और पढ़ने के लिए
ऐप डाउनलोड करें

मेरी मम्मी कहती हैं, बढ़ते प्रदूषण में फेफड़ों को खराब होने से बचाता है गुड़, क्या यह सच है?

Published on:11 November 2021, 13:59pm IST
वायु प्रदूषण सबसे ज्यादा आपके फेफड़ों पर असर करता है। लेकिन इससे बचने के लिए मेरी मम्मी हर रोज एक डली गुड़ खाने की सलाह देती हैं। पर क्या यह उपाय कारगर होगा? आइए चैक करते हैं।
अदिति तिवारी
  • 108 Likes
Air pollution ke effects se bachne ke liye jaggery khaye
प्रदूषण के दुष्परिणामों से बचने के लिए गुड़ का सेवन करें। चित्र:शटरस्टॉक

सर्दियों का मौसम आते ही वायु प्रदूषण अपने चरम पर होता है। ऐसे में अस्थमा, ब्रॉकांइटिस और श्वास संबंधी बीमारियों से ग्रस्त लोग बहुत मुश्किलों से गुजरते हैं। इस दूषित हवा के कारण इन बीमारियों के ट्रिगर होने का खतरा ज्यादा होता है। इसके अलावा यह स्वस्थ व्यक्ति को भी कई स्वास्थ्य जोखिमों से घेर लेता है। इस दूषित हवा में सांस लेना जहर के सेवन के बराबर है। लेकिन चिंता न करें क्योंकि मेरी मम्मी के पास इसके लिए एक घरेलू उपाय है। जी हां, गुड़ का सेवन आपको वायु प्रदूषण के दुष्परिणामों से बचा सकता है!

मेरी मम्मी स्वस्थ फेफड़ों के लिए गुड़ पर विश्वास करती हैं 

गुड़ अपने अनगिनत स्वास्थ्य लाभों के लिए जाना जाता है। मेरी मम्मी प्रदूषण से बचने और स्वस्थ फेफड़ों के लिए इसका इस्तेमाल करती हैं। सर्दियों में अक्सर मीठे की क्रैविंग को दूर करने के लिए वे गुड़ का एक टुकड़ा खा लेती हैं। यह न केवल उनके मन को शांत करता है, बल्कि पाचन को भी स्वस्थ रखता है। 

प्रदूषण का बढ़ता स्तर श्वास विकारों से जूझ रहे लोगों के लिए जटिलताएं और बढ़ा देता है। कुछ लोगों को पुरानी बीमारी के कारण परेशानी हो सकती है। वहीं कुछ व्यक्ति दूषित हवा के कारण विभिन्न प्रकार की ऐलर्जी से ग्रस्त हो सकते हैं। इन परेशानियों को पूरी तरह से खत्म नहीं किया जा सकता है, लेकिन इन्हें नियंत्रित जरूर किया जा सकता है। और मेरी मम्मी इसके लिए हर रोज एक डली गुड़ के सेवन की सलाह देती हैं। 

Jaggery mein cheeni se zyaada nutrients hote hai
गुड़ में चीनी से ज्‍यादा मिठास और पोषक तत्‍व होते हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक

क्यों खास है गुड़?

गन्ने के रस एवं ताड़ जैसे नेचुरल स्रोतों से प्राप्त गुड़ रिफाइंड शुगर का एक स्वस्थ विकल्प है। यह फाइटोकेमिकल्स और मिनरल्स से भरपूर है। जो इसे रेसपिरेटरी डिसॉर्डर से लड़ने में सक्षम बनाता है। यह अस्थमा, एलर्जी और अन्य रोगों से ग्रस्त लोगों के लिए एक श्रेष्ठ हीलर के रूप में जाना जाता है। 

आयुर्वेद भी करता है गुड़ की सिफारिश 

कई गुणों से भरपूर होने के कारण गुड़ को आयुर्वेद में बहुत महत्व दिया गया है। यह सर्दी-जुकाम, अपच, एसिडिटी, खून की कमी, जैसी परेशानियों से राहत देता है। सर्दियों में गुड़ को औषधि के रूप में इस्तेमाल किया जाता है। आयुर्वेद में गुड़ को सुपरफूड माना गया है। यह श्वसन पथ को साफ करने का सबसे सुलभ और आसान तरीका है। 

साथ ही गुड़ में कई तरह के पोषक तत्व पाए जाते हैं, जो संपूर्ण स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होते हैं। सुबह खाली पेट इसके सेवन से कई फायदे होते हैं। 

तो आइए जानते हैं गुड़ के कुछ और स्वास्थ्य लाभ 

1. वजन को रखे नियंत्रित 

गुड़ चीनी का एक उत्कृष्ट विकल्प है। यह पोटेशियम, मैग्नीशियम, विटामिन बी 1, बी 6 और विटामिन सी में समृद्ध है, जो कैलोरी जलाने में मदद करता है। आप इसका सेवन सुबह उठ कर या फिर रात को सोने से पहले गर्म पानी के साथ कर सकते हैं।

Jaggery ke sewan se weight loss
गुड़ के सेवन से आप वेट लॉस कर सकती हैं। चित्र-शटरस्टॉक

2. नींद की गुणवत्ता को बढ़ाए 

सुबह खाली पेट गुड़ के सेवन से आपके शरीर में ‘हैप्पी हॉर्मोन’ यानि सेरोटोनिन का स्तर बढ़ जाता है। सर्दियों में यह अनिद्रा के इलाज के लिए बेहतरीन घरेलू नुस्खों में से एक है। 

3. इम्युनिटी को मजबूत करता है 

सर्दियों में संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है। ऐसे में मजबूत इम्युनिटी का होना बहुत आवश्यक है। गुड़ का सेवन आपकी इस परेशानी को दूर कर सकता है। गुड़ में ढेर सारा एंटीऑक्‍सीडेंट और मिनरल होता है, जो फ्री रेडिकल के डैमेज से बचा कर इंफेक्‍शन से लड़ता है। गुड़ खून में हीमोग्‍लोबिन की मात्रा को भी बढ़ाता है।

गुड़ की मदद से इस तरह करें अपने फेफड़ों को डी-स्मॉग!

अपने एंटी-अलर्जिक खासियत के कारण गुड़ को फेफड़ों की शुद्धि के लिए इस्तेमाल किया जाता है। यह अस्थमा से भी लड़ने में कारगर है। इसके लिए आप 5 चम्मच हल्दी, 1 चम्मच मक्खन और गुड़ के छोटे टुकड़े को मिलाएं। इसे दिन में 3 से 4 बार खाने पर आपको दमा की बीमारी से राहत मिल सकती है। 

jaggery lungs ki sehat ko badhawa deta hai
गुड़ फेफड़ों के स्वास्थ्य को बढ़ावा देता है। चित्र-शटरस्टॉक.

तो लेडीज, अपनी और अपने परिवार की सेहत का ध्यान रखना है, तो गुड़ को जरूर आहार में शामिल करें। ये बढ़ते प्रदूषण में आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत बना सकता है। 

यह भी पढ़ें: मेरी मम्मी कहती हैं बदलते मौसम में बच्चों की डाइट में जरूर शामिल करें आंवला, मिलेंगे ये 6 फायदे

अदिति तिवारी अदिति तिवारी

फिटनेस, फूड्स, किताबें, घुमक्कड़ी, पॉज़िटिविटी...  और जीने को क्या चाहिए !