल्पों के माध्यम से अपने दिल का समर्थन करना महत्वपूर्ण हो जाता है। जब हृदय स्वास्थ्य की बात आती है, तो पर्याप्त ओमेगा -3 स्तर वैस्कुलर फंक्शन और हेल्दी इन्फ्लेमेटरी रिस्पॉन्स से लेकर स्वस्थ हृदय गति, रक्तचाप और ट्राइग्लिसराइड के स्तर को कम करने में मदद करता है।

विशेष रूप से, ईपीए (EPA) और डीएचए (DHA) की जरूरत को पूरा करने के लिए वसायुक्त मछली या फिश ऑयल सप्लीमेंट का सेवन किया जाता है। यह कार्डियोप्रोटेक्टिव कारकों को अधिक लाभकारी रूप से संशोधित करता है। वास्तव में, मरीन ओमेगा -3 को उच्च रक्तचाप सहित बेहतर हृदय-स्वास्थ्य परिणामों से जोड़ा गया है।

2. संज्ञानात्मक क्रियाओं के लिए है जरूरी (Important for cognitive health)

कार्यशील स्मृति और समग्र संज्ञानात्मक कार्य को बनाए रखना दीर्घायु का एक महत्वपूर्ण पहलू है। ओमेगा -3 का सेवन मस्तिष्क के स्वास्थ्य को समर्थन करने का उचित तरीका है। मस्तिष्क शरीर का सबसे मोटा अंग है और इसे बेहतर ढंग से संचालित करने के लिए फैटी एसिड की आवश्यकता होती है। विशेष रूप से डीएचए (DHA), जो मस्तिष्क में सबसे प्रचुर मात्रा में पाया जाने वाला फैटी एसिड है। यह तंत्रिका तंत्र को सही आकार में रखने में मदद करता है।

Uchit maansik swasthya ke liye omega-3 ka sewan kare
उचित मानसिक स्वास्थ्य के लिए ओमेगा-3 का सेवन करें। चित्र: शटरस्टॉक

डीएचए मुख्य रूप से मस्तिष्क के भीतर ग्रे मैटर में पाया जाता है। आहार या सप्लीमेंट के माध्यम से इसका सेवन किया जा सकता है। यह वृद्धावस्था में मानसिक तीक्ष्णता और संज्ञानात्मक कार्य को बढ़ावा देता है। फैटी मछली – जैसे सैल्मन, एन्कोवी, मैकेरल, और सार्डिन – ईपीए और डीएचए में उच्च हैं, जो इस ग्रे मैटर लाभ में एक संभावित प्रमुख खिलाड़ी है।

3. आंखों की दृष्टि को तेज करता है

मस्तिष्क में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका के अलावा, डीएचए आंखों में पाया जाने वाला सबसे प्रचुर मात्रा में फैटी एसिड भी है। डीएचए रोडोप्सिन के इष्टतम कामकाज और पुनर्जनन के लिए महत्वपूर्ण है।

ओमेगा 3 बचपन में आंखों के विकास से लेकर बढ़ती उम्र में उसकी रोशनी की रक्षा कटने के लिए कारगर है। जो लोग ओमेगा 3 से भरपूर आहार का सेवन करते हैं, क्षण दृष्टि संबंधी चिंताओं का अनुभव होने की संभावना 25% से 35% कम होती है।

Eye sight ko badhata hai omega-3
आंखों की रोशनी को बढ़ाता है ओमेगा-3। चित्र: शटरस्‍टाॅॅॅक

4. जोड़ों के दर्द को करे गायब

जैसे-जैसे उम्र बढ़ती हैं, आपके जोड़ आपके छोटे वर्षों की तुलना में सख्त और कम आरामदायक हो सकते हैं। सौभाग्य से, ओमेगा -3 जोड़ों के दर्द को दूर कर सकता है। यह आराम, कार्य और गतिशीलता में सुधार के लिए एंटीऑक्सिडेंट और एंटी इन्फ्लेमेटरी गुणों का समर्थन करते हैं। 2017 के एक मेटा-विश्लेषण में पाया गया कि, औसतन, सी ऑयल सप्लीमेंट का उपयोग (जैसे फैटी फिश) ईपीए + डीएचए के साथ आराम का समर्थन करता है।

तो लेडीज, बढ़ती उम्र को रोकना नामुमकिन है, लेकिन इसकी रफ्तार को कम और प्रहव को रोकने में मदद कर सकता है।

यह भी पढ़ें: मम्मी कहती हैं ब्यूटी और इम्युनिटी के लिए जरूरी है कॉपर, तो जानिए साइंस क्या कहता है

अदिति तिवारी अदिति तिवारी

फिटनेस, फूड्स, किताबें, घुमक्कड़ी, पॉज़िटिविटी...  और जीने को क्या चाहिए !