क्या मूली आपके लिए भी पाचन संबंधी समस्याएं लाती है, तो मेरी मम्मी से समझिए इसे खाने का सही तरीका

Published on: 15 January 2022, 20:30 pm IST

कई सब्जियां ऐसी होती हैं जिन्हें हजम करना मुश्किल होता है। इनमें से एक मूली भी है। मगर ऐसा क्यों? हम बता रहे हैं इसके कारण और उपाय।

janiye kya hai mooli khane ka sahi tareeka
यहां है मूली खाने का सही तरीका। चित्र : शटरस्टॉक

सफेद मूली सर्दियों की सब्जी है, यह अब देश के अधिकांश हिस्सों में साल भर उपलब्ध रहती है। मूली स्वास्थ्य के लिए बेहद फायदेमंद होती है। और सर्दियों में गर्मागर्म मूली के पराठों (Mooli ke Parathe) की तो बात ही और होती है। आ गया न मुंह में पानी? परंतु क्या आपने मूली का सलाद या पराठे खाने के बाद ब्लोटेड (Bloated) महसूस किया है? क्या आपको मूली को पचाना मुश्किल हो जाता है? मेरे साथ भी पिछले दिनों कुछ ऐसा ही हुआ, तभी मेरी मम्मी ने मुझे इसका कारण बताया। आप भी जानिए –

ज्यादातर लोग मूली खाने से सिर्फ इसलिए परहेज करते हैं क्योंकि इसे खाने के बाद पेट में अधिक गैस बन जाती है, जो अक्सर शर्मिंदगी का कारण बन जाती है। या फिर आपको पेट दर्द का सामना करना पड़ता है। दरअसल, बात ज्यादा गैस बनने की हो या पेट दर्द की – इसके पीछे कई कारण हो सकते हैं।

तो चलिये इस लेख के माध्यम से पता करते हैं कि मूली को पचाना इतना मुश्किल क्यों होता है और इस समस्या से राहत पाने के लिए उपाय।

mooli ke fayde
स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद है मूली। चित्र : शटरस्टॉक

मम्मी कहती हैं मूली को पचाना है मुश्किल?

मूली को आम तौर पर ‘भारी भोजन’ माना जाता है क्योंकि मम्मी कहती उन्हें पचाना मुश्किल होता है। वैज्ञानिक व्याख्या यह है कि वे ओलिगोसेकेराइड (oligosaccharides) हैं। मनुष्य के पास इस प्रकार के भोजन को पचाने के लिए आवश्यक एंजाइम लैक्टेज नहीं होता है। यही कारण है कि भोजन बिना पचे छोटी आंत में जाता है, जहां ‘गैस’ का उत्पादन होता है क्योंकि अच्छे बैक्टीरिया अपचित भोजन पर काम करते हैं।

अगर आपको मूली खाने के बाद इन समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है तो इसके लिए मूली ही नहीं बल्कि मूली (Radish) खाने का तरीका भी जिम्मेदार हो सकता है।

आयुर्वेद के अनुसार मूली खाने का सही समय

पेट दर्द (Stomach Ache) और गैस (Gas) से बचने के लिए जान लें कि कभी भी खाली पेट या रात के खाने में मूली का सेवन नहीं करना चाहिए। सही बात यह है कि मूली को खाने के साथ नहीं खाना चाहिए। जी हां, पके हुए खाने के साथ सलाद के रूप में कच्ची सब्जियां खाना सही नहीं है। इससे पाचन तंत्र पर अधिक दबाव पड़ता है, साथ ही भोजन को पचाना भी मुश्किल हो जाता है।

आपको सुबह नाश्ते के बाद मूली खानी चाहिए या लंच और डिनर के बीच जो नाश्ते का समय होता है तब मूली का सेवन करना चाहिए। इस समय मूली खाने से इसका पाचन बेहतर होगा और आपके शरीर को इसके सारे पोषक तत्व (Nutrients) मिल जाएंगे।

 mooli ke fayde
जानिए कैसे किया जा सकता है मूली का सेवन। चित्र : शटरस्टॉक

यदि आपको मूली खाने के बाद गैस बन रही है, तो यह उपाय आपकी मदद कर सकते हैं

1. पेट में गैस बन रही हो तो आप थोड़े गर्म पानी के साथ आधा छोटा चम्मच अजवाइन ले सकते हैं। इससे पेट दर्द भी धीरे धीरे कम होने लगेगा।

2.गैस बनने पर भुना ज़ीरा और काला नमक भी काम आ सकता है। इसे चूर्ण को आप खाने के तुरंत बाद ले सकती हैं।

3. इसके अलावा नींबू की चाय या नींबू का पानी भी आपको पेट दर्द को गैस से रात दिला सकता है।

क्या है मूली खाने का सही तरीका (How to eat radish)

  • मूली खाने का सही तरीका यह है कि आप इसे छीलकर और काला नमक के साथ खाकर खाएं।
  • इसे खाते समय अन्य कच्ची सब्जियां जैसे खीरा, टमाटर, गाजर आदि को भी इसमें मिला लें। ऐसा करने से स्वाद भी बढ़ेगा और पोषण की मात्रा भी बढ़ेगी।
  • मूली खाते समय इस बात का ध्यान रखें कि वह ज्यादा पकी न हो बल्कि मूली का सलाद हो।
  • मूली खाने के बाद एक जगह बैठने के बजाय थोड़ी देर टहलें, क्योंकि मूली को पचने में समय लगता है। एक जगह बैठने से इसके पाचन का समय बढ़ जाता है।

इन बातों को ध्यान में रखते हुए मूली खाने से पेट दर्द, गैस की समस्या नहीं होगी। साथ ही आप मूली के स्वाद का लुत्फ उठा पाएंगे।

यह भी पढ़ें : मीठा आपके स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है, मगर इसे पूरी तरह छोड़ देना आपकी बहुत बड़ी भूल हो सकती है

ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ

प्रकृति में गंभीर और ख्‍यालों में आज़ाद। किताबें पढ़ने और कविता लिखने की शौकीन हूं और जीवन के प्रति सकारात्‍मक दृष्टिकोण रखती हूं।