जानिए छोटे बच्चों को क्यों नहीं देनी चाहिए चाय या काॅफी

Published on: 20 March 2022, 10:00 am IST

आप अपने बच्चे के आहार में कैफीनयुक्त पेय पदार्थ जैसे चाय या कॉफी को शामिल करने की योजना बना रही हैं? बता दें यह नुकसान कर सकता है। जानिए क्यों।

bacchon ko chay ya coffee n pilaen
बच्चों को चाय या कॉफी न पिलाएं। चित्र : शटरस्टॉक

हम में से अधिकांश लोग अपने दिन की शुरुआत एक कप चाय या कॉफी के साथ करते हैं, है ना? मगर क्या होगा यदि हमारे बच्चे भी एक ही पैटर्न का पालन करें? नहीं, यह सबसे बुरा विचार है! ऐसा इसलिए है क्योंकि वयस्क और बच्चे बहुत अलग तरीके से काम करते हैं। आपका पसंदीदा पेय हानिरहित लग सकता है, लेकिन इसमें कैफीन नामक उत्तेजक होता है जो आपके बच्चे के स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो सकता है। हां, कैफीन के दुष्प्रभाव बच्चों के लिए वास्तविक हो सकते हैं।

अमेरिकन एकेडमी ऑफ पीडियाट्रिक्स के अनुसार, 12 वर्ष से कम उम्र के बच्चों को कैफीन नहीं दिया जाना चाहिए। साथ ही, सभी बच्चों और किशोरों को ऊर्जा पेय के किसी भी उपयोग से दूर रहना चाहिए। कुल मिलाकर, 12-18 वर्ष की आयु के बीच के लोगों के लिए कैफीन प्रतिदिन 100 मिलीग्राम तक सीमित होना चाहिए।

लेकिन कैफीन बच्चों के लिए इतना हानिकारक क्यों है? आइए राशी चहल, न्यूट्रिशनिस्ट, रोज़वॉक हेल्थकेयर की मदद से इसे बेहतर तरीके से समझते हैं। यहां वह हेल्थ शॉट्स को बताती है, “कैफीन बच्चों के हृदय, मस्तिष्क, किडनी, लीवर और उनकी भलाई को प्रभावित कर सकता है। यह बच्चों को अधिक अतिसक्रिय बना सकता है और उन्हें अपनी ऊर्जा का सही तरीके से उपयोग करने में मदद कर सकता है। यह उनके मूड को भी कई तरह से प्रभावित कर सकता है।”

यह समझना जरूरी है कि कैफीन सिर्फ कॉफी या चाय में ही नहीं होता है। यह मिठाई, पेय, बेकरी खाद्य पदार्थ, चॉकलेट और कुकीज़ में एक अभिन्न अंग है। चहल का कहना है कि कैफीन बच्चों में स्वस्थ भोजन के अवशोषण को प्रभावित करता है, और चूंकि उन्हें अपने विकास के लिए अधिक विटामिन और खनिजों की आवश्यकता होती है, इसलिए उनका स्वास्थ्य प्रभावित होता है।

कैफीन लेने का सही तरीका क्या है?

हालांकि बड़ी मात्रा में कैफीन के दुष्प्रभाव के कारण वयस्कों के में भी इसका सेवन हानिकारक हो सकता है। यह समझना आवश्यक है कि हम अपने कार्यों के लिए अधिक जिम्मेदार हैं। चहल कहती हैं कि वयस्कों के रूप में, भले ही हमारे पास कैफीनयुक्त पेय हो, हम इसकी भरपाई कई गिलास पानी से करने के बारे में जानते हैं। बच्चों के साथ ऐसा नहीं हो सकता है, जो अनजाने में जूस या एनर्जी ड्रिंक पी सकते हैं, बिना हानिकारक प्रभावों से सावधान हुए।

coffee peene se neend disturbe ho sakti hai
कॉफी आपको अनिद्रा की समस्या भी दे सकती है। चित्र: शटरस्टॉक

वे आगे कहती हैं “इसके अलावा, भोजन के साथ चाय या कॉफी का सेवन महत्वपूर्ण खनिजों के अवशोषण को प्रभावित कर सकता है। साथ ही, बच्चों के लिए, नाश्ते के अलावा कैफीन युक्त कुछ भी लेना एक अच्छा विचार नहीं है, क्योंकि वह समय फल या दूध लेने का होता है।”

क्या कैफीन के लिए कोई विकल्प हैं?

चहल का कहना है कि आज की पीढ़ी में इस बात को लेकर अधिक जागरूकता है कि वे क्या खाना पसंद करते हैं। पहले, केवल एक ही प्रकार की चाय या कॉफी उपलब्ध थी, लेकिन आज, कुछ हल्के पीसे हुए किस्में भी हैं जिनका सेवन किया जा सकता है।

अंत म्में उन्होनें कहा कि “ग्रीन टी का सेवन बच्चे कर सकते हैं, लेकिन एक कप से ज्यादा नहीं। यह आपके द्वारा उपयोग की जाने वाली चाय और कॉफी के प्रकार पर भी निर्भर करता है। यदि आप शुद्ध किस्मों का उपयोग करते हैं, तो बहुत कम राशि की आवश्यकता होती है। कुछ मिश्रणों में अन्य तत्व भी होते हैं, और बच्चों में कैफीन के दुष्प्रभाव पैदा कर सकते हैं।”

यह भी पढ़ें : मंदिरों में चढ़े फूलों से हर्बल गुलाल बना रहीं हैं अर्थशास्त्र में डॉक्टरेट, आजमगढ़ की संतोष सिंह

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।